Home /News /jobs /

JSSC CGL 2021: जेपीएससी की तरह ही अब जेएसएससी भी विवादों में, छात्रों को विज्ञापन पर है आपत्ति, पदों की संख्या भी घटी

JSSC CGL 2021: जेपीएससी की तरह ही अब जेएसएससी भी विवादों में, छात्रों को विज्ञापन पर है आपत्ति, पदों की संख्या भी घटी

JSSC CGL 2021: जेपीएससी की तरह ही अब जेएसएससी भी विवादों में है.

JSSC CGL 2021: जेपीएससी की तरह ही अब जेएसएससी भी विवादों में है.

JSSC CGL 2021: जेपीएससी की तरह ही अब जेएसएससी विवादों में छात्रों को विज्ञापन पर है आपत्ति. झारखंड कर्मचारी चयन आयोग द्वारा निकाली जारी की गई विज्ञापन पर सवाल खड़े हो रहे हैं. छात्रों ने आरोप लगाया है कि पुरानी वैकेंसी को रिपीट किया जा रहा है. इस बारे में परीक्षा में शामिल होने की इच्छा रखने वाले स्टूडेंट्स का कहना है कि आखिर पुरानी वैकेंसी को निकालने की जरूरत ही क्या थी यह तो 2015 में भी आयी थी. हालांकि एग्जाम के कट ऑफ को लेकर कोर्ट में चुनौती दी गई जिसके बाद परीक्षा रद्द कर दी गई.

अधिक पढ़ें ...

रांची. JSSC CGL 2021: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने झारखंड सामान्य स्नातक योग्यताधारी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा 2021 का विज्ञापन निकाल दिया है. इस विज्ञापन के साथ ही इस पर कई सवाल खड़े होना शुरू हो गए हैं. इस बारे में परीक्षा में शामिल होने की इच्छा रखने वाले स्टूडेंट्स का कहना है कि आखिर पुरानी वैकेंसी को निकालने की जरूरत ही क्या थी यह तो 2015 में भी आयी थी. हालांकि एग्जाम के कट ऑफ को लेकर कोर्ट में चुनौती दी गई जिसके बाद परीक्षा रद्द कर दी गई.

गौर करने वाली बात यह है कि झारखंड में नौकरी के लिए विज्ञापन जारी तो किया जा रहा है लेकिन शायद ही कोई ऐसा एक्जाम हो जो विवादो में नही रहता हो. बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल सहदेव ने कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित समय पर कोई भी प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर गंभीर नहीं है जिसका खामियाजा छात्र भुगत रहे हैं.  वहीं कांग्रेस नेता राकेश सिन्हा ने कहा राज्य में नियुक्ति प्रक्रिया बीजेपी के समय से ही उलझती रही है अभी जो एससीसी का विज्ञापन जारी किया गया है उसमे एक कॉलम दिया गया है कि पूर्ववर्ती छात्र भी इस फॉर्म को भर सकते हैं हमारी सरकार छात्रों को लेकर पूरी तरह से संजीदा है.

ये भी पढ़ें-
JSSC CGL 2021 : झारखंड जेएसएससी सीजीएल ने 956 पदों पर निकाली भर्ती, आवेदन शुल्क में हुई भारी कमी
Allahabad University: अब ऑनलाइन मोड में पढ़ेंगे इलाहाबाद विश्वविद्यालय के स्टूडेंट, जानें क्यों लिया गया ये फैसला

हाई कोर्ट ने रद्द की थी परीक्षा
छात्र नेता मनोज यादव का कहना है कि सीजीएल का जो विज्ञापन दिया गया है वह पूरी तरह विवादित है  2019 में परीक्षा का कट ऑफ 210 रखा गया था. बाद में उसी परीक्षा को हाई कोर्ट ने रद्द किया था. अब उसी परीक्षा को लेकर विज्ञापन जारी किया है ऐसे में बिना परीक्षा दिए हुए ही हजारों लड़के की उम्र समाप्त हो गई है. यह सरकार छात्रों के साथ अन्याय कर रही है.

पहले के मुकाबले घटी पदों की संख्या
जेएसएससी की ओर से वर्तमान में जिस आवेदन को जारी किया गया है. यह आवेदन 16 सितंबर 2019 को भी जारी किया गया था. तब सात विभिन्न पदों में नियुक्ति होनी थी. जिसमें सहायक प्रशाखा पदाधिकारी के 362 पद, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के 223 पद, प्रखंड कल्याण पदाधिकारी के 139 पद, अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के 170 पद, सहकारिता प्रसार पदाधिकारी के 241 पद, प्लानिंग असिस्टेंट के 05 पद और प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी के 120 पद सहित कुल 1255 पद थे. पर नये विज्ञापन में महज 956 पद हैं. जिनमें सहायक प्रशाखा पदाधिकारी के 384 पद कनीय सचिवालय सहायक के 322 पद, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के 245 पद और प्लानिंग असिस्टेंट के 05 पद हैं.

Tags: Government jobs, Job and career, Jobs in india

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर