IAS Success Story: UPSC की परीक्षा में पहले प्रयास में फेल हुए और प्रयास में ऐसे बने सेकेंड टॉपर

IAS Success Story: UPSC की परीक्षा में पहले प्रयास में फेल हुए और प्रयास में ऐसे बने सेकेंड टॉपर
साल 2019 में सिविल सर्विस की परीक्षा में अक्षत जैन ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है.

साल 2019 में सिविल सर्विस की परीक्षा में अक्षत जैन ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है. अक्षत जैन ने बताया कि उन्होंने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा ग्रेजुएशन पूरी करने के तुरंत बाद ही दे दी थी, लेकिन दो नंबर से वो प्रीलिम्स में पास नहीं हो पाए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2020, 11:35 AM IST
  • Share this:
IAS Success Story: संघ लोक सेवा आयोग ने जब सिविल सेवा परीक्षा 2018 का परिणाम जारी किया तो कई लोगों के चेहरे खुशी से खिल उठे. इस परीक्षा में सफल होने वाले युवाओं के मुताबिक यूपीएससी के लिए हर कठिन परिस्थिति से गुजरने के लिए तैयार थे ताकि हम इस परीक्षा में सफल हो सकें. वहीं अक्षत जैन के मुताबिक उनके लिए कुछ स्ट्रेटजी और मेहनत की बदौलत इस परीक्षा को क्रैक करना आसान हो पाया है.

सिविल सर्विस की परीक्षा में अक्षत जैन ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है. अक्षत जैन ने बताया कि उन्होंने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा ग्रेजुएशन पूरी करने के तुरंत बाद ही दे दी थी, लेकिन दो नंबर से वो प्रीलिम्स में पास नहीं हो पाए थे. उन्होंने पहली बार परीक्षा तीन महीने की तैयारी में दी थी. वहीं आईआईटी गुवाहाटी से डिजाइनिंग में ग्रेजुएशन पढ़ाई करने वाले अक्षत जैने के मुताबिक हर साल यूपीएससी के लिए सिलेबस जारी किया जाता है. ऐसे में कैंडिडेट्स सिलेबस के अनुसार पढ़ाई करें तो इसे आसानी से क्रैक कर सकते हैं.
शॉर्ट नोट्स के जरिए की तैयारी
जयपुर के रहने वाले हैं अक्षत ने तैयारी के लिए एक स्ट्रेटजी बनाई, जिसके तहत वो शॉर्ट नोट्स बनाते थे. जिससे उन्हें रिवाइज करने काफी आसानी होती थी. जैन का मानना है कि सिलेबस के अनुसार अगर आप शॉ्ट नोट्स तैयार कर लेते हैं तो चीजों को समझने और याद करने में आसानी होती है. अक्षत जैन के मुताबिक लोग सोर्स में ज्यादा फंसते हैं, ऐसे में एक ही सोर्स तय करें. आंसर राइटिंग के साथ-साथ एनसीआरटी की किताबों पर भरोसा करें. इन दोनों पर खास कर ध्यान देने की जरूरत है.
प्रीलिम्स कम मेन्स के तहत करें तैयारी
अक्षत जैन सिर्फ 23 साल की उम्र में यूपीएससी परीक्षा क्रैक किया था. अक्षत बताते हैं कि कई लोग यह सोचकर तैयारी करते हैं कि प्रीलिम्स के बाद मेन्स की तैयारी शुरू करेंगे. ऐसे में ये तरीका बिल्कुल गलत है. तैयारी मेन्स और प्रीलिम्स दोनों को ध्यान में रखकर करना चाहिए क्योंकि दोनों परीक्षा में समय काफी कम होता है. परीक्षा के दौरान किसी भी टॉपिक पर अच्छी प्रैक्टिस होनी चाहिए.



अक्षत के मुकाबिक लोगों को इस परीक्षा के लिए खास स्ट्रेटजी और प्लानिंग की जरूरत नहीं है. बस परीक्षा के पैटर्न को समझते हुए सिलेबस के अनुसार तैयारी करनी चाहिए. इसके अलावा किसी भी एक चीज में फंस कर समय के महत्व को कम ना करें. समय रहते अगर आपने अपनी तैयारी पक्की कर लेंगे तो परीक्षा आसानी से क्रैक कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- NEET PG 2020: जारी हुआ नीट काउंसलिंग का शेड्यूल, यहां पढ़ें पूरी डिटेल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज