चाईबासा एएसपी पर बड़ी कार्रवाई, नक्सलियों से सांठगांठ होने पर छीने सारे अधिकार
West-Singhbum News in Hindi

चाईबासा एएसपी पर बड़ी कार्रवाई, नक्सलियों से सांठगांठ होने पर छीने सारे अधिकार
चाईबासा एएसपी पर बड़ी कार्रवाई, नक्सलियाें से सांठगांठ होने पर छीने सारे अधिकार

चाईबासा में मतदान से एक दिन पहले 11 मई को बड़ी कार्रवाई की गई है. एएसपी मनीष रमण की नक्सलियाें से सांठगांठ और बातचीत करने का खुलासा हुआ है.

  • Share this:
झारखंड के चाईबासा में मतदान से एक दिन पहले 11 मई को बड़ी कार्रवाई की गई है. चाईबासा के एएसपी मनीष रमण की नक्सलियाें से सांठगांठ और बातचीत करने का खुलासा हुआ है. काॅल इंटरेक्शन में यह मामला सामने आया है. खुफिया एजेंसी ने पुलिस मुख्यालय काे इसकी सूचना दी है. मुख्यालय ने अगले आदेश तक एएसपी से सभी अधिकार छीन लिए हैं.

राज्य निर्वाचन आयाेग से मनीष रमण काे इस पद से हटाने और नए पदस्थापन की अनुमति मांगी गई है. यह मामला गृह विभाग में भी आया था, लेकिन साक्ष्य के अभाव में गृह विभाग ने काेई कार्रवाई नहीं की. चाईबासा में 12 मई काे लाेकसभा चुनाव के लिए मतदान हाे रहा है. हालांकि उनकी नक्सलियाें से क्या बातचीत हाेती थी, इसका खुलासा अभी नहीं हाे पाया है. इस पर पुलिस विभाग का काेई भी अधिकारी कुछ भी बाेलने से परहेज कर रहा है.

एएसपी अभियान मनीष रमण चाईबासा में 4 साल से जमे हुए हैं. बता दें कि चुनाव से ठीक एक दिन पहले 11 मई को राज्य निर्वाचन आयाेग ने साफ निर्देश दिया था कि 3 साल से एक ही पद पर जमे अफसराें का ट्रांसफर किया जाए. बावजूद इसके पुलिस मुख्यालय ने उनका ट्रांसफर नहीं किया.



झारखंड में पुलिस अफसर और नक्सलियों के बीच सांठगांठ का यह पहला मामला सामने आया है. मालूम हो कि चाईबासा नक्सल प्रभावित जिला है. ऐसे में जिले के एएसपी अभियान का नक्सलियों के साथ संबंध हाेना गंभीर है. एएसपी अभियान का पद नक्सल जिलाें में इसलिए लगाया गया था ताकि नक्सल सर्च अभियान काे सुचारू रूप से चलाया जा सके.
ये भी पढ़ें:- आजसू प्रत्याशी मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी की गाड़ी पर हमला, जेएमएम कार्यकर्ताओं पर आरोप

ये भी पढ़ें:- लोकसभा चुनाव: छठे चरण के आधे प्रत्याशी नहीं गए कॉलेज!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज