सिंहभूम लोकसभा सीट: क्या गीता कोड़ा तोड़ पाएंगी ये मिथक या गिलुवा तीसरी बार मार लेंगे बाजी

News18 Jharkhand
Updated: May 10, 2019, 1:01 PM IST
सिंहभूम लोकसभा सीट: क्या गीता कोड़ा तोड़ पाएंगी ये मिथक या गिलुवा तीसरी बार मार लेंगे बाजी
सिंहभूम लोकसभा सीट

सिंहभूम सीट पर पिछली बार की तरह इस बार भी सीधी टक्कर लक्ष्मण गिलुवा और गीता कोड़ा में ही है. दोनों हो जाति से ही आते हैं. ऐसे में किसी की भी जीत हो, 'हो' मिथक टूटने वाला नहीं है.

  • Share this:
सिंहभूम लोकसभा सीट पर चुनावी दंगल में प्रमुख दावेदारों के चेहरे तो पुराने हैं, पर खेमा बदला हुआ है. पिछली बार दूसरे नंबर पर रहीं गीता कोड़ा इस बार पति मधु कोड़ा की पार्टी जय भारत समानता के बदले कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर मैदान हैं. वहीं बीजेपी की ओर प्रदेश अध्यक्ष व सीटिंग सांसद लक्ष्मण गिलुवा तीसरी बार मैदान मारने में जुटे हैं. नये सियासी समीकरण के बीच यहां बीजेपी और कांग्रेस प्रत्याशी के बीच मुकाबला कांटे का है.

सीट से जुड़े हैं कई दिलचस्प मिथक

सिंहभूम लोकसभा सीट से कई दिलचस्प मिथक जुड़े हुए हैं. आज तक यहां से केवल 'हो जाति' के ही उम्मीदवार ही जीतते रहे हैं. वहीं यहां की जनता ने कभी किसी महिला प्रत्याशी को नहीं जिताया है. पूर्व सांसद बागुन सुम्ब्रई के अलावा यहां पर किसी को लगातार जीत नहीं मिली है. सीटिंग सांसद लक्ष्मण गिलुवा दो बार 1999 व 2014 में यहां पर जीत हासिल की. लेकिन वह भी लगातार नहीं जीत पाये.

बीजेपी प्रत्याशी लक्ष्मण गिलुवा


टूट सकते हैं ये मिथक 

सिंहभूम सीट पर पिछली बार की तरह इस बार भी सीधी टक्कर लक्ष्मण गिलुवा और गीता कोड़ा में ही है. दोनों हो जाति से ही आते हैं. ऐसे में किसी की भी जीत हो, 'हो' मिथक टूटने वाला नहीं है. अगर गीता कोड़ा जीतीं, तो महिला प्रत्याशी के ना जीतने का मिथक जरूर टूट जाएगा. वहीं अगर गिलुवा के पाले में गेंद गया, तो वह बागुन सुम्ब्रई के बाद लगातार चुनाव जीतने वाले दूसरे नेता बन जाएंगे.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ गीता कोड़ा

Loading...

पूर्व सीएम मधु कोड़ा रहे चुके हैं सांसद

बदले सियासी समीकरण में महागठबंधन प्रत्याशी गीता कोड़ा के हौसले काफी बुलंद हैं. उन्हें जेएमएम, जेवीएम और आरजेडी का भरपूर साथ मिला है. इस लोकसभा क्षेत्र में 6 विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें पांच पर जेएमएम और एक पर खुद गीता कोड़ा का कब्जा है. शुरुआत में यह सीट झारखंड पार्टी का गढ़ थी, लेकिन समय के साथ यहां कांग्रेस ने पांव पसारा और उसके प्रत्याशी कई बार जीते. इस सीट से झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा भी निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव जीत चुके हैं.

चुनावी इतिहास 

1957 से लेकर 1977 तक इस सीट पर झारखंड पार्टी का दबदबा रहा. 1957 में शंभू चरण, 1962 में हरी चरण सोय, 1967 में कोलाई बिरुआ, 1971 में मोरन सिंह पूर्ति और 1977 में बागुन संब्रुई जीते. 1980 में बागुन संब्रुई ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया और चुनाव जीतकर फिर संसद पहुंचे. इसके बाद वह 1984 और 1989 का चुनाव भी जीते. यानि बागुन संब्रुई इस सीट से लगातार चार बार सांसद बने.

1991 में झारखंड मुक्ति मोर्चा के कृष्णा मार्डी जीते. 1996 में पहली बार इस सीट पर बीजेपी का खाता खुला. बीजेपी के टिकट पर चित्रसेन सिंकू जीते. 1998 में कांग्रेस ने वापसी की और विजय सिंह सोय जीते. 1999 में बीजेपी के टिकट पर लक्ष्मण गिलुवा जीतने में कामयाब हुए. एक बार फिर इस सीट से बागुन संब्रुई सांसद बने. 2004 में वह कांग्रेस के टिकट पर पांचवीं बार संसद पहुंचे. 2009 में इस सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मधु कोड़ा जीते. 2014 के चुनाव में बीजेपी के लक्ष्ण गिलुवा जीते.

अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट

सिंहभूम लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट है. यह सीट सरायकेला- खरसावां और पश्चिमी सिंहभूम जिले में फैली हुई है. यह इलाका रेड कॉरिडोर का हिस्सा है. इस सीट पर अनुसूचित जनजाति का दबदबा है. उरांव, संताल समुदाय, महतो (कुरमी), प्रधान, गोप, गौड़ समेत कई अनुसूचित जनजातियां, इसाई व मुस्लिम मतदाता यहां निर्णायक भूमिका निभाते हैं. 2014 के चुनाव में बीजेपी को अनुसूचित जनजातियों की गोलबंदी के कारण जीत मिली थी. इस सीट के अंतर्गत सरायकेला, चाईबासा, मंझगांव, जगन्नाथपुर, मनोहरपुर और चक्रधरपुर विधानसभा सीटें आती हैं. ये सभी सीटें भी अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं. इनमें से जगन्नाथपुर से गीता कोड़ा विधायक हैं. बाकी पांच पर जेएमएम का कब्जा है. यहां कुल मतदाता 11.52 लाख हैं. इनमें से 5.83 लाख पुरुष और 5.69 लाख महिला वोटर्स शामिल हैं. 2014 में यहां पर 69 फीसदी मतदान हुआ था.

ये भी पढ़ें- गिरिडीह लोकसभा सीट: चंद्रप्रकाश चौधरी और जगरनाथ महतो की जंग में कौन मारेगा बाजी

धनबाद लोकसभा सीट: 15 साल बाद कांग्रेस की नैया पार लगा पाएंगे कीर्ति?

जमशेदपुर लोकसभा सीट: जेएमएम के 'टाइगर' के सामने टिक पाएंगे बीजेपी के विद्युत?

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पश्चिमी सिंहभूम से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 10, 2019, 1:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...