नौकरी की बातः मोबाइल फोन की तरह हर वक्त अपग्रेड होती है नौकरी, अप-टू-डेट रहने के लिए ये मंत्र जानना है जरूरी

रिस्किलिंग और अपस्किलिंग करेंगे तो जॉब्स मिलने में नहीं आएगी दिक्कत

रिस्किलिंग और अपस्किलिंग करेंगे तो जॉब्स मिलने में नहीं आएगी दिक्कत

हीरानंदानी समूह के एमडी और रियल एस्टेट डेवपलपर्स के संगठन नारेडको (Naredco) के चैयरमेन डॉ. निरंजन हीरानंदानी (Niranjan Hiranandani)से जानिए, रियल एस्टेट सेक्टर और उनकी कंपनी में नौकरियों के अवसर व इसकी तैयारियों के तरीके...

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2021, 7:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोनावायरस (Corona virus) की वजह से स्वास्थ्य के बाद सबसे ज्यादा रोजगार (Employment) पर असर पड़ा है. लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से कई नौकरियां चली गई या फिर नए अवसर बंद हो गए. लेकिन अब अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट रही हैं. बाजार भी गति पकड़ रहा है. लिहाजा, एक बार फिर से इंडस्ट्रीज में रोजगार के मौके खुलने लगे हैं. अपने युवा पाठकों के लिए न्यूज18 देश के टॉप एचआर लीडर के साथ शुरू कर रहा है खास सीरिज "नौकरी की बात". देश में दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा रोजगार पैदा करने वाले रियल एस्टेट सेक्टर (Real Estate Sector) में भी स्थिति सुधरने के संकेत हैं. इस बार देश की बड़ी रियल एस्टेट कंपनी हीरानंदानी समूह के एमडी और रियल एस्टेट डेवपलपर्स के संगठन नारेडको (Naredco) के चैयरमेन डॉ. निरंजन हीरानंदानी (Nirnjan Hiranandani) से जानिए, रियल एस्टेट सेक्टर और उनकी कंपनी में नौकरियों के अवसर व इसकी तैयारियों के तरीके...

यह भी पढ़ें : जिस बैंक में है पेंशन अकाउंट उसी में कराएं फिक्स्ड डिपॉजिट, मिलेगा इस स्कीम का फायदा

सवाल : महामारी के दौरान जिनकी नौकरी चली गई, उन्हें क्या करना चाहिए?

जवाब : सबसे पहली बात, कोविड-19 महामारी ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है, इसलिए नौकरी चली गई है तो हताश न हो या यह न सोचे कि बुरा हुआ है. हमें अब यह प्रयास करना चाहिए कि रोजगार के लिए अपनी स्किल को कैसे बढ़ाएं? यह भी सोचना चाहिए कि क्या यह हमारे लिए यह विकल्प नहीं है कि हम स्वरोजगार की तरफ कदम बढ़ाएं और इसके लिए स्किल व नॉलेज को विकसित करें.
सवाल : स्किल डेवलपमेंट (Skill Development) कैसे बढ़ा सकते हैं?

जवाब : रिस्कलिंग एंड अपस्कलिंग (Re-skilling and Up-skilling), इस मंत्र को फॉलो करें. इसके लिए ऑन-लाइन और ऑफ-लाइन दोनों विकल्प हैं. बस यह पता लगाने की जरूरत है कि कौन सा विकल्प सूट करता है.

सवाल : महामारी के बाद बहुत सारे ऑनलाइन कोर्सेस उपलब्ध हैं. क्या युवाओं को इस प्रकार के कोर्सेस का विकल्प चुनना चाहिए? यदि कोई इन कोर्सेस को पूरा करता तो क्या कंपनियां उन पर विचार करती हैं?



