होम /न्यूज /नौकरियां /Job News: विश्वविद्यालयों में प्रोफेसर बनना हुआ आसान, खत्म होगी डिग्री की अनिवार्यता!

Job News: विश्वविद्यालयों में प्रोफेसर बनना हुआ आसान, खत्म होगी डिग्री की अनिवार्यता!

अब विश्वविद्यालयों में प्रोफेसर बनना हुआ आसान.

अब विश्वविद्यालयों में प्रोफेसर बनना हुआ आसान.

UGC: अब बिना अकादमिक डिग्री के भी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में प्रोफेसर बन सकेंगे. प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस के तहत चुने ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. UGC: सरकारी नौकरी की तैयारी में लगे युवा स्टूडेंट जो प्रोफेसर बनना चाहते हैं उनके लिए अच्छी खबर है. दरअसल, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. जिसके बाद अब बिना अकादमिक डिग्री के भी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में प्रोफेसर बन सकेंगे. प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस के तहत चुने जाने वाले विभिन्न क्षेत्रों के महारथी शैक्षिक योग्यता के बिना भी प्रोफेसर बनकर दो साल तक सेवाएं दे सकेंगे.

    बता दें कि आईआईटी और आईआईएम में पहले से प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस योजना लागू है. वहीं अब सामान्य कॉलेजों और विश्वविद्यालय में प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस के तहत गायक, नृतक, उद्योग, समाजसेवी से लेकर अन्य क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल होंगे. इसके तहत इंडस्ट्री से जुड़े विशेषज्ञ देश के इन सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में सेवाएं देगें. गौरतलब है कि अभी तक यूजीसी से मान्यता प्राप्त केंद्रीय विश्वविद्यालय, राज्यों के विश्वविद्यालयों समेत डीम्ड -टू-बी यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता में नेट और पीएचडी होना जरूरी होता है.

    18 अगस्त को मिली मंजूरी
    विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने 18 अगस्त को यूजीसी की बैठक बुलाई थी. इस बैठक में तीन प्रस्तावों को मंजूरी दी गई थी. इसमें सबसे प्रमुख प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस है. प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस को मंजूरी के बाद अब किसी भी विश्वविद्यालय या कॉलेज में नेट और पीएचडी के बगैर भी प्रोफेसर बनकर सेवाएं दी जा सकती हैं.

    ये भी पढ़ें-
    Sarkari Naukri 2022 : IREL में 10वीं पास के लिए नौकरी का मौका, ऐसे करें आवेदन
    Naukri Salary Increase: नौकरी में नहीं बढ़ रही है सैलरी, तो आजमाएं ये टिप्स, होंगे कारगर

    Tags: Education news, Job news, Ugc

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें