साहेबगंज में अगवा कारोबारी की गोली मारकर हत्या, 7 दिन तक हाथ मलते रह गई पुलिस

साहेबगंज में अगवा कारोबारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई

20 जून को कारोबारी अरुण साव का अपहरण (Kidnapping) किया गया था. घटना के एक दिन बात अपहरणकर्ताओं ने परिवारवालों से 30 लाख रुपये की फिरौती (Ransom) की मांग की थी.

  • Share this:
साहेबगंज. झारखंड के साहेबगंज (Sahebganj) में अगवा अनाज व्यवसायी (Kidnapped Businessman) अरुण साह का शव (Dead body) मिलने से सनसनी फैल गई. मृतक 20 जून से लापता था. और परिजनों ने उनके अपहरण होने की आशंका जताई थी. लापता होने के एक दिन बात अपहरणकर्ताओं ने परिवारवालों से 30 लाख रुपये की फिरौती की मांग की थी. रविवार को अरुण साव का शव बोरियो प्रखंड के बरमसिया गांव में मिला. उनकी गोली मारकर हत्या (Murder) कर दी गई. ग्रमीणों की सूचना पर पुलिस बरमसिया गांव पहुंची. पुलिस के साथ परिजन भी थे, जिन्होंने शव की पहचान अरुण साव के रूप में की.

छुड़ाने गये एएसआई को अपराधियों ने मारी गोली 

अगवा कारोबारी के परिजनों से अपहरणकर्ता फोन पर बार-बार फिरौती की मांग कर रहे थे. 30 लाख रुपये नहीं देने पर कारोबारी को जान से मारने की धमकी दी थी. परिजनों ने इस मामले में एक आडियो पुलिस को सौंपा है. परिजनों की शिकायत पर कारोबारी की सुरक्षित बरामदगी के लिए डीएसपी विजय कुजुर के नेतृत्व में पुलिस लगातार छापेमारी अभियान चला रही थी. शनिवार को सुराग मिलने पर पुलिस बरमसिया गांव पहुंची थी, जहां बदमाशों ने एएसआई चंद्राय सोरेन को गोली मार दी. जबकि बरहेट थानाप्रभारी हरीश पाठक को बंदूक की बट से मारकर घायल कर दिया. घायल एएसआई को देर शाम साहेबगंज से एयरलिफ्ट कराकर रांची लाया गया, जहां रिम्स में उनका इलाज चल रहा है.

जांच में खोजी कुत्ते की मदद

डीआईजी नरेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि यह केस पुलिस के लिए चुनौती है. हालांकि बहुत जल्द अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा ने कहा कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस इलाके में कैंप कर रही है. पुलिस घटना से जुड़ी तमाम बिन्दुओं को खंगाल रही है. खोजी कुत्ते की मदद भी जांच में ली जा रही है.

जांच के लिए खोजी कुत्ते को दुमका से मंगाया गया है. पुलिस के मुताबिक कारोबारी को तीन-चार गोली मारकर हत्या की गई है. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया. हालांकि लगातार हो बारिश से पुलिस को जांच आगे बढ़ाने में परेशानी हो रही है.