जवाब : जिस भी कोर्स को युवा कर रहे हैं, उसमें यह जरूर देंखे कि यह उसके स्किल सेट में कितना इजाफा करता है. साथ ही, कोर्स की इम्लॉयबिलिटी यानी रोजगार मिलने की क्षमता को भी देखना चाहिए, खासकर स्वरोजगार के संदर्भ में. स्किल के साथ ही अपनी नौकरी की पात्रता को बढ़ाना चाहिए. जाहिर है, बढ़ी हुई योग्यताएं व्यक्ति की रोजगार क्षमता में इजाफा करेंगी. हालांकि यह सवाल बरकरार है कि क्या नई स्किल रोजगार देने वाले संगठनों या नियोक्ताओं के बीच मांग में है? इसलिए इस पहलु पर खास ध्यान दें.

सवाल : बाजार धीरे-धीरे खुलने लगा है? युवा कहां और कैसे नौकरी खोजें?

जवाब : महामारी में लगाए गए लॉकडाउन ने कई चीजों को मजबूत किया है. इनमें से एक डिजिटल और ऑन-लाइन विकल्प हैं. यदि किसी संस्थान से ऑफलाइन कोर्स कर रहे हैं तो यह देखें कि कैंपस सिलेक्शन की क्या व्यवस्था है.

यह भी पढ़ें : Budget Explainer: पीएफ के ब्याज पर टैक्स चुकाने के बाद भी फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा मिलेगा रिटर्न

सवाल : क्या महामारी के बाद भर्ती प्रक्रिया में बदलाव होगा?

जवाब : यह नौकरी की आवश्यकताएं और संभावित कर्मचारी के जॉब प्रोफाइल पर निर्भर करता है. सबसे बड़ा बदलाव डिजिटल स्किल और वर्कप्लेस की बजाय दूसरी जगह से काम करने में भी सक्षमता होनी चाहिए. यह व्हाइट कॉलर जॉब के लिए बहुत जरूरी है. ब्लू कॉलर नौकरियों में प्रोफाइल को स्विच करने की क्षमता के साथ-साथ मल्टी-टास्किंग की डिमांड होती है.

Niranjan Hiranandani
रिस्किलिंग एंड अपस्कलिंग (Reskilling and Upskilling), इस मंत्र को फॉलो करें


सवाल : आपके अनुसार इस कठिन समय और नई भर्ती प्रक्रिया में साक्षात्कार (Interview) के लिए किस तरह से तैयारी करना चाहिए

जवाब : साक्षात्कार के लिए तैयारी करना बस क्षमताओं को दर्शाने और यह दिखाने के बारे में है कि कोई प्रोफाइल में कैसे फिट बैठता है? इसलिए महामारी के बाद भी मुझे इस पहलू में कोई बदलाव नहीं दिख रहा है.

सवाल : वर्तमान परिदृश्य में किस तरह के नए रोजगार सृजित होंगे?

जवाब : नौकरियां किसी भी कंपनी के बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए जरूरी है. जरूरत इस बात की है कि युवा संबंधित कंपनी के वर्क कल्चर के साथ फिट होने में सक्षम हों. हालांकि कंपनियों को भी उस अर्थव्यवस्था के लिए प्रासंगिक होना पड़ता है जिसमें वे काम करती हैं. बदलाव को मोबाइल फोन के सरल उदाहरण से समझा जा सकता है. यह प्रभावी रूप से रेडियो, मशाल, घड़ी की जगह ले चुका है. टेक्नोलॉजी 2 जी से 3 और 4 में शिफ्ट हो गई. अब 5 जी आ रही है. इससे उन्नत नेटवर्क के साथ हैंडसेट पर बहुत फर्क पड़ेगा. नौकरी भी इसी तरह से है. एक और उदाहरण देखें. कोडक फोटो फिल्म और कैमरों की लीडर थी. आज डिजिटल कैमरों ने फिल्म की आवश्यकता को खत्म कर दिया है. जाहिर है, इस प्रकार के परिवर्तन नौकरियों को प्रभावित करते हैं. किसी भी नौकरी तलाशने वाले को इन पहलुओं के बारे में पता होना चाहिए.

यह भी पढ़ें : Success Story : बचपन में दिव्यांगों को पढ़ाया, कमजोरों को हक दिलाने शुरू किया हकदर्शक स्टार्टअप, अब 12 करोड़ का टर्नओवर

सवाल : रियल एस्टेट में नौकरी की कितनी संभावनाएं हैं?

