होम /न्यूज /झारखंड /केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा बोले- सिमडेगा मॉब लिंचिंग के पीछे कौन सी ताकत सरकार लगाए पता

केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा बोले- सिमडेगा मॉब लिंचिंग के पीछे कौन सी ताकत सरकार लगाए पता

सिमडेगा मॉब लिंचिंग पर बीजेपी हेमंत सरकार पर हमलावर बनी हुई है.

सिमडेगा मॉब लिंचिंग पर बीजेपी हेमंत सरकार पर हमलावर बनी हुई है.

Simega Mob Lynching: केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि सिमडेगा की घटना एक सुनियोजित घटना है. जिस तरह से पत्नी के ...अधिक पढ़ें

सिमडेगा. सिमडेगा मॉब लिंचिंग पर झारखंड में सियासत गर्म है. बीजेपी लगातार हेमंत सरकार पर हमलावर बनी हुई है. पार्टी के नेता लगातार पीड़ित परिवार से मुलाकात कर कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रहे हैं. इसी कड़ी में सोमवार को केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा बेसराजरा गांव पहुंचकर पीड़ित परिवार से मुलाकात की. और घटना की जानकारी ली.

पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना एक सुनियोजित घटना है. जिस तरह से पत्नी के सामने ही पुलिस तंत्र की मौजूदगी में संजू को जिंदा जलाकर मार दिया गया, इससे स्पष्ट होता है कि राज्य में सुरक्षा तंत्र पूरी तरह विफल है. इससे राज्य में कानून व्यवस्था पर बड़ा प्रश्नचिन्ह लग गया है. ऐसे में सरकार एवं पुलिस घटना के तह में जाकर यह पता लगाए कि बेसराजरा घटना के पीछे कौन सी ताकत थी.

उन्होंने कहा कि घटना से पूर्व एक सभा की गई थी. इसमें सरकार के लोग भी शामिल हुए थे. इसके बाद मॉब लिंचिंग की घटना को अंजाम दिया गया, जो अत्यंत निंदनीय है. प्रशासन को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि भविष्य में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति ना हो. साथ ही घटना में शामिल दोषियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए.

मृतक संजू की पत्नी ने केन्द्रीय मंत्री को बताया कि घटना वाले दिन एक हत्या नहीं हुई, बल्कि उसके पेट में पल रहा दो माह का बच्चा भी मार खाने से खराब हो गया. इधर, पुलिस ने इस मामले में अबतक 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. 13 नामजद और 25 अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर जांच चल रही है.

बता दें कि सिमडेगा के बेसराजारा गांव में बीते 4 जनवरी को ग्रामीणों की भीड़ ने बीजेपी कार्यकर्ता संजू प्रधान को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया, फिर जिंदा जला दिया. बीजेपी इस मामले में सीबीआई जांच की मांग कर रही है. पार्टी नेताओं का सिमडेगा दौरा जारी है.

Tags: Arjun munda, Jharkhand news, Mob lynching

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें