Home /News /jharkhand /

चाईबासा: हत्या के 4 आरोपियों को अदालत ने दोषी करार दिया, आजीवन कारावास की सुनाई सज़ा

चाईबासा: हत्या के 4 आरोपियों को अदालत ने दोषी करार दिया, आजीवन कारावास की सुनाई सज़ा

सरकारी वकील ने बताया कि आरोप था कि रोयाराम मुंडा ने अपने चाचा मंगला की हत्या कराने के लिए अन्य तीन आरोपियों को 10 लाख रूपये की सुपारी दी थी, राशि का भुगतान हत्या के बाद किया जाना था (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सरकारी वकील ने बताया कि आरोप था कि रोयाराम मुंडा ने अपने चाचा मंगला की हत्या कराने के लिए अन्य तीन आरोपियों को 10 लाख रूपये की सुपारी दी थी, राशि का भुगतान हत्या के बाद किया जाना था (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Jharkhand News: सरकारी वकील ने बताया कि इस हत्याकांड में न्यायालय ने विक्रम बोदरा, मंजुरा बोदरा उर्फ नेगरो, अमृत आल्डा एवं रोयाराम मुंडा को शुक्रवार को दोषी करार देने के बाद आजीवन कारावास की सजा सुनायी. उन्होंने बताया कि आरोप था कि रोयाराम मुंडा ने अपने चाचा मंगला की हत्या कराने के लिए अन्य तीन आरोपियों को 10 लाख रूपये की सुपारी दी थी, राशि का भुगतान हत्या के बाद किया जाना था

अधिक पढ़ें ...

चाईबासा. झारखंड में पश्चिमी सिंहभूम (West Singhbhum) जिले की एक अदालत ने पैसे लेकर हत्या (सुपारी किलिंग) करने के तीन आरोपियों सहित चार लोगों को हत्या (Murder) के एक मामले में दोषी करार दिया है. कोर्ट ने इन चारों दोषियों को आजीवन कारावास (Life Imprisonment) की सजा सुनायी है. मामले के सरकारी वकील ने शनिवार को इसकी जानकारी दी. उन्होंने बताया कि प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ओम प्रकाश की अदालत ने नौ जुलाई, 2016 को मुफस्सिल थाना में दर्ज हत्या के मामले में यह सजा सुनाई है.

सरकारी वकील ने बताया कि इस हत्याकांड में न्यायालय ने विक्रम बोदरा, मंजुरा बोदरा उर्फ नेगरो, अमृत आल्डा एवं रोयाराम मुंडा को शुक्रवार को दोषी करार देने के बाद आजीवन कारावास की सजा सुनायी. उन्होंने बताया कि आरोप था कि रोयाराम मुंडा ने अपने चाचा मंगला की हत्या कराने के लिए अन्य तीन आरोपियों को 10 लाख रूपये की सुपारी दी थी, राशि का भुगतान हत्या के बाद किया जाना था. उन्होंने बताया कि शिकायत के अनुसार हत्या के लिए बड़ाचीरू का जगह चुना गया था, क्योंकि रोयाराम मुंडा के चाचा मंगला को उसी मार्ग से आने वाला था.

उन्होंने बताया कि साजिश के मुताबिक चारों अभियुक्त बड़ाचीरू गांव में रोयाराम के चाचा के आने का इंतजार कर रहे थे, लेकिन घटना के समय मंगला के स्थान पर उनके साथ आ रहा सागर कुंकल वाहन चला रहा था जिसे आरोपी रात होने की वजह से पहचान नहीं पाए और गोली चला दी. उन्होंने बताया कि घटना में कुंकल की मौके पर ही मौत हो गई जबकि मंगला जिसे मारने की सुपारी दी गई थी, बाल-बाल बच गया.

वकील ने बताया कि शुरुआत में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की गई थी लेकिन बाद में जांच के दौरान रोयाराम मुंडा का नाम सामने आया. उन्होंने बताया कि मुंडा से पूछताछ के बाद हत्यकांड का खुलासा हुआ. (भाषा से इनपुट)

Tags: Chaibasa news, Crime News, Jharkhand news, Life imprisonment

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर