बाल-बाल बची मुंबई-हावड़ा सुपरफास्ट मेल, माल डिब्बे का फर्श टूटकर पटरी पर गिरा

News18 Jharkhand
Updated: June 25, 2019, 3:22 PM IST
बाल-बाल बची मुंबई-हावड़ा सुपरफास्ट मेल, माल डिब्बे का फर्श टूटकर पटरी पर गिरा
बाल- बाल बची मुंबई-हावड़ा सुपरफास्ट मेल

तेज रफ्तार से जा रही सुपरफास्ट ट्रेन के माल डिब्बे का फर्श अचानक नीचे पटरी पर ढह गया. इसके कारण माल डिब्बे में बीच से दरार आ गई. यह डिब्बा ईंजन से लगा हुआ था.

  • Share this:
रेलवे सुरक्षित यात्रा का लाख दावा करे, लेकिन रोज लापरवाही की वजह से यात्रियों की जान सांसत में पड़ जाती है. ताज़ा मामला चक्रधरपुर रेल मंडल का है. चक्रधरपुर रेल मंडल में सोमवार देर रात बड़ा हादसा होते- होते टल गया. लोटापहाड़ और सोनुआ स्टेशन के बीच 12809 मुंबई-हावड़ा सुपरफास्ट मेल एक्सप्रेस दुर्घटना का शिकार होते-होते बची.

माल डिब्बे का टूटा फर्श

दरअसल तेज रफ्तार से जा रही सुपरफास्ट ट्रेन के माल डिब्बे का फर्श अचानक नीचे पटरी पर ढह गया. इसके कारण माल डिब्बे में बीच से दरार आ गई. यह डिब्बा ईंजन से लगा हुआ था. इससे अचानक ट्रेन की रफ़्तार धीमी हो गयी. इससे पहले कि लोग कुछ समझ पाते डिब्बे का वेक्यूम पाइप फट गया और ट्रेन एकाएक रूक गयी.

बड़ा हादसा टला 

जब गार्ड और ड्राइवर ने बाहर निकलकर माल डिब्बे की हालत देखी, तो उनके होश उड़ गए. माल डिब्बे का फर्श नीचे ढह चुका था और डिब्बे में रखा माल नीचे गिर रहा था. डिब्बा पूरी तरह बीच से क्रेक कर चूका था. अगर डिब्बा रफ्तार के दौरान टूटकर अलग हो जाती, तो बड़ा हादसा हो सकता था.

गेट काटकर निकाला गया सामान 

घटना की सूचना पर चक्रधरपुर स्टेशन से रिलीफ ट्रेन और अधिकारी मौके पर पहुंचे. माल डिब्बे को ट्रेन से अलग किया गया. उसके बाद लोटापहाड़ स्टेशन पर गैस कटर से माल डिब्बे के गेट को काटकर अंदर के सामान को बाहर निकाला गया. बाद में ट्रेन को वापस सोनुआ लाया गया, जहां पूरी ट्रेन की जांच के बाद उसे सुबह छह बजे हावड़ा के लिए रवाना किया गया.
Loading...

डिब्बा पुराना और कमजोर 

रेलवे अधिकारी के माने तो एक बड़ा हादसा टल गया. चक्रधरपुर रेल मंडल के माल ढुलाई वाणिज्य प्रबंधक अर्जुन मजुमदार ने कहा कि माल डिब्बे में तय सीमा से अधिक माल लोड किये जाने की आशंका है. डिब्बा पुराना और कमजोर हो चूका था. सभी बिन्दुओं पर जांच की जा रही है. इस घटना के कारण मुंबई- हावड़ा मेल चक्रधरपुर में पांच घंटे तक रुकी रही.

रिपोर्ट- उपेन्द्र गुप्ता

ये भी पढ़ें- अंबिकापुर से गढ़वा आ रही बस खाई में गिरी, 7 की मौत, 43 यात्री घायल

मां की मौत का सदमा बर्दाश्त नहीं कर सका बेटा, खुद भी फंदे से झूलकर दे दी जान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पश्चिमी सिंहभूम से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 25, 2019, 2:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...