अपना शहर चुनें

States

जानिए ब्रह्माण्ड के बारे में क्या नई बातें बता रही है दो बड़ी गैलेक्सी की खोज

दोनों ही गैलेक्सी (Galaxy) को ब्रह्माण्ड (Universe) के विशालतम पिंडों की श्रेणी में रखा गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
दोनों ही गैलेक्सी (Galaxy) को ब्रह्माण्ड (Universe) के विशालतम पिंडों की श्रेणी में रखा गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

ब्रह्माण्ड (Universe) के अब तक के विशालतम पिंडों के खोज के तहत खगोलविदों ने दो बहुत ही बड़ी गैलेक्सी (Galaxies) खोजी हैं जो हमारी मिल्की वे (Milky Way) से 62 गुना ज्यादा बड़ी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2021, 7:57 PM IST
  • Share this:
हमारे ब्रह्माण्ड (Universe) गैलेक्सी (Galaxies) की भरमार है. गैलेक्सी से प्रकाशकी किरणें  (Light Rays) दूर दूर तक जाती हैं जिससे हमारे खगोलविद उनकी उपस्थिति का पता लगा पाते हैं. लेकिन कम लोगों को यह पता है कि कुछ गैलेक्सी ऐसी होती हैं जो प्रकाश कि किरणों से ज्यादा रेडियो तरंगे (Radio waves) उत्सर्जित करती हैं. हाल ही में वैज्ञानिकों ने ऐसी दो बहुत ही बड़ी गैलेक्सी खोजी हैं जो हमारी गैलेक्सी मिल्की वे (Milky Way) से 62 गुना बड़ी हैं.

किसने खोजी ये गैलेक्सी
खगोलविदों ने इन नई गैलेक्सी को जायंट रेडियो गैलेक्सी (giant radio galaxies) या GRG की श्रेणी में रखा है. इन गैलेक्सी की खोज दक्षिण अफ्रीका के साउथ अफ्रीकन रेडियो एस्ट्रोनॉमी ऑबजर्वेटरी के मीरकैट रेडियो टेलीस्कोप के जरिए हुए. इस खोज की पड़ताल मंथली नोटिसेस ऑफ द रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी में प्रकाशित हुई हैं.

कितनी बड़ी हैं ये गैलेक्सी
केपटाउन यूनिवर्सिटी में फेलो शोधकर्ता डॉ जैसिंटा डेलहेज ने इस खोज के बारे में विस्तार से बताया. उन्होंने कहा कि हाल ही में खोजी गई ये नई गैलेक्सी बहुत कम देखने मिलती है. ये गैलेक्सी ब्रह्माण्ड में मौजूद विशालतम एकल पिंडों में शामिल हैं. दोनों में से हर गैलेक्सी का आकार हमारी गैलेक्सी मिल्की वे के व्यास से 62 गुना ज्यादा बड़ा है. इस वजह से वे अब तक खोजे सभी विशालकाय पिंडों से 93 प्रतिशत बड़ी हैं.



Galaxy, Galaxies, giant radio galaxies, GRG, Milky Way, Universe, Black Hole, Formation of Stars,
इस तरह की गैलेक्सी (Galaxies) के ब्लैकहोल (Black Hole) तारों के निर्माण को बहुत अधिक प्रभावित करते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


यह धारणा बनेगी
ये विशाल गैलेक्सी ब्रह्माण्ड की दूसरी गैलेक्सी से बहुत ही बड़ी हैं, लेकिन ब्रह्माण्ड की रेडियो गैलेक्सी की संख्या भी लाखों में हैं, इनमें से इस प्रकार की केवल 800 विशालकाय गैलेक्सी खोजी जा सकी हैं. इन गैलेक्सी की खोज रेडियो टेलीस्कोप की कमी की वजह से नहीं हो पा रही थी. लेकिन मीरकैट इनके धुंधले, बिखरे हुए प्रकाश को पहचान सकता है जो पुराने टेलीस्कोप नहीं कर सकते थे.

तीन तारों के सिस्टम के बाह्यग्रह की खोज की हुई पुष्टि, 10 साल का लगा समय

गैलेक्सी के ब्लैकहोल की भूमिका
बहुत सी गैलेक्सी के केंद्र में एक सुपरमासिव ब्लैकहोल होता है. जब इस के आसपास विशाल मात्रा में गैस और धूल चक्कर लगाते हैं तो पदार्थ इस ब्लैक होल में समाने लगता है. इससे ब्लैकहोल की सक्रियता बढ़ जाती है और ब्लैक होल से बड़ी मात्रा में पदार्थ उत्सर्जित होने लगता है. कुछ गैलेक्सी में यह उत्सर्जित पदार्थ एक रेडियो जेट के रूप में निकलता है.

, Galaxy, Galaxies, giant radio galaxies, GRG, Milky Way, Universe, Black Hole, Formation of Stars,
ब्लैकहोल (Black Hole) से निकलने वाला रेडियो जेट गैलेक्सी की ही मौत का सबब बन सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


उत्साहजनक है ये खोज
रेडियो गैलेक्सी को रेडियो लिम्युनस गैलेक्सी भी कहा जाता है. इनके उत्सर्जन ऊष्मा पर आधारित नहीं होते हैं. शोधकर्ताओं के मुताबिक यह खोज बहुत ही उत्साह पैदा करने वाली है क्योंकि खगलोविद वास्तव में इतनी विशाल आकार की, लेकिन आसमान में बहुत धुंधली दिखने वाली गैलेक्सी खोज सके. डेलहेजे का मानना है कि इससे इस विचार को बल मिलता है कि जितना समझा जा रहा था इस तरह के गैलेक्सी कहीं ज्यादा हैं और ये गैलेक्सी के जन्म और उनके विकास की जानकारी दे सकती हैं.

जानिए कैसे नासा के खगोलविदों ने पता लगा लगाई सुपरनोवा की उम्र

तारों के निर्माण पर असर
रेडियो गैलेक्सी के ये रेडियो जेट अपनी गैलेक्सी से भी बहुत बड़े होते हैं और गैलेक्सी के बाहर तक चले जाते हैं. इस तरह की गैलेक्सी शोधकर्ताओं ने आकाश के बहुत ही छोटे से हिस्से में देखी हैं इसलिए वे मानते हैं ऐसी गैलेक्सी की संख्या बहुत ज्यादा होनी चाहिए. उनका यह भी मानना है कि हैरानी की बात यह होनी चाहिए कि ऐसी गैलेक्सी इतनी कम क्यों हैं. इसके अलावा रेडियो जेट्स अपनी गैलेक्सी के तारों के निर्माण को भी प्रभावित करते हैं. इससे तारों का निर्माण रुक सकता है और गैलेक्सी मर भी सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज