लाइव टीवी

सरायकेला के छऊ नृत्यक शशधर आचार्या को मिला पद्मश्री सम्मान
Saraikela-Kharsawan News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: January 26, 2020, 1:09 PM IST
सरायकेला के छऊ नृत्यक शशधर आचार्या को मिला पद्मश्री सम्मान
छऊ नृत्यक को पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजा गया (फाइल फोटो)

सरायकेला (Saraikela )के छऊ नृत्य के संरक्षण व प्रसार के लिए किए गए उत्कृष्ट कार्यों के लिए शशधर आचार्या (Shashadhar Acharya )को पद्मश्री सम्मान (Padma Shri Award) से नवाजा गया है.

  • Share this:
सरायकेला. झारखंड के सरायकेला (Saraikela )के छऊ नृत्य के संरक्षण व प्रसार के लिए किए गए उत्कृष्ट कार्यों के लिए शशधर आचार्या (Shashadhar Acharya )को पद्मश्री सम्मान (Padma Shri Award) से नवाजा गया है. शशधर आचार्य सराइकेला छऊ से पद्मश्री पाने वाले सातवें गुरू हैं.  वे अपने परिवार की पांचवीं पीढी हैं, जो छऊ नृत्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है. उनके पूर्वज ओडिशा (Odisha) के रहने वाले थे. बता दें कि शशधर आचार्य राजकीय छऊ नृत्य कला केंद्र के निदेशक भी रह चुके हैं. वहीं छऊ नृत्यक शशधर आचार्या को पद्मश्री मिलने से सराय केला के छऊ प्रेमियों के बीच खुशी की लहर है.

50 देशों में छऊ नृत्य की कला का प्रदर्शन कर चुके हैं शशधर आचार्या 

शशधर 50 देशों में छऊ नृत्य की कला का प्रदर्शन कर चुके हैं. वे दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (National School of Drama) में छऊ की ट्रेनिंग देते हैं. साथ ही पुणे के नेशनल स्कूल ऑफ फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट (National School of Film and Television Institute) में भी जाकर क्लास लेते हैं. शशधर आचार्या 1990 से 1994 तक राजकीय छऊ नृत्य कला केंद्र सरायकेला के निदेशक रहे और फिर स्टडी लीव के लिए वहां से निकले तो आज तक ज्वॉइन नहीं किया फिर किसी अन्य को वहां का निदेशक बनाया गया.

अपने शिष्यों को छऊ नृत्य का प्रशिक्षण देते शशधर आचार्या (फाइल फोटो)
अपने शिष्यों को छऊ नृत्य का प्रशिक्षण देते शशधर आचार्या (फाइल फोटो)


5 वर्ष की उम्र से ही छऊ नृत्य से जुड़ गए थे शशधर आचार्या 

अभी वर्तमान में आचार्या छऊ नृत्य विचित्रा के नाम से सराय केला तथा दिल्ली में उनकी संस्था चलती है. वे अपने परिवार की पांचवीं पीढी हैं और वह 5 वर्ष से ही छऊ नृत्य से जुड़ गए थे. अभी वह दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा तथा पुणे के फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया में भी पढ़ाते हैं. वे फिलहाल नई दिल्ली के पर्यावरण एंक्लेव में रहते हैं. उनकी पत्‍‌नी हेलेना आचार्या (Helena Acharya) भी कला से जुड़ी हैं. मूल रूप से बेंगलुरू (Bengaluru) की दिल्ली में पली-बढ़ी हेलेन संगीत नाट्य अकादमी (Sangeet Natya Academy) की सचिव थीं. अभी हेलेना केंद्र सरकार के डांस विभाग की उपसचिव हैं. गौरतलब है कि अब तक सरायकेला के 6 लोगों को पद्मश्री मिल चुका है.

यह भी पढ़ें- देश का पहला ऐसा राज्य होगा झारखंड, जहां एक राजधानी और चार उपराजधानियां होंगी!यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस पर सीएम हेमंत सोरेन का सख्त संदेश- भीड़तंत्र के आगे नहीं झुकेगी सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सराईकेला-खरसांवा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 26, 2020, 1:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर