90 फीसदी वेतन दान करने वाले 95 साल के धर्मपाल महाशय की दस खास बातें

लोग उन्हें धर्मपाल महाशयजी के नाम से जानते हैं. वो अब भी सक्रिय रहते हैं. रोज ऑफिस और फैक्ट्री जाते हैं

News18Hindi
Updated: October 8, 2018, 10:09 AM IST
News18Hindi
Updated: October 8, 2018, 10:09 AM IST
एमडीएच मसाला कंपनी के सीईओ धर्मपाल गुलाटी स्वस्थ हैं. अपने निधन की गलत खबरों के कारण रविवार सुबह से वह सुर्खियों में हैं, उनकी सक्रियता अब भी गजब की है. वो अब भी तकरीबन रोज अपने ऑफिस और फैक्ट्री जाते हैं, काम करते हैं. रविवार के दिन भी वो आफिस जाते हैं. जिस दिन उनके बारे में गलत खबरें मीडिया में आईं, उस दिन इन तमाम खबरों का खंडन करते हुए उनके ऑफिस से कहा गया कि वो आज भी ऑफिस पहुंचने वाले हैं. उनके बारे में दस खास बातें, जो आपको जाननी चाहिए.

1. पक्के आर्यसमाजी - धर्मपाल पक्के आर्यसमाजी हैं. हाल ही में उन्होंने दिल्ली में विश्व आर्यसमाज सम्मेलन आयोजित कराया था. इसमें दुनियाभर के कई देशों के लोगों ने शिरकत की थी.

ये भी पढ़ें - जब सरदार पटेल के बड़े भाई ने नेताजी सुभाष बोस के नाम कर दी थी अपनी वसीयत

2. तांगा भी चलाया- मसालों का कारोबार छोटे तौर पर सियालकोट में उनके पिता ने 1919 में शुरू किया था. बंटवारे के बाद जब उनका परिवार शरणार्थी के रूप में भारत आया तो आजीविका के लिए उन्होंने बहुत दिनों तक तांगा चलाया लेकिन जब उन्हें महसूस होने लगा कि ये काम ज्यादा नहीं चलने वाला तब उन्होंने करोलबाग में एक छोटे से लकड़ी के खोखे में मसाले की दुकान शुरू की, जो चल निकली.

एमडीएच के प्रमुख धर्मपाल जी बंटवारे के बाद दिल्ली शरणार्थी के रूप में आए थे (छाया सौजन्य - फेसबुक पेज)


3. खुद ब्रैंड एंबेसडर - धरमपाल आमतौर पर अपने विश्वप्रसिद्ध मसाला ब्रांड एमडीएच के ब्रैंड एंबेसडर खुद ही थे. लंबे समय से अपने मसालों के एड में उनकी मौजूदगी अनिवार्य होती थी. एमडीएच के हर मसाले के पैकेट पर भी उनका फोटो जरूर होता है.

ये भी पढ़ें - क्या है वो परनामी संप्रदाय, जिसे मानती थीं गांधीजी की मां

4. बाजार में कंपनी की हिस्सेदारी - उन्होंने एमडीएच की शुरुआत जरूर छोटे स्तर पर भारत में की लेकिन मौजूदा समय में इसकी देश के मसाला बाजार में 12 फीसदी हिस्सेदारी है. उनकी कंपनी 62 उत्पाद तैयार करती है, जो 150 पैकेट्स में उपलब्ध है.

धर्मपाल की सालाना सैलरी 24 करोड़ रुपए है (छाया सौजन्य - फेसबुक पेज)


5. 24 करोड़ की सालाना सैलरी - अपनी कंपनी के सीईओ धर्मपाल गुलाटी खुद ही हैं, उनकी सैलरी जानकर आप हैरान रह जाएंगे. उनका सालाना पैकेज दो साल पहले 24 करोड़ रुपए का था. कंज्यूमर प्रोडेक्ट जैसी कंपनियों में गुलाटी की सैलेरी सबसे ज्यादा है.कंपनी की 80 फीसदी हिस्सेदारी भी उन्हीं के पास है. उनका कहना है कि वो अपने वेतन का 90 फीसदी हिस्सा चैरिटी में देते हैं.

 ये भी पढ़ें - क्या चीन बनाने वाला है पाकिस्तान को गुलाम?

6. कुल कारोबार - धर्मपाल की कंपनी महाशियां दी हट्टी कंपनी फिलहाल 1500 करोड़ रुपये से कहीं ज्यादा का है. उनके ग्रुप के पास 15 फैक्ट्रियां, 1000 डीलर्स हैं. दुनिया के सभी बड़े देशों और शहरों में उनकी कंपनी के आफिस और कारोबार फैला हुआ है.

95 साल की उम्र में भी उनका जोश देखते बनता है (छाया सौजन्य - फेसबुक पेज)


7. पगड़ी वाले दादाजी- गुलाटी जी को लोग कई रूपों में जानते हैं. कुल लोग उन्हें एमडीएच के पगड़ी वाले दादाजी कहते हैं. कुछ लोगों के लिए वो महाशय जी हैं. वो लगातार अपने डीलर्स से मिलते हैं. उनकी सुबह 04.30 बजे शुरू होती है और वो रात 11 बजे तक व्यस्त रहते हैं.

ये भी पढ़ें - IS की सेक्स स्लेव और हजारों रेप पीड़िताओं के मसीहा को मिला शांति का नोबेल

8. कांट्रैक्स फार्मिंग भी कराते हैं - उन्होंने पिछले 60 सालों में दिल्ली में 20 स्कूल और कई अस्पताल भी खोले हैं. उनकी कंपनी कांंट्रैक्ट फार्मिंग भी करती है. उसके मसालों के मुख्य स्रोत कर्नाटक और राजस्थान के अलावा ईरान और अफगानिस्तान हैं.

अपनी कंपनी में कर्मचारियों के साथ धर्मपाल गुलाटी (छाया सौजन्य - फेसबुक पेज)


9. परिवार कितना बड़ा - धर्मपाल जी के परिवार में एक बेटे और छह बेटियां हैं. उनका बेटा पूरे कारोबार के आपरेशंस को देखता है तो छह बेटियां रीजन आधार पर डिस्ट्रीब्यूशन देखने का काम करती हैं.

10. कई कारोबार में हाथ आजमाया - धर्मपाल जी ने केवल पांचवीं तक की पढाई की थी. वो शुरू में अपने पिता के मसाले के बिजनेस से अलग व्यापार में हाथ आजमाना और सफल होना चाहते थे. इसके लिए उन्होंने सियालकोट में रहते हुए कई तरह के बिजनेस में हाथ आजमाया लेकिन वो किसी में सफल नहीं हो पाए.

ये भी पढ़ें - Wi-Fi 6 से 1 सेकेंड में हो जाएंगी 3 फिल्में डाउनलोड
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर