मातृ-शिशु मृत्यु दर कम करने के अभियान को अपेक्षित सफलता

महिला के गर्भवती होने के दौरान चरणबद्ध तरीके से चार जांच हो जाने के बाद माता व शिशु की मृत्यु की आशंका काफी कम हो जाती है. माताओं के गर्भवती होने के दौरान चार जांच अनिवार्य रूप से करने की पहल की जाएगी.

Vikas Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 15, 2018, 2:02 PM IST
मातृ-शिशु मृत्यु दर कम करने के अभियान को अपेक्षित सफलता
गर्भवती महिला की चार जांच अनिवार्य की जाएगी.
Vikas Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 15, 2018, 2:02 PM IST
मातृ-शिशु मृत्यु दर को कम करने को लेकर राज्य सरकार के निर्देश पर सरायकेला जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुरू किया गया विशेष प्रसव जांच अभियान का बेहतर परिणाम सामने आ रहा है. जिला स्वास्थ्य विभाग ने पहले चरण में 16 जनवरी से 30 जनवरी तक चलाए गए अभियान के दौरान तय लक्ष्य के अनुरूप 95 प्रतिशत सफलता अर्जित की है. बाकी बचे पांच प्रतिशत गर्भवती माताओं तथा नए शादीशुदा लोगों को पंजीकृत करते हुए जांच करने के लिए आज गुरुवार से 25 फरवरी तक दूसरे चरण का अभियान चलाया जाएगा.

सिविल सर्जन डॉ. एपी सिन्हा ने कहा कि इस अभियान में जिले के सभी नए शादीशुदा व योग्य दंपत्ति की सूची तैयार की जाएगी. वहीं जिलास्तर व प्रखंड स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम व जागरुकता के माध्यम से सभी गर्भवती माताओं की जांच सुनिश्चित करने को लेकर प्रयास किया जाएगा. उन्होंने कहा कि महिला के गर्भवती होने के दौरान चरणबद्ध तरीके से चार जांच हो जाने के बाद मातृ-शिशु मृत्यु की आशंका काफी कम हो जाती है. माताओं के गर्भवती होने के दौरान चार जांच अनिवार्य रूप से करने की पहल की जाएगी.

इसके तहत जीरो से 12 हफ्ते के बीच पहली जांच हर हाल में सुनिश्चित करनी है ताकि तय समय पर चरणबद्ध तरीके से बाकी सभी जांच पूरी हो जाए. इसको लेकर प्रखंड से लेकर जिलास्तर तक नोडल पदाधिकारियों की नियुक्ति की गई है.
News18 Hindi पर Bihar Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Jharkhand News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर