चाईबासा पुलिस ने SPO को दिया शहीद का दर्जा, DIG बोले- अब नक्सलियों का अंतिम समय आ गया
West-Singhbum News in Hindi

चाईबासा पुलिस ने SPO को दिया शहीद का दर्जा, DIG बोले- अब नक्सलियों का अंतिम समय आ गया
चाईबासा पुलिस ने नक्सली हमले में शहीद हुए एसपीओ को भी शहीद जवान के बराबर का सम्मान देकर श्रद्धांजलि अर्पित की.

रविवार को पोड़ाहाट जंगल के जोनोवा गांव में सर्च ऑपरेशन (Search Operation) में गई पुलिस टीम पर नक्सलियों ने हमला (Naxal Attack) बोल दिया. इस हमले में एक जवान और एक एसपीओ शहीद (Martyred) हो गये

  • Share this:
चाईबासा. भाकपा माओवादियों के हमले (Naxal Attack) में शहीद (Martyrs) हुए जवान लखींद्र मुंडा और एसपीओ सुंदर स्वरूप महतो को चाईबासा पुलिस लाइन में अंतिम सलामी और श्रद्धांजलि (Tribute) दी गई. जिला पुलिस ने शहीद जवान के साथ एसपीओ को भी बराबर का सम्मान देकर एक नई मिसाल कायम की है. तिरंगे में लिपटे दोनों शव एक साथ रखे गये. इस दौरान जिला पुलिस बल के जवानों ने मातमी धून पर अपने हथियार और सिर झुकाकर शहीदों को अंतिम सलामी दी. इस मौके पर शहीद जवान और एसपीओ के परिजन भी मौजूद थे.

कोल्हान प्रमंडल के आयुक्त वीरेंद्र भूषण, पुलिस उपमहानिरीक्षक राजीव रंजन सिंह, सीआरपीएफ चाईबासा रेंज के डीआईजी हनुमंत सिंह रावत, डीसी अरवा राजकमल, एसपी इंद्रजीत महथा सहित सीआरपीएफ के सभी बटालियन के कमांडेंट और जिला पुलिस के अधिकारियों ने शहीदों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजली दी. बाद में कोल्हान डीआईजी ने शहीद और एसपीओ के परिजनों को 50-50 हजार रुपये नकद पुलिस विभाग की ओर से प्रदान किया. साथ ही शहीद जवान की पत्नी को सरकारी नौकरी के साथ सभी प्रकार की सरकारी मुआवजा दिलाने का भरोसा दिया. वहीं एसपीओ के परिजन के एक व्यक्ति को भी सरकारी नौकरी और मुआवजा देने का भरोसा दिलाया.

'नक्सलियों का काम अब सिर्फ लेवी वसूलना' 



कोल्हान डीआईजी राजीव रंजन सिंह ने नक्सलियों को चेतावनी देते हुए कहा कि वे मुख्यधारा में लौटे जाएं, नहीं तो उनका अंतिम समय करीब है. डीआईजी ने कहा कि माओवादी अपने मूल उद्धेश्य से भटक चुके हैं, उनका काम केवल लेवी वसूलना रह गया है. एक जवान के शहीद होने से पुलिस का मनोबल नहीं गिरेगा. अंतिम क्षण तक हम लड़ेंगे और नक्सलियों का सफाया करके रहेंगे.



एसपी इंद्रजीत महथा ने कहा कि जिला पुलिस ने शहीद जवान और एसपीओ को बराबर का सम्मान दिया है. दोनों पुलिस परिवार के सदस्य थे, इसलिए एक साथ एक तरह सम्मान दिया गया. दोनों के परिजनों के साथ जिला पुलिस हमेशा खड़ी रहेगी. पुलिस जवान और एसपीओ के परिवार को सरकारी प्रावधान के अनुसार सरकारी नौकरी, मुआवजा और अन्य सभी सुविधाएं तीन माह के अंदर दी जाएंगी.

सर्च ऑपरेशन के दौरान हमले में जवान और एसपीओ हुए शहीद 

बता दें कि रविवार को जिले के पोड़ाहाट जंगल के कराईकेला थानाक्षेत्र के जोनोवा गांव में सर्च ऑपरेशन में गई पुलिस टीम पर नक्सलियों ने हमला कर दिया. इस हमले में एक जवान और एक एसपीओ शहीद हो गये.

रिपोर्ट- उपेन्द्र गुप्ता

ये भी पढ़ें- ICICI बैंक फ्रॉड मामला: जामताड़ा विधानसभा चुनाव लड़ने वाला निकला साइबर अपराधी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading