Singhbhum Lok Sabha Election result 2019: लक्ष्मण गिलुवा हारे, दे सकते हैं प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष पद से इस्तीफा

सिंहभूम सीट पर झारखंड बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा चुनाव हार गये हैं. कांग्रेस की गीता को़ड़ा ने उन्हें परास्त किया है. गिलुवा को 359159 और गीता कोड़ा को 431545 वोट मिले.

News18 Jharkhand
Updated: May 23, 2019, 9:28 PM IST
Singhbhum Lok Sabha Election result 2019: लक्ष्मण गिलुवा हारे, दे सकते हैं प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष पद से इस्तीफा
लक्ष्मण गिलुवा (फाइल फोटो)
News18 Jharkhand
Updated: May 23, 2019, 9:28 PM IST
झारखंड बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा सिंहभूम सीट से चुनाव हार गये हैं. कांग्रेस की गीता को़ड़ा ने उन्हें परास्त किया है. इसी के साथ गीता कोड़ा सिंहभूम से पहली महिला सांसद बनकर इतिहास रचा है. गीता कोड़ा ने इस जीत का श्रेय जनता व कार्यकर्ताओं को दिया. उधर, लक्ष्मण गिलुवा ने अपनी हार की जिम्मेवारी खुद ली है. उन्होंने कहा कि आलाकमान का आदेश होगा, तो प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा तुरंत दे दूंगा. गिलुवा को 359159 और गीता कोड़ा को 431545 वोट मिले.

सिंहभूम लोकसभा सीट पर 12 मई को छठे चरण में वोटिंग हुई थी. यहां बंपर वोटिंग के तहत 68.66 फीसदी मतदान हुआ था. यहां 9 प्रत्याशी मैदान में थे. इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में गिलुवा ने गीता कोड़ा को हराया था. 1999 में वह पहली बार सिंहभूम से चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे. तब उन्होंने कांग्रेस के विजय सिंह सोय को हराया था. गिलुवा 2009 में झारखंड विधानसभा और 1995 में बिहार विधानसभा के भी सदस्य चुने गए. ताला मरांडी के बाद उन्हें 2016 में झारखंड बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया.

लक्ष्मण गिलुवा का जन्म 20 दिसंबर 1964 को पश्चिम सिंहभूम के जांता में हुआ. पिता स्वर्गीय श्री दंसार गिलुवा किसान थे. माता गुरबरी कुई गिलुवा गृहणी थीं. पत्नी मालती गिलुवा से इनके दो बच्चे हैं. गांव में स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद गिलुवा रांची विश्वविद्यालय से बी कॉम की डिग्री की हासिल की. इसके बाद वह सियासत की ओर मुड़े.

गिलुवा 1991 में केरल के एर्नाकुलम में जिला परिषद सदस्य बने. 1995 से 1999 तक वह बिहार विधानसभा के सदस्य रहे. 1999 में पहली बार सांसद बनने के बाद 1999 से 2000 तक वह पर्यावरण और वन संबंधी स्थायी समिति के सदस्य रहे. 2000 से 2004 तक रेल मंत्रालय के परामर्शदात्री समिति के सदस्य रहे. 2009 में विधायक बनने के बाद झारखंड विधानसभा के मुख्य सचेतक भी रहे. 2014 में दूसरी बार सांसद बनने के बाद गिलुवा को टेबल पर पत्रों की संख्या पर समिति का सदस्य बनाया गया. वह विज्ञान और प्रौद्योगिकी समिति के भी सदस्य रहे. इस्पात और खान मंत्रालय के परामर्शदात्री समिति के भी सदस्य बने.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पश्चिमी सिंहभूम से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2019, 9:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...