जवाब : रियल एस्टेट और कंस्ट्रक्शन भारत समेत विश्व स्तर पर सबसे बड़े नियोक्ताओं में से एक है. इसमें हर स्तर पर जैसे अकुशल, अर्ध-कुशल और तकनीकी आदि में रोजगार हैं. प्राथमिक जॉब में साइट लेबर से लेकर राजमिस्त्री, बढ़ई , इलेक्ट्रीशियन आदि की जरूरत है. यह आर्किटेक्ट, इंजीनियर, अकाउंटेंट, कानूनी विशेषज्ञों आदि जैसे पेशेवरों के लिए मौके प्रदान करता है, साथ ही मार्केटिंग और सेल्स में भी.

सवाल : क्या आप हमें बता सकते हैं कि इस क्षेत्र के लिए क्या योग्यता और स्किल है?

जवाब : जॉब नेचर के हिसाब से अलग-अलग स्किल और योग्यताएं हैं. जैसे कारपेंटर के लिए उसका हुनर जरूरी है तो आर्किटेक्ट के लिए उससे संबंधित डिग्री. लेकिन अहम यह है कि जॉब प्रोफाइल के हिसाब से काम कितना आता है. शैक्षणिक दृष्टिकोण से योग्य होना हमेशा एक फायदा होता है.

सवाल : युवाओं को प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए क्या करना चाहिए?

जवाब : अपने आप को लगातार रिस्किलिंग और अपस्किलिंग करते रहना चाहिए.

सवाल : हमें आपकी कंपनी की भर्ती प्रक्रिया के बारे में बताएं और नौकरी चाहने वाले आपकी कंपनी तक कैसे पहुंच सकते हैं?

जवाब : किसी भी कॉर्पोरेट लीडर की तरह जो बाजार में अग्रणी है, उसी तरह हम भी भर्तियों में वैश्विक स्तर की बेस्ट प्रैक्टिस को फॉलो करते हैं. काम पर रखने की प्रक्रिया पारदर्शी और वैज्ञानिक रूप से सुनिश्चित है ताकि हम सबसे बेहतर दिमाग और संभावित विकल्पों में सबसे अच्छी प्रतिभा को आकर्षित कर सकें.

सवाल : आप किस प्रकार के स्किल वाले जॉब चाहते हैं और उसका मूल्यांकन कैसे करते हैं?

जवाब : यह जॉब प्रोफाइल पर निर्भर करता है. हम केवल शैक्षणिक योग्यता पर जोर नहीं देते हैं, बल्कि विभिन्न दृष्टिकोणों से संभावित टीम के सदस्यों का मूल्यांकन भी करते हैं.

सवाल : आपकी कंपनी और इस क्षेत्र में विकास की संभावनाएं क्या हैं?

जवाब : घर एक बुनियादी जरूरत है. इसलिए इस क्षेत्र में हमेशा मांग रहती है. आगे भी जबरदस्त ग्रोथ की संभावनाएं हैं.

यह भी पढ़ें : Innovation: Byju ने कभी बिजनेस नहीं किया लेकिन इस तरीके से दो लाख से 90 हजार करोड़ रुपए पर पहुंची कंपनी

सवाल : आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस और बिग डेटा की वजह से भविष्य में क्या बदलाव संभव है, खासकर कोविड-19 के बाद?

जवाब : महामारी ने वर्कप्लेस पर टेक्नोलॉजी के प्रयोग को और जरूरी बना दिया है. पहले औद्योगिक क्रांति ने दुनिया में बदलाव किया था. अब डिजिटलाइजेशन बदलाव कर रहा है. कई पहलू हैं जो कोविड -19 के बाद दुनिया का एक अभिन्न हिस्सा बन जाएंगे. आवश्यकता इस बात की है कि निकट भविष्य में रोजगार सुनिश्चित करने के लिए मानव संसाधन को निरंतर सशक्त बनाया जाए. नौकरी पाना एक मंजिल नहीं है, बल्कि लगातार पुनरुत्थान और उत्थान की जीवन भर की यात्रा की शुरुआत है.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज