राम मंदिर मॉडल के रूप में तैयार होगा अयोध्या रेलवे स्टेशन, रेलवे खर्च करेगा 100 करोड़!

अयोध्या रेलवे स्‍टेशन को राम मं‍दिर लुक दि‍या जाएगा. (फाइल फोटो)

अयोध्या रेलवे स्‍टेशन को राम मं‍दिर लुक दि‍या जाएगा. (फाइल फोटो)

उत्‍तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल का मानना है कि धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के स्टेशनों के विकास के अंतर्गत अयोध्या रेलवे स्टेशन (Ayodhya Railway Station) और सर्कुलेटिंग एरिया आदि के पुनर्विकास पर 50 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे. उन्होंने यह भी बताया है कि इस योजना के लिए कुल अनुमानित लागत 100 करोड रुपए है, लेकिन वित्तीय वर्ष 2021-22 में इस पर 50 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2021, 4:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने यात्री सुविधा योजना के अंतर्गत ही अयोध्‍या में बनने जा रहे श्रीराम मंदिर के लिए प्रसिद्ध अयोध्या रेलवे स्टेशन को और अत्याधुनिक व आकर्षक बनाने की भी तैयारी की है. इसके लिये 50 करोड़ रुपए का अलग से प्रावधान किया है.



उत्‍तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल का मानना है कि धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के स्टेशनों के विकास के अंतर्गत अयोध्या रेलवे स्टेशन (Ayodhya Railway Station) और सर्कुलेटिंग एरिया आदि के पुनर्विकास पर 50 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे. उन्होंने यह भी बताया है कि इस योजना के लिए कुल अनुमानित लागत 100 करोड रुपए है, लेकिन वित्तीय वर्ष 2021-22 में इस पर 50 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है.


बताते चलें कि रेल मंत्रालय अयोध्या रेलवे स्टेशन को इस तरीके से नए लुक में तैयार करवा रहा है, जिससे कि उसमें राम मंदिर की झलक नजर आए. केंद्र सरकार इस पर भी पूरी तरीके से फोकस किए हुए हैं कि देश के हर कोने से अयोध्या में ट्रेनें पहुंचे. हर साल लाखों श्रद्धालु अयोध्या पहुंचते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi), गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) देश के हर नागरिक की आस्था अयोध्या से जुड़े होने को देखकर रेलवे स्टेशन को और अत्याधुनिक और भव्य बनाने की मंशा रखते हैं.




साथ ही गंगल ने बताया कि रेल बजट में इस बार उत्तर रेलवे को वर्ष 2021-22 के लिएपुराने प्रोजेक्ट्स के साथ-साथ नई लाइनों को बिछाने और दूसरे ढांचागत व संरक्षा कार्यों के लिए 15818.49 करोड रुपए का बजट प्रावधान किया गया है. यह बजट पिछले बजट की तुलना में 4123.28 करोड़ यानी 35 फ़ीसदी अधिक आवंटित किया गया है.



वर्ष 2020-21 में उत्तर रेलवे को 11695.21 करोड रुपए बजट का आवंटित हुआ था. अच्छी बात यह है कि रेलवे बजट में इस बार यात्री सुविधाओं पर विशेष ध्यान देने पर बल दिया गया है. इस वित्त वर्ष में उत्तर रेलवे को यात्री सुविधाओं और बढ़ोतरी करने को लेकर 291.17 करोड रुपए के बजट का आवंटन किया गया है. यह बजट पिछले वर्ष की तुलना में 21 फ़ीसदी ज्यादा है.


नॉर्दन रेलवे इन योजनाओं पर खर्च करेगा बड़ी राशि

इसके अलावा नई लाइनों के निर्माण पर 9860.95 करोड़ रुपए, लाइनों के दोहरीकरण पर 1942.60 करोड़, यातायात सुविधाएं यार्ड रीमॉडलिंग व अन्य पर 573.68 करोड, कंप्यूटरीकरण पर 399.93 करोड़, रोलिंग स्टॉक पर 117.68 करोड़, सड़क सुरक्षा कार्य क्रॉसिंग पर 87.67 करोड़, आरओबी/आरयूबी कार्यों पर 317. 54 करोड़, रेल ट्रैक के नवीनीकरण पर 1420 करोड़, नए पुलों के निर्माण पर 50 करोड़, सिग्नल एवं दूरसंचार को मजबूत करने पर 352.95 करोड़, बिजली के अन्य कार्यों पर 55.50 करोड़, मशीनरी और प्लांट आदि पर 26.27 करोड़, सभी कारखाने में उत्पादन इकाइयों पर 150.22 करोड़, कर्मचारियों के कल्याण के लिए 56.96 करोड़, अन्य विशेष कार्य के लिए 110.81 करोड़ और प्रशिक्षण मानव संसाधन पर 4.60 करोड रुपए खर्च करने का प्रावधान बजट में किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज