ट्रेन में रेप के मामले में 24 घंटे बाद भी FIR नहीं, घटना को दबाने की कोशिश

पीड़ित युवती की हालत अभी भी खराब है. वह कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है. चक्रधरपुर रेलवे अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है.

News18 Jharkhand
Updated: October 11, 2018, 10:51 AM IST
ट्रेन में रेप के मामले में 24 घंटे बाद भी FIR नहीं, घटना को दबाने की कोशिश
अस्पताल में पीड़िता की हालत गंभीर
News18 Jharkhand
Updated: October 11, 2018, 10:51 AM IST
हावड़ा-मुबंई रेलखंड पर चक्रधरपुर और जमशेदपुर के बीच पैसेंजर ट्रेन में युवती के साथ रेप के मामले में पुलिस की कार्रवाई बेहद धीमी चाल से चल रही है. मामले में एक दिन बीत जाने के बाद भी प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है. पीड़िता का मेडिकल टेस्ट भी नहीं कराया गया है.

इस मामले में जीआरपी, आरपीएफ और स्थानीय थाना अपने स्तर से जांच में जुटे हुए हैं. लेकिन किसी निष्कर्ष तक नहीं पहुंचे हैं. सभी एक-दूसरे पर थोपने और मामले को किसी तरह दबाने का प्रयास कर रहे हैं. चक्रधरपुर रेलमंडल के डीआरएम छत्रसाल ने इस मामले को रेलवे का मामला ना बताते हुए सीधे तीनों सुरक्षा एजेंसियों पर थोप दिया है.

उधर पीड़ित युवती की हालत अभी भी खराब है. वह कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है. चक्रधरपुर रेलवे अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है. लेकिन उसकी हालात में खास सुधार नहीं हुई है. तीनों सुरक्षा एजेंसी युवती के होश में आने की प्रतीक्षा कर रही हैं. हालांकि चक्रधरपुर महिला थाना प्रभारी ने युवती की स्थिति देखने के बाद मेडिकल कराने का निर्देश दिया है.

दरअसल पीड़ित युवती आरपीएफ के ही एक जवान की बेटी है. इसलिए मामले को दबाने की पूरजोर कोशिश हो रही है. जीआरपी के डीएसपी राममनोहर शर्मा ने कहा कि पैसेंजर ट्रेन से अचेत अवस्था में युवती मिली थी और उसने रेलवे के डॉक्टर को कागज पर लिखकर रेप की बात कही. लेकिन पुलिस इसे सही नहीं मान रही. डीएसपी ने कहा कि पर्ची में युवती का हस्ताक्षर नहीं है. हालांकि जांच चल रही है.

हालांकि कोल्हान के डीआईजी ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए रेल एसपी को जल्द प्राथमिकी दर्ज कराने और मेडिकल टेस्ट कराने का निर्देश दिया है.

(उपेन्द्र गुप्ता की रिपोर्ट)  

ये भी पढ़ें- ट्रेन में युवती के साथ रेप, अस्पताल में पर्ची पर लिखकर बताई आपबीती
Loading...

मानव तस्करी की शिकार पहाड़िया बच्ची की रिम्स में मौत

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर