Home /News /knowledge /

संजय गांधी की खोज थे सज्जन कुमार, दिल्ली के 2 मुख्यमंत्रियों को दी थी करारी मात

संजय गांधी की खोज थे सज्जन कुमार, दिल्ली के 2 मुख्यमंत्रियों को दी थी करारी मात

सज्जन कुमार (फाइल फोटो)

सज्जन कुमार (फाइल फोटो)

सज्जन कुमार का राजनीतिक करियर एक समय अर्श पर था. उन्होंने अपने करियर के पहले ही चुनाव में तूफानी जीत हासिल कर तहलका मचा दिया था.

    दिल्ली हाईकोर्ट ने 1984 सिख विरोधी दंगों के मामले में दोषी करार सज्जन कुमार आज सरेंडर करने वाले हैं. उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. उम्रकैद के अलावा सज्जन कुमार पर 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. बाकी दोषियों को भी जुर्माने के तौर पर एक-एक लाख रुपये देने होंगे. सज्जन कुमार का राजनीतिक करियर एक समय अर्श पर था. उन्होंने अपने करियर के पहले ही चुनाव में तूफानी जीत हासिल कर तहलका मचा दिया था. आइए एक नजर डालते हैं सज्जन कुमार के राजनीतिक करियर पर.

    1. 23 सितंबर 1945 को दिल्ली में जन्मे सज्जन कुमार की आर्थिक स्थिति सही नहीं थी. 70 के दशक में उनकी राजनीति में दिलचस्पी बढ़ी और दिल्ली में नगरपालिका चुनाव में सज्जन कुमार ने जी हासिल की.

    2. सज्जन कुमार को संजय गांधी की खोज माना जाता है. कहा जाता है कि संजय गांधी के कहने पर ही सज्जन कुमार नगरपालिका चुनाव लड़े थे और उन्होंने जीत भी हासिल की थी. सज्जन कुमार ने 1980 में पहली बार दिल्ली से लोकसभा चुनाव लड़ा और उन्होंने दिल्ली के पहले मुख्यमंत्री रहे ब्रम्हा प्रकाश को चुनावों में पटखनी दे दी.

    3. 31 अक्टूबर 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सज्जन कुमार सिख दंगा केस में फंस गए. कांग्रेस ने 1989 में उनका टिकट भी काट दिया. उनकी जगह भारत सिंह को टिकट मिला और कांग्रेस को वो सीट गंवानी पड़ी.

    सज्जन कुमार


    4. सज्जन कुमार को 1991 के चुनाव में एक बार फिर कांग्रेस का टिकट मिला और इस बार उन्होंने बीजेपी के कद्दावर जाट नेता साहिब सिंह वर्मा को मात दी. सज्जन कुमार ने आउटर दिल्ली संसदीय क्षेत्र से वर्मा को 86,791 वोटों से चुनाव हराकर बड़ा उलटफेर किया. ये भी पढ़ें- सज्जन को सजा: सिख विरोधी दंगों की कहानी, तिलक विहार के लोगों की जुबानी

    5. सज्जन कुमार 1996 में 2 लाख से भी ज्यादा वोट से हारे. दरअसल आउटर दिल्ली पर बीजेपी ने उनके खिलाफ ब्राह्मण उम्मीदवार खड़ा कर बाजी मार ली. इसके बाद अगले दो चुनावों में कांग्रेस ने उन्हें टिकट नहीं दिया.

    6. 2004 में एक बार फिर सज्जन कुमार ने लोकसभा चुनाव लड़ा और उन्होंने दिल्ली के सीएम रह चुके साहिब सिंह वर्मा को एकबार फिर एकतरफा अंदाज में हराया. सज्जन कुमार 2,23,790 वोट से जीते. ये साहिब सिंह का आखिरी चुनाव भी साबित हुआ.

    ये भी पढ़ें- इंसाफ मिला तो छलका दर्द- '5 लाख देती हूं, मेरे सामने सज्जन कुमार के बच्चों को जलाओ'

    Tags: 1984 sikh riots, Delhi, Sajjan kumar, Sanjay gandhi, Trending news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर