होम /न्यूज /kerala /

केरल में यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने विरोध में काटा जानवर, राहुल बोले- ये बर्दाश्त नहीं!

केरल में यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने विरोध में काटा जानवर, राहुल बोले- ये बर्दाश्त नहीं!

पशुओं की बिक्री पर केंद्र के रोक लगाए जाने के फैसले के विरोध में युवा कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने सार्वजनिक रूप से एक जानवर को काट डाला.

पशुओं की बिक्री पर केंद्र के रोक लगाए जाने के फैसले के विरोध में युवा कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने सार्वजनिक रूप से एक जानवर को काट डाला.

पशुओं की बिक्री पर केंद्र के रोक लगाए जाने के फैसले के विरोध में युवा कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने सार्वजनिक रूप से एक जानवर को काट डाला.

    पुलिस ने रविवार को युवा कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज़ किया, जिन्होंने वध के लिए पशुओं की बिक्री पर केंद्र के रोक लगाए जाने के फैसले के विरोध में यहां सार्वजनिक रूप से कथित तौर पर एक जानवर का वध किया.

    इस घटना की विभिन्न तबकों ने आलोचना की है. केरल बीजेपी के अध्यक्ष के राजशेखरन ने इस घटना का वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किया और कहा कि ये 'क्रूरता का चरम' है.

    कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस घटना की निंदा की है.  अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा, 'केरल में जो हुआ वो क्रूर है और मुझे या मेरी पार्टी ऐसे किसी भी चीज़ को बर्दाश्त नहीं करेगी. मैं कड़े शब्दों में इस घटना की आलोचना करता हूं.'



    उन्होंने कहा कि कोई भी सामान्य व्यक्ति इस तरह का आचरण नहीं कर सकता. माकपा के सांसद एम बी राजेश ने भी इसका विरोध करते हुए कहा कि इससे संघ परिवार को मदद ही मिलेगी.

    असहज स्थिति का सामना कर रही कांग्रेस ने इससे अपने को अलग करने का प्रयास करते हुए कहा कि पार्टी ऐसे किसी व्यक्ति का समर्थन नहीं करेगी जिसने कानून का उल्लंघन किया है.

    लेकिन इस विरोध का नेतृत्व करने वाले एक युवा कांग्रेस कार्यकर्ता ने कहा कि उन्हें इसका कोई अफसोस नहीं है.

    पुलिस सूत्रों ने बताया कि युवा मोर्चा के जिला महासचिव सी सी रतीश की शिकायत पर पुलिस ने रविवार को युवा कांग्रेस कार्यकर्ता रिजिल मकुलती के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत एक मामला दर्ज़ किया.

    उधर कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा, 'यदि किसी ने कानून का उल्लंघन किया है तो उससे कानून के अनुसार ही निबटा जाना चाहिए. कांग्रेस ने कभी कानून का उल्लंघन करने वाले का समर्थन नहीं किया है. हालांकि पहले ये प्रमाणित करने की आवश्यकता है कि जिसका वीडियो चलाया जा रहा है, उसका संबंध कांग्रेस से है भी या नहीं.'

    उधर रिजिल ने रविवार को एक टीवी चैनल से कहा, 'हमें अपने कृत्य पर कोई अफसोस नहीं है. ये हमारे विरोध प्रदर्शन के तहत किया गया.'

    Tags: Kerala

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर