100 फुट लंबे नाले में खुद उतर गईं कानपुर की मेयर, नाक दबाए अफसर भी कूदे, देखें Video

कानपुर में मेयर ने खोज निकाला 100 फुट लंबा नाला और खुद उतरकर निरीक्षण भी किया

कानपुर में मेयर ने खोज निकाला 100 फुट लंबा नाला और खुद उतरकर निरीक्षण भी किया

कानपुर (Kanpur) की महापौर प्रमिला पांडे (Mayor Pramila Pandey) के नाले में कूदते ही अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए और आनन-फानन में एक-एक करके सारे अधिकारी न चाहते हुए भी उस नाले में उतरे.

  • Share this:

कानपुर. गंगा किनारे बसे कानपुर शहर (Kanpur City) में 110 वार्ड हैं, जिनमें नाला-सफाई के नाम पर हर साल बारिश आने आने से पूर्व टेंडर होता है. यहां नाला सफाई के नाम पर बंदरबांट भी होती है. कागजों पर तो नाले साफ हो जाते हैं मगर जरा सी बारिश दावों की पोल खोल देती है. पिछले 5 दशकों से कानपुर की वीआईपी रोड स्थित नाला चोक हो जाने की वजह से नाली का पानी सड़कों पर सड़कों का पानी घरों में पहुंचने के बाद क्षेत्र में बीमारियों को दावत देता है. जिसको लेकर अक्सर विरोध प्रदर्शन भी देखने को मिलता है.

नगर निगम को पता ही नहीं नाला भी है यहां?

पिछले दिनों भी यही देखने को मिला. जरा सी बारिश के बाद सड़क जलमग्न हो गई और इससे पूरे इलाके में लोगों को मुसीबत का सामना करना पड़ा. कानपुर की भाजपा की महापौर प्रमिला पांडे ने मानसून से पहले आई बारिश में वीआईपी रोड के जलभराव की घटना को गंभीरता से लिया. उन्होंने आरपीएच स्टेशन के पास अंग्रेजों के समय बना डॉट नाला ढूंढ़ निकाला, जो सड़कों के नीचे ढक गया था. महापौर प्रमिला पांडे ने नगर निगम के अधिशासी अभियंता अवर अभियंता और कनिष्ठ अभियंता के साथ आज खुदाई का कार्यक्रम शुरू कराया. 60 से ज्यादा सफाई कर्मियों और नगर निगम के कर्मियों ने जब खुदाई की तो वह सब आश्चर्यचकित रह गए. पता चला कि जब से नगर निगम बना है, तब से इस नाले पर किसी का ध्यान ही नहीं गया.

Youtube Video

ये भी पढ़ेंं:- UP Weather: मध्य, ब्रज क्षेत्र और बुंदेलखंड के इन 27 जिलों में शाम तक बारिश



हर साल की समस्या से परेशान थे सब लोग: मेयर

महापौर प्रमिला पांडे ने बताया कि हर साल बारिश आते ही वीवीआईपी इलाके में जलभराव हो जाता है, जिसके चलते सैकड़ों वाहन फंसते हैं. यही गंदा पानी लोगों के घरों में प्रवेश करता है, जिसकी जड़ तक जाने के लिए आज नाले के बगल से खुदाई का काम शुरू किया. सड़क के नीचे 100 फुट लंबा नाला मिला, जिसमें वह खुद उतरीं और 100 फुट तक अंडरग्राउंड नाले का निरीक्षण किया.

ये भी पढ़ें:- नाग-नागिन को लेकर भिड़े 2 गांव के लोग, खूनी संघर्ष में 10 घायल, 6 हिरासत में

नगर निगम अफसरों के फूले हाथ-पांव

मेयर ने इसके बाद अभियंताओं को निर्देश दिए कि 3 दिन के अंदर इसे पूरी तरीके से साफ कर दिया जाए ताकि शहरवासियों को इस मानसून में जलभराव की समस्या से ना जूझना पड़े. महापौर प्रमिला पांडे के नाले में कूदते ही अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए और आनन-फानन में एक-एक करके सारे अधिकारी न चाहते हुए भी उस नाले में उतरे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज