लाइव टीवी

UPSC IAS Exam: संदेह के घेरे में प्रारम्भिक परीक्षा की तारीख

News18Hindi
Updated: March 30, 2020, 9:21 PM IST
UPSC IAS Exam: संदेह के घेरे में प्रारम्भिक परीक्षा की तारीख
UPSC स‍िव‍िल सेवा प्रारंभ‍िक परीक्षा की तारीख क्‍या है जानें.

UPSC IAS Exam: प्रारंभ‍िक परीक्षा की तारीख को लेकर अब तक कुछ स्‍पष्‍ट नहीं हो सका है. प्रारंभ‍िक परीक्षा के ल‍िये आवेदन फॉर्म भरने वाले उम्‍मीदवार यहां जानें क‍ि परीक्षा कब आयोजित होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 30, 2020, 9:21 PM IST
  • Share this:
UPSC IAS Exam: सिविल सेवा की प्रारम्भिक परीक्षा के अब केवल दो महीने ही शेष रह गए हैं. ले‍क‍िन कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थितियों को देखते हुए प्रत्येक परीक्षार्थी के मन में यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि इस बार यह परीक्षा अपने नियत समय पर हो पाएगी या नहीं? अपने इस ब्लाॅग में मैं इसी प्रश्न का उत्तर ढूंंढ़ने का तार्किक प्रयास कर रहा हूंं. बावजूद इसके कि अन्तिम रूप से निष्कर्ष निकालना पूरी तरह सही नहीं होगा. चूंकि इस तरह की परिस्थिति पहली बार आई है, इसलिए भी केवल अनुमान लगाना ही अधिक व्यावहारिक होना चाहिए.

संघ लोक सेवा आयोग ने सिविल सेवा के 10 दिनों के साक्षात्कार को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया है. इसे देखते हुए एक बात तो कही जा सकती है कि यदि वह इसी पैटर्न पर प्राम्भिक परीक्षा को भी स्थगित कर दे, तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए.

अभी तक प्रारम्भिक परीक्षा शुरू होने के कम से कम एक सप्ताह पहले आयोग पिछले वर्ष की परीक्षा के अंतिम परिणाम घोषित करता रहा है. चूंंकि इन्टरव्यू पूरे नहीं हो सके हैं, इसलिए अंतिम परिणाम अब इस बात पर निर्भर करेगा कि देश की स्थिति कब तक सामान्य होती है. वर्तमान में 15 अप्रैल तक का राष्ट्रीय बन्द घोषित है. यदि इस बन्द को आगे बढ़ाने की आवश्यकता हुई, तो निश्चित रूप से आयोग के लिए पिछले वर्ष का रिजल्ट समय पर घोषित करना मुश्किल होगा. ऐसी स्थिति में भी परीक्षा की तिथि के बढ़ाए जाने की संभावना अधिक होगी.



जहां तक सरकारी कामकाज का सवाल है, प्रशासन चल रहा है. सरकार एवं निजी संस्थानों के अधिकांश काम ‘वर्क एट होम’ के अनुसार हो रहे हैं. लेकिन आयोग इस परीक्षा के गोपनीय एवं संवेदनशील चरित्र को देखते हुए ‘वर्क एट होम’ की पद्धति को लागू नहीं कर सकता. फिलहाल वह क्या कर रहा है, इस बारे में न तो कोई सूचना है और न ही किसी सूचना की अपेक्षा की जानी चाहिए.



परीक्षा के संबंध में अभी आयोग के सामने दो मुख्य चुनौतियांं हैं - (1) पिछले वर्ष का रिजल्ट घोषित करना तथा (2) प्रारम्भिक एवं मुख्य परीक्षा के लिए राष्ट्रव्यापी तैयारी करना. यह एक बड़ा काम है. चूंंकि राज्यों की पूरी मशीनरी फिलहाल कोरोना के संक्रमण से जूझने में लगी हुई है, इसलिए स्वाभाविक है कि आयोग का काम पूरी तरह स्थगित ही चल रहा होगा. इससे भी परीक्षा की तिथि के बढ़ने की संभावना अधिक दिखाई देती है.

एक बात और भी गौर करने की है कि आयोग ने अपनी कुछ होने वाली परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है. इसका अर्थ है कि वह अपनी परीक्षाओं को स्थगित कर सकता है. लेकिन इसके साथ ही यह बात भी ध्यान देने की है कि उसने सिविल सेवा प्रारम्भिक परीक्षा के स्थगन की अभी तक न तो कोई घोषणा की है और न ही किसी प्रकार का कोई संकेत दिया है.

यहांं मैं परीक्षार्थियों से एक यह जरूरी बात अवश्य कहना चाहूंंगा कि वे अपने इन कारणों में तैयारी के कारण को न जोड़ें, फिर चाहे वे किसी कांचिंग इंस्टीट्यूट में दाखिला लेकर ही तैयारी क्यों न कर रहे हों. यह परीक्षार्थी का निहायत ही निजी निर्णय होता है और आयोग अपने विचार-क्षेत्र में इसे बिल्कुल भी नहीं रखेगा. यह कोई ऐसी विश्वविद्यालयीन परीक्षा नहीं है कि कोर्स के पूरा हुए बिना परीक्षा लेना विद्यार्थियों के साथ अन्याय करना होगा.

तो सवाल उठता है कि ऐसे में सिविल सेवा के परिक्षार्थियों को करना क्या चाहिए? यदि मैं आपकी जगह परीक्षा दे रहा होता, तो मैं मन में किसी भी तरह का संदेह लाये बिना अपनी तैयारी को ज्यों का त्यों जारी रखता, मानो कि 31 मई को ही परीक्षा देनी है. मान लीजिए कि परीक्षा दो महीने के लिए आगे बढ़ भी़ जाती है, तो यह मेरे लिए अच्छी तैयारी का एक अद्भुत अवसर प्रदान करेगी, न कि मेरी की गई तैयारी बेकार हो जाएगी. इसलिए मेरी सहाल यही है कि आपको अपनी तैयारी की गति को बिल्कुल भी धीमा नहीं करना चाहिए. परीक्षा होती है, तो ठीक है, और नहीं होती है, तो यह उससे भी अधिक ठीक है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 30, 2020, 8:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading