Sarkari Naukri: यूपी में 69000 सहायक अध्यापकों की भर्ती में बड़ी गड़बड़ी, देखें डिटेल

सहायक शिक्षकों की बात राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में मानी है.

सहायक शिक्षकों की बात राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में मानी है.

Sarkari Naukri: उत्तर प्रदेश के परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में हुई 690000 शिक्षकों की भर्ती में आरक्षण के नियमों के उल्लंघन की बात सामने आ रही है. राष्ट्रीय राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में कहा है कि नियमों की अनदेखी की गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में हुई 69000 सहायक अध्यापकों की भर्ती में आरक्षण के नियमों की अनदेखी की गई है. यह बात राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने मानी है. आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. लोकेश कुमार प्रजापति की अंतरिम रिपोर्ट के अनुसार राज्य सरकार की ओर से जारी जिलावार सूची का उद्धरण दर्शाता है कि अनारक्षित अभ्यर्थियों की आरक्षित अभ्यर्थियों के स्थान पर नियुक्तियां की गई हैं. इस प्रक्रिया में आरक्षण नीति का उल्लंघन हुआ है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, राज्य सरकार ने आयोग के सामने जो जवाब दिया है वह काफी विरोधाभाषी है. सहायक अध्यापकों की चयन प्रक्रिया में आरक्षण के नियमों को किस तरह और कैसे लागू किया गया, राज्य यह दिखाने में असफल रहा. रिपोर्ट के अनुसार, अंतिम चयन सूची में चयनित अभ्यर्थियों की श्रेणी का उल्लेख नहीं किया गया है. हालांकि जब सूचियों को जिलेवार प्रकाशित किया गया था तब चयनित उम्मीदवारों की श्रेणी का उल्लेख किया गया था.

ओबीसी की 18598 सीटों पर गड़गबड़ी

अंतरिम रिपोर्ट में कहा गया है कि सभी जिलों में प्रकाशित सूचियों के आधार पर और अभ्यर्थियों की श्रेणी के आधार पर चयन प्रक्रिया में व्यापक अनियमितता है. ओबीसी वर्ग के लिए आरक्षित 18598 सीटों में से 5844 सीटें ऐसी हैं जो अनारक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को दे दी गईं. हालांकि आयोग ने साफ किया है कि कोई भी पक्ष इस रिपोर्ट के तथ्यों में संशोधन चाहता है तो उन्हें 15 दिन का मौका दिया जाता है. उसके बाद रिपोर्ट को अंतिम समझा जाएगा.
ओबीसी और एससी वर्ग के अभ्यर्थियों ने किया था विरोध

बता दें कि भर्ती प्रक्रिया में आरक्षण के नियमों में गड़बड़ी की शिकायत को लेकर विरोध स्वरुप ओबीसी और एससी वर्ग के कई अभ्यर्थियों की ओर से राष्ट्रपति और राज्यपाल को इच्छा मृत्यु का पत्र भी लिखा जा चुका है. इसमें एससी और ओबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों ने लिखा था कि उनके साथ खिलवाड़ किया गया है.

ये भी पढ़ें-



Sarkari Naukri: भारत इलेक्ट्रॉनिक्स में बीटेक और एमबीए के लिए नौकरियां, सैलरी 50 हजार तक

JIPMAT Application Date 2021: ज्वाइंट इंटीग्रेटेड प्रोग्राम इन मैनेजमेंट दाखिला परीक्षा के आवेदन की तिथि बढ़ी, जानें अब तक

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज