सिंहभूम सीट पर जीतकर गीता कोड़ा ने रचा ये इतिहास
West-Singhbum News in Hindi

सिंहभूम सीट पर जीतकर गीता कोड़ा ने रचा ये इतिहास
गीता कोड़ा

गीता कोड़ा ने सिंहभूम सीट पर जीत दर्ज कर यहां से पहली महिला सांसद बनने का रिकॉर्ड कायम किया है. सिंहभूम सीट पर गीता कोड़ा ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को 72 155 मतों से हराया है.

  • Share this:
पहले मधु कोड़ा ने निर्दलीय विधायक से मुख्यमंत्री बनकर झारखंड में इतिहास रचा. अब
उनकी पत्नी गीता कोड़ा ने सिंहभूम सीट पर जीत दर्ज कर यहां से पहली महिला सांसद बनने का रिकॉर्ड कायम किया है. सिंहभूम सीट पर गीता कोड़ा ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को 72 155 मतों से हराया है. गीता को 431815 और गिलुवा को 359660 वोट मिले. इस जीत के साथ गीता कोड़ा ने कोल्हान की पहली महिला आदिवासी सांसद बनने का भी इतिहास अपने नाम कर लिया है.

गीता कोड़ा ने कहा कि उन्होंने इतिहास नहीं रचा, बल्कि जनता और कार्यकर्ताओं ने इतिहास रचा है. गीता कोड़ा की जीत के मुख्य रणनीतिकार रहे पति मधु कोड़ा कहते हैं कि इस रिकॉर्ड के लिए सारा श्रेय जनता और कार्यकर्ताओं को जाता है.

गीता कोड़ा जीत के बाद चाईबासा पोस्ट ऑफिस चौक पर देर रात तक कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जश्न मनाया. खुद पूर्व सीएम मधु कोड़ा डांस करते नजर आए. बाद में गीता कोड़ा भी वहां पहुंचकर समर्थकों व कार्यकर्ताओं का अभिवादन स्वीकार किया. गीता कोड़ा ने भी महिला कार्यकर्ताओं के साथ आदिवासी पारंपरिक नृत्य किये.
गौरतलब है कि सिंहभूम लोकसभा सीट पर 12 मई को छठे चरण में मतदान हुआ था. इस दौरार लोगों ने बंपर वोटिंग की. यहां 68.66 फीसदी मत पड़े. कुल 9 प्रत्याशी मैदान में थे. इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में लक्ष्मण गिलुवा ने गीता कोड़ा को हराया था.



चुनावी इतिहास 

1957 से लेकर 1977 तक इस सीट पर झारखंड पार्टी का दबदबा रहा. 1957 में शंभू चरण, 1962 में हरी चरण सोय, 1967 में कोलाई बिरुआ, 1971 में मोरन सिंह पूर्ति और 1977 में बागुन संब्रुई जीते. 1980 में बागुन संब्रुई ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया और चुनाव जीतकर फिर संसद पहुंचे. इसके बाद वह 1984 और 1989 का चुनाव भी जीते. यानि बागुन संब्रुई इस सीट से लगातार चार बार सांसद बने.

1991 में झारखंड मुक्ति मोर्चा के कृष्णा मार्डी जीते. 1996 में पहली बार इस सीट पर बीजेपी का खाता खुला. बीजेपी के टिकट पर चित्रसेन सिंकू जीते. 1998 में कांग्रेस ने वापसी की और विजय सिंह सोय जीते. 1999 में बीजेपी के टिकट पर लक्ष्मण गिलुवा जीतने में कामयाब हुए. एक बार फिर इस सीट से बागुन संब्रुई सांसद बने. 2004 में वह कांग्रेस के टिकट पर पांचवीं बार संसद पहुंचे. 2009 में इस सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मधु कोड़ा जीते. 2014 के चुनाव में बीजेपी के लक्ष्ण गिलुवा जीते. लेकिन इस सीट से एक बार भी महिला प्रत्याशी नहीं जीत पाईं.

इनपुट- उपेन्द्र गुप्ता

ये भी पढ़ें- Singhbhum Lok Sabha Election result 2019: लक्ष्मण गिलुवा हारे, दे सकते हैं प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष पद से इस्तीफा

सिंहभूम लोकसभा सीट: क्या गीता कोड़ा तोड़ पाएंगी ये मिथक या गिलुवा तीसरी बार मार लेंगे बाजी

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading