होम /न्यूज /झारखंड /

साहेबगंज में संथाल लिबरेशन आर्मी के सरगना समेत 3 बदमाशों को ग्रामीणों ने जमकर पीटा, फिर पुलिस के हवाले किया

साहेबगंज में संथाल लिबरेशन आर्मी के सरगना समेत 3 बदमाशों को ग्रामीणों ने जमकर पीटा, फिर पुलिस के हवाले किया

रोहित मुर्मू समेत तीनों बदमाशों का सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है.

रोहित मुर्मू समेत तीनों बदमाशों का सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है.

Sahebganj News: संथाल लिबरेशन आर्मी का सरगना रोहित मुर्मू अपने 6 गुर्गों के साथ गांव पहुंचा था. सभी बदमाश गांव के एक शख्स को जबरदस्ती अपने साथ ले जाने लगे. इससे ग्रामीण उग्र हो गये और सरगना समेत 3 बदमाशों को पकड़कर जमकर पीट डाला. फिर पुलिस के हवाले कर दिया.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट- मिथिलेश कुमार सिंह

साहेबगंज. साहेबगंज के बोरियो विधानसभा क्षेत्र में भाजपा नेता सूर्या नारायण हांसदा के पूर्व चालक कैलाश साह पर हुए हमले के बाद नेशनल संथाल लिबरेशन आर्मी का सरगना रोहित मुर्मू सहित तीन बदमाश भीड़ के हत्थे चढ़ गया. भीड ने तीनों को जमकर पीट डाला. ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया. तीनों को सदर अस्पताल के कैदी वार्ड भर्ती कराया गया है.

बताया जा रहा है कि जेल से हाल में ही छूटे रोहित मुर्मू की सरगर्मी इलाके में बढ़ गयी थी. वह बोरियो के मोती पहाड़ी में अपने 6 गुर्गों के साथ 3 बाइक से पहुंचा था. इस दौरान रोहित व उसके गुर्गों ने कैलाश साह से भिड़ गए. सभी कैलाश को घसीटते हुए साथ ले जा रहे थे. लेकिन शोर शराबा सुनकर ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठी हो गयी. इसके बाद ग्रामीणों ने सभी को खदेड़ कैलाश को मुक्त करा लिया. भागने की कोशिश में रोहित मुर्मू व उसके गुर्गों ने गोली भी चलाई. इसके बावजूद भीड़ ने रोहित, लखीराम और एक अन्य को दबोच लिया. जिसके बाद तीनों को जमकर पीटा गया.

ग्रामीणों ने की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची. ग्रामीणों ने तीनों बदमाशों को पुलिस के हवाले कर दिया. मोतीपहाड़ी के विजय साह ने कहा कि पहले ग्रामीण जानते नहीं थे कि अपराधियों में रोहित मुर्मू भी शामिल है. रोहित का नाम सामने आते ही ग्रामीणों में भय व्याप्त है. वहीं रोहित ने भी ग्रामीणों को देख लेने की धमकी दे डाली है.

रोहित असम के कोकराझार जिले का रहने वाला है. रोहित संथाल लिबरेशन आर्मी के नाम पर पत्थर व्यवसायियों से लेवी वसूलने का काम करता है.

Tags: Jharkhand news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर