लाइव टीवी

घरेलू बोरिंग पर शुल्क, नगर निगम के फैसले से जनता नाराज
Saraikela-Kharsawan News in Hindi

Vikas Kumar | News18 Jharkhand
Updated: May 23, 2018, 5:14 PM IST
घरेलू बोरिंग पर शुल्क, नगर निगम के फैसले से जनता नाराज
आदित्यपुर नगर निगम कार्यालय, सरायकेला खरसावां

रांची नगर निगम आदित्यपुर नगर निगम से काफी बड़ा है. बावजूद इसके वहां घरेलू उपयोग हेतु चार इंच डायमेटर के डीप बोरिंग के लिए न कोई शुल्क लिया जाता है और न ही कोई एनओसी की आवश्यकता होती है.

  • Share this:
सरायकेला में आदित्यपुर नगर निगम बोर्ड ने घरेलू उपयोग में चार इंच डायमेटर का डीप बोरिंग करने पर पांच हजार का शुल्क और व्यवसायिक उपयोग करने हेतु छह इंच डायमेटर के डीप बोरिंग के लिए 25 हजार का शुल्क निर्धारित किया है. आदित्यपुर नगर निगम क्षेत्र में निवास कर रहे करीब तीन लाख लोगों को राहत देने के लिए प्रयासरत आदित्यपुर नगर निगम व जिला प्रशासन का यह फरमान आम लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है. बोर्ड से पारित इस फरमान के आलोक में डीसी छविरंजन ने भी निगम प्रशासन को लोगों को 15 दिनों की मोहलत देते हुए सभी डीप बोरिंग को वैद्य कराने का आदेश दिया है.

वहीं जिला प्रशासन के इस फरमान से परेशान आदित्यपुर की आम जनता की हक की लड़ाई लड़ते हुए जनकल्याण मोर्चा के अध्यक्ष ओमप्रकाश ने आपत्ति जतायी है. उन्होंने रांची नगर निगम बोर्ड द्वारा डीप बोरिंग के लिए वसूले जा रहे शुल्क का हवाला देते हुए कहा कि रांची नगर निगम आदित्यपुर नगर निगम से काफी बड़ा है. बावजूद इसके वहां घरेलू उपयोग हेतु चार इंच डायमेटर के डीप बोरिंग के लिए न कोई शुल्क लिया जाता है और न ही कोई एनओसी की आवश्यकता होती है.

ऐसे में आदित्यपुर नगर निगम प्रशासन का यह फरमान जनहित के खिलाफ है. उन्होंने कहा कि सरकार लोगों को पेयजल मुहैया नहीं करा पा रही है. इस कारण लोग डीप बोरिंग करते हैं तथा किसी तरह एक्वागार्ड लगाकर पानी पीते हैं. उन्होंने इस बाबत डीसी को ज्ञापन सौंप घरेलू उपयोग के डीप बोरिंग हेतु पांच हजार शुल्क लेने के आदेश को वापस लेकर लोगों को राहत देने की अपील की है.



आदित्यपुर नगर निगम प्रशासन के दलील के बीच निगम के उपमहापौर अमित सिंह ने रांची नगर निगम के फैसले के अनुरूप आदित्यपुर में भी लोगों से शुल्क नहीं लेने के फैसले पर पुनर्विचार करने की बात कही है. मालूम हो कि आदित्यपुर की जनता को पिछले कई दशकों से सीतारामपुर डैम से 50 हजार गैलन रोज के हिसाब से पेयजल आपूर्ति कराई जाती है. दशकों बीतने पर आज यहां की जनसंख्या तीन लाख के करीब पहुंच चुकी है. लेकिन पेयजल आपूर्ति के एकमात्र जलस्रोत सीतारामपुर डैम पर ही पेयजल व्यवस्था निर्भर है. न इसका जलक्षेत्र बढ़ा है न ही पेयजल आपूर्ति की मात्रा में इजाफा हुआ है. ऐसे में अक्सर आदित्यपुर में पेयजल संकट गहराने की बात सामने आती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सराईकेला-खरसांवा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2018, 5:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading