लाइव टीवी

आज होगी हेमंत सोरेन-अरविंद केजरीवाल मुलाकात, क्या होगी बात!
Ranchi News in Hindi


Updated: January 3, 2020, 11:34 AM IST
आज होगी हेमंत सोरेन-अरविंद केजरीवाल मुलाकात, क्या होगी बात!
bbbbb

सियासी गलियारे में यह चर्चा गर्म है कि क्या दिल्ली में एक बार फिर कांग्रेस झारखंड का फार्मूला अपनाएगी. और क्या हेमंत सोरेन इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे.

  • Last Updated: January 3, 2020, 11:34 AM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Jharkhand cm hemant soren) शुक्रवार शाम दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (delhi cm arvind kejriwal) से मुलाकात करेंगे. चार दिन पहले हेमंत सोरेन की शपथ ग्रहण समारोह में केजरीवाल को छोड़कर समूचा विपक्ष एकजुट (opposition unity) हुआ था. अगले महीने दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव (delhi assembly election) में केजरीवाल की आम आदमी पार्टी (aam aadmi party) का मुकाबला सोरेन की सहयोगी कांग्रेस से भी होना है. ऐसे में सियासी गलियारे में यह चर्चा गर्म है कि क्या दिल्ली में एक बार फिर कांग्रेस झारखंड का फार्मूला अपनाएगी. और क्या हेमंत सोरेन इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे.

मुख्यमंत्री बनने के बाद हेमंत सोरेन पहली बार दिल्ली आ रहे हैं. दिल्ली में अपने पहले ही दिन वो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से उनके आवास पर मुलाकात करेंगे. यह मुलाकात शाम 7 बजकर 15 मिनट पर होनी है.

झारखंड मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी कार्यक्रम में यूं तो इसे एक शिष्टाचार भेंट बताया गया है. लेकिन राजनीति में कहा जाता है कि जब दो नेता मिलते हैं तब वो राजनीति की ही बात करेंगे. वो भी तब जब एक महीने बाद दिल्ली में चुनाव होने हैं.

झारखंड विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने खुद की भूमिका छोटी करके झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व में चुनाव लड़ा. इस महागठबंधन में लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल भी शामिल थी. यहां गठबंधन ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को हराकर सरकार बनाई.

बिहार के पिछले विधानसभा चुनाव में केजरीवाल ने महागठबंधन की रैली के दौरान लालू यादव के साथ मंच साझा किय था. इस मंच पर कांग्रेस के नेता भी मौजूद थे. सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में आम आदमी  पार्टी ने अपने सांसद संजय सिंह को शिरकत करने भेजा था.

इसी तरह महाराष्ट्र में भी कांग्रेस ने शिवसेना का नेतृत्व स्वीकार किया और प्रदेश में चौथे नंबर की पार्टी होते हुए भी सरकार बनाने में सफल रही. जानकारो का मानना है कि कांग्रेस को अब राज्यों में स्थानीय छोटे दलों से गठबंधन करने में किसी भी तरह का अहंकार नहीं करना चाहिए.

सूत्रों की माने तो सोरेन कांग्रेस के झारखंड फार्मूले को लेकर केजरीवाल का मन टटोल सकते हैं. यह भी संभव है कि कांग्रेस ही सोरेन के रास्ते दिल्ली में भी अपनी वापसी चाहती हो. क्योंकि यहां केजरीवाल की स्थिति मजबूत लग रही है.अब देखना यह है कि आखिर सोरेन केजरीवाल की इस मुलाकात से क्या परिणाम निकलता है. मुख्यमंत्री आवास से जारी कार्यक्रम में सोरेन को 5 बजे राष्ट्रपति कोविंद और फिर इसके बाद 5.45 बजे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से भी शिष्टाचार मुलाकात करनी है.

यह भी पढ़ें:

चुनावी मैदान में भाई से हुआ मुकाबला अब सदन में ससुर होंगे निशाने पर

कश्मीर में ड्यूटी के दौरान जवान की मौत, एक दिन बाद कुंए में मिला पत्नी का शव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 3, 2020, 11:34 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर