सरकार के प्रयासों से स्वरोजगार से जुड़ रही है महिलाएं, बढ़ रही है आमदनी

किसानों की आय दोगुनी हो, इसके लिए किसानों के घरों की महिलाओं को महिला समूहों से जोड़ कर उनकी आमदनी बढाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. किसान परिवारों की घरेलू महिलाओं को बैंकों से लोन देकर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ा जा रहा है.

Upendra Gupta | News18 Jharkhand
Updated: October 17, 2018, 9:23 AM IST
सरकार के प्रयासों से स्वरोजगार से जुड़ रही है महिलाएं, बढ़ रही है आमदनी
किसान दिवस में मौजूद महिलाएं
Upendra Gupta | News18 Jharkhand
Updated: October 17, 2018, 9:23 AM IST
2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम रघुवर दास के सपने को साकार करने के लिए कोल्हान में बैंक और राष्ट्रीय आजीविका मिशन द्वारा गांवों की महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए निरंतर प्रयास जारी है.

किसानों की आय दोगुनी हो, इसके लिए किसानों के घरों की महिलाओं को महिला समूहों से जोड़ कर उनकी आमदनी बढाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. किसान परिवारों की घरेलू महिलाओं को बैंकों से लोन देकर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ा जा रहा है, जिसमें ये महिलाएं घर से गाय, मछली, बकरी, मुर्गी, सुकर पालन कर अपनी आमदनी बढा सकें.

इस स्वरोजगार में बैंक उन्हें किस तरह मदद कर सकता है इसके लिए बैंक और राष्ट्रीय आजीविका मिशन गांव-गांव जाकर महिलाओं को प्रशिक्षण और जानकारियां दे रहा है. कोल्हान की महिलाएं परंपरागत रूप से काफी सशक्त और मेहनती होती है, लेकिन उनमें कौशल नहीं है, इसलिए वे अपना आमदनी नहीं बढ़ा पाती. अब केंद्र और राज्य सरकार की इस पहल से महिलाओं में काफी उम्मीदें बढ़ी हैं. वे बैंक से लोन लेकर स्वरोजगार शुरू करने में काफी दिलचस्पी दिखा रही है.

इसी के तहत बैंक ऑफ बडौदा ने जिले के चार प्रखंडों के 51 महिला समूहों को 51 लाख का चेक प्रदान किया, वहीं पीएम मुद्रा योजना के तहत 20 लाख की आर्थिक सहायता राशि दी गयी. ये महिलाएं शारारिक रूप से स्वस्थ्य रहें, इसके लिए किसान दिवस पर सभी महिलाओं का नि:शुल्क स्वास्थ्य चेकअप भी किया गया.इस मौके पर सभी महिलाओं को एक-एक फलदार पौधा दिया गया, जिसे वे अपने घर में लगाएंगी.

यह भी पढ़ें- कभी शराब बेचने वाली ये महिलाएं अब बनी समाज के लिए प्रेरणा

यह भी पढ़ें-  घर बैठे बैठे स्वरोजगार से जुड़ी महिलाएं, सुधर रही जिंदगी

यह भी पढ़ें-  घाटशिला: 5 पंचायतों के संगठनों को मिलाकर बनाया आजीविका महिला संकुल संगठन
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर