नक्सलियों की बड़ी वारदात को अंजाम देने की कोशिश नाकाम, डेढ़ किमी के एरिया में बिछाया था बारूद.....
West-Singhbum News in Hindi

नक्सलियों की बड़ी वारदात को अंजाम देने की कोशिश नाकाम, डेढ़ किमी के एरिया में बिछाया था बारूद.....
नक्सलियों ने बड़े एरिया में बिछाया था बारूद

ये सभी बम अलग-अलग क्षमता के थे जिनमें से कुछ 20 किलो तक वजनी उच्च विस्फोटक क्षमता वाले थे. इन्हें सुरक्षा बलों के गुजरने वाले रास्तों पर लगभग एक से डेढ़ किमी की दूरी पर लगाया गया था. अगर नक्सलियों की ये योजना कामयाब हो जाती तो सैकड़ों जवानों की जान जा सकती थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 12, 2020, 10:38 PM IST
  • Share this:
चाईबासा. पश्चिमी सिंहभूम जिले में नक्सलियों के विध्वंशक मंसूबों पर पानी फेरते हुए सीआरपीएफ 60 बटालियन (CRPF Battalion) ने बड़े पैमाने पर नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारूदी सुरंग (Landmine) और भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किए हैं. अगर ये योजना कामयाब हो जाती तो बड़े पैमाने पर तबाही हो जाती. नक्सलियों ने डेढ़ किलोमीटर के एरिया में सुरक्षा बलों के जवानों को उड़ाने के लिए बारूदी सुरंग में 64 केन बम, कुकर बम और कन्टेनर बम लगा रखे थे.

सर्च ऑपरेशन के दौरान मिली कामयाबी
रिपोर्ट के मुताबिक़ ये सभी बम अलग-अलग क्षमता के थे जिनमें से कुछ 20 किलो तक वजनी उच्च विस्फोटक क्षमता वाले थे. इन्हें सुरक्षा बलों के गुजरने वाले रास्तों पर लगभग एक से डेढ़ किमी की दूरी पर लगाया गया था. अगर नक्सलियों की ये योजना कामयाब हो जाती तो सैकड़ों जवानों की जान जा सकती थी. लेकिन सुरक्षा दल में बीडीडीएस के जवानों की सतर्कता से ना सिर्फ सभी बम एक-एक कर बरामद कर लिये गए बल्कि उन्हें सुरक्षित डिफ्यूज भी कर दिया गया. एसपी चाईबासा इंद्रजीत महथा ने बताया कि नक्सलियों ने 64 केन बम, कुकर बम और कन्टेनर बम लगा रखे थे, सभी बम अलग-अलग क्षमता के थे. सारंडा के गोइलकेरा थाना के कुईडा में माओवादियों की सूचना पर जिला पुलिस, सीआरपीएफ 60 बटालियन और झारखंड जगुआर सर्च ऑपरेशन पर निकले थे. जवानों के साथ सीआरपीएफ का बम निरोधक दस्ता भी आगे-आगे चल रहा था. कुईड़ा से हाथीबुरू के कच्चे मार्ग पर ये सभी बम लगाये गए थे.

नक्सलियों ने फायरिंग भी की
जिस समय सुरक्षा बल के जवान बम निकाल रहे थे. उसी समय सामने की एक पहाड़ी से नक्सलियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग भी की, लेकिन जवानों ने इस हमले का मुंहतोड़ जवाब के सामने वो टिक नहीं पाए. इस पूरे आपरेशन में रांची से सीआरपीएफ और राज्य पुलिस के वरीष्ठ अधिकारियों द्वारा लगातार मॉनिटरिंग की जाती रही. बताया जा रहा कि अपनी तीन महिला साथी के मारे जाने के बाद माओवादी बौखलाहट में हैं और जवानों से बदला लेने के लिए ये बड़ी साजिश रची गई. लेकिन ये साजिश विफल हो गई. दूसरी तरफ माओवादी इलाके में पोस्टरबाजी कर ग्रामीणों के बीच दहशत फैलाने में भी लगे हुए हैं.



ये भी पढ़ें- MP उपचुनाव मंथन: कांग्रेस के पूर्व विधायक का शायराना अंदाज- यूं ही कोई बेवफा नहीं होता...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading