• Home
  • »
  • News
  • »
  • jobs
  • »
  • RAILWAY VACANCY GOODS TRAINS SPEED UP IN CORONA PANDEMIC MANY RECORDS MADE IN FREIGHT TRANSPORTATION

कोरोना महामारी में गुड्स ट्रेनों की बड़ी रफ्तार, माल ढुलाई में बनाए ये रिकॉर्ड

रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के मई माह में माल लदान मामले में पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने का काम किया है.

Indian Railways: उत्तर पश्चिम रेलवे ने मालगाड़ियों की मई माह तक 47.25 किमी प्रति घंटे की औसत गति प्राप्त की है, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में हासिल की गई 41.17 किमी प्रति घंटे की औसत गति से 14.76% अधिक है. रेलवे का प्रयास है कि मालगाड़ियों की औसत गति को बढाकर तीव्र गति से माल परिवहन को गतंव्य तक पहुंचाया जाये.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की रोकथाम को लेकर लॉकडाउन (Lockdown) लागू है. कोरोना वायरस के दौरान भी रेलवे (Railways) ने अपनी ट्रेनों के परिचालन के पूरी तरीके से नहीं होने के बावजूद भी कई रिकॉर्ड बनाये हैं. खासकर रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के मई माह में माल लदान मामले में पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने का काम किया है.

    उत्तर पश्चिम रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में मई माह तक 4.29 मिलियन टन माल लोड करके इतिहास में अब तक की सर्वाधिक लोडिंग की है. उत्तर पश्चिम रेलवे पर सीमेंट, क्लिंकर, खाद्यान्न, पेट्रोलियम, कन्टेनर सहित अन्य प्रमुख कमोडिटी का परिवहन किया जाता है.

    NWR के उप-महाप्रबन्धक/मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2021-22 में मई माह तक 4.29 मिलियन टन का प्रारंभिक लदान हासिल किया है, जो 2020-21 की इसी अवधि में प्राप्त 1.9 मीट्रिक टन से 119.79% अधिक है.

    उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2020-21 में अजमेर मंडल पर 5.92 मिलियन टन, बीकानेर मंडल पर 3.47 मिलियन टन, जयपुर मंडल पर 8.16 मिलियन टन व जोधपुर मण्डल पर 4.69 मिलियन टन माल लोंडिग की गई.

    47.25 Kmph की औसत गति प्राप्त, 14.76% अधिक 
    रेलवे ने वर्ष 2020-21 में 22.24 मिलियन टन माल लदान किया था जिसको इस वित्तीय वर्ष में रेलवे बोर्ड ने 26.50 मिलियन टन का लक्ष्य प्रदान किया है.

    उत्तर पश्चिम रेलवे ने मालगाड़ियों की मई माह तक 47.25 किमी प्रति घंटे की औसत गति प्राप्त की है, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में हासिल की गई 41.17 किमी प्रति घंटे की औसत गति से 14.76% अधिक है. रेलवे का प्रयास है कि मालगाड़ियों की औसत गति को बढाकर तीव्र गति से माल परिवहन को गतंव्य तक पहुंचाया जाये.

    इस रिकार्ड का श्रेय NWR महाप्रबन्धक आनन्द प्रकाश के कुशल निर्देशन और प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबन्धक रवीन्द्र गोयल के मार्गदर्शन को दिया जा रहा है.

    लदान आय बढ़ाने के लिए ये प्रयास बने बड़े सहयोगी 
    उत्तर पश्चिम रेलवे पर लदान आय बढ़ाने के लिए नवीन प्रयासों के तहत खेमली, बांगड़ ग्राम, अनूपगढ़, अलवर, गोटन, कनकपुरा, थेयात हमीरा, भगत की कोठी, गोटन स्टेशनों पर नई मदों की लोडिंग प्रारंभ की गई है. साथ ही देबारी (उदयपुर) में औद्योगिक वाटर सप्लाई के दो रेक प्रतिदिन तथा मेड़ता सिटी में 2 स्टेशनों के मध्य रेल खंड पर क्लिंकर की लोडिंग की गई है.

    इन जगहों पर रेल साइडिंग का कार्य प्रगति पर 
    उत्तर पश्चिम रेलवे पर माल लदान को आकर्षित करने के लिए नए माल लदान केंद्र उमरा (खाद लदान), नाथद्वारा, दोराई एवं सतरोड़ (कंटेनर लदान) खाजवाना (चाइना क्ले लदान) तथा बड़वासी (लाइन स्टोन लदान) खोले गए हैं. इसके अतिरिक्त मैसर्स अंबुजा सीमेंट लिमिटेड की रास - अजमेर तथा मैसर्स वंडर सीमेंट लिमिटेड की मोहनबाड़ी - बीकानेर रेल साइडिंग का कार्य प्रगति पर है.
    Published by:Bhupender Panchal
    First published: