30 अप्रैल : शादी के चंद घंटों बाद ही क्यों हिटलर ने बंकर में कर ली खुदकुशी

हिटलर को अप्रैल 1945 के आखिरी हफ्ते में अंदाज हो गया था कि अब हार उसके सामने है.

हिटलर को अप्रैल 1945 के आखिरी हफ्ते में अंदाज हो गया था कि अब हार उसके सामने है.

जर्मन का नाजी तानाशाह हिटलर चारों ओर से घिर चुका था. उसके सामने दो ही रास्ते थे या तो समर्पण कर दे या फिर अपनी जान दे दे. हिटलर ने दूसरा रास्ता चुना. बंकर में पहले उसने अपनी प्रेमिका से शादी रचाई और फिर डॉक्टर से आत्महत्या का सबसे अच्छा तरीका पूछा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 2:31 PM IST
  • Share this:
अप्रैल 1945 के आखिरी हफ्ते तक जर्मनी की हार तय हो चुकी थी. मित्र सेनाओं का शिकंजा कसता जा रहा था. जर्मनी का नाजी तानाशाह एडोल्ड हिटलर चारों ओर से घिरता जा रहा था. उसे अंदाज हो गया था कि अब उसके सामने दो ही रास्ते हैं या तो जर्मनी की हार स्वीकार कर ले और खुद को मित्र सेनाओं के सुपुर्द कर दे या फिर अपनी जान दे दे. हिटलर डर रहा था कि अगर उसने समर्पण किया तो उसका ना जाने क्या हाल होगा, लिहाजा वो अपने बंकर में खुदकुशी की योजना बनाने में लग गया.

जहां तक जर्मनी के लोगों की बात थी, वो भी मान चुके थे कि हिटलर का अच्छा समय खत्म हो चुका है. जिस तरह से वो घिरता जा रहा है, उसमें अब उसके पैर उखड़ने ही हैं. हिटलर आखिरी बार 20 अप्रैल को अपने जन्मदिन पर एक सार्वजनिक समारोह में उपस्थित हुआ. उसके बाद वो गायब सा ही हो गया.

असल में हिटलर ने इसके बाद बर्लिन के ब्रांडेनबर्ग गेट के पास एक सुरक्षित बंकर में शरण ले ली. ये काफी बड़ा और आरामदायक बंकर था. जिसमें वो अपने कमांड स्टाफ और कुछ निजी लोगों से घिरा रहता था, जिसमें उनकी प्रेमिका ईवा ब्राउन भी शामिल थीं.

अपने आखिरी दिनों में हिटलर को ये चिंता सताने लगी थी कि अब उसके करीबी सलाहकार ही उसे धोखा देंगे. वह हालात से विचलित था. रह-रहकर नाराज हो जाता. जब उसे मालूम हुआ कि उसके एक कमांडर फेलिक्स स्टीनर ने उसके आदेश को मानने से मना कर दिया तो उसे गहरी चोट पहुंची. उस दिन वो फूट-फूटकर बच्चे की तरह रोया.
जब हिटलर को ये पता लगा कि मुसोलिनी विरोधियों के हाथ लग गया और उसे गोली मार दी गई तो ये उसके लिए बहुत बड़ा झटका था. इसके बाद उसने तय कर लिया कि दुश्मन के हाथ पड़ने से अच्छा है कि वो खुदकुशी कर ले.


इसी दिन उसे अंदाज हो गया कि उसके दिन खत्म हो चुके हैं. तब उसने अपने विश्वसनीय निजी डॉक्टर को तलब किया. निजी डॉक्टर वर्नर हास से उसने आत्महत्या के सबसे बेहतर विकल्पों के बारे में पूछा.

हिटलर ने शादी रचाई और फिर आत्महत्या की चर्चाएं होने लगीं



29 अप्रैल तक स्थिति और खराब हो चुकी थी. इसी दिन हिटलर ने सुबह-सुबह ईवा ब्राउन से शादी की. हालांकि शादी में जश्न मनाने जैसा कुछ नहीं था. शादी के बाद हिटलर कैंप आत्महत्या के तरीकों की चर्चा में ही अधिक मशगूल था. इसी बीच उसे पता लगा कि इटली के तानाशाह और उसके दोस्त बेनितो मुसोलिनी को गोली मार दी गई. उसके बाद उसके शव के साथ जनता ने बहुत बदसलूकी की.

30 अप्रैल 1945 को पहले हिटलर के कुत्ते को साइनाइड दी गई 

30 अप्रैल, रात 01 बजे: फील्ड मार्शल विलियम केटल ने बताया कि पूरी सेना घिर चुकी है. अब कोई रास्ता बचा नहीं है. इसके बाद सुबह चार बजे हिटलर के प्रिय जर्मन शेफर्ड, ब्लोंडी को साइनाइड की गोलियां खिलाई गईं. जाहिर तौर पर देखा जा रहा था कि ये गोलियां कितनी असरदार हैं. ब्लोंडी तुरंत मर गया था.

30 अप्रैल, सुबह 10.30 बजे: हिटलर जनरल हेलमुथ वीडलिंग से मिला. जिसने बताया कि अंत करीब है. हिटलर उसे भी साफतौर पर जता देता है कि वो आत्मसमर्पण नहीं करेगा.

30 अप्रैल, दोपहर 2:00 बजे : हिटलर, अपनी प्रेमिका ईवा ब्राउन, ट्रूडल जुंज, और अन्य सचिवों के साथ बंकर में लंच के लिए बैठता है. इस दौरान वो सबसे वादा करता है कि अगर वो चाहें तो सभी को साइनाइड की गोलियां दे सकता है.

30 अप्रैल, दोपहर  3:30 बजे  : गोली चलने की तेज आवाज आती है. जब हिटलर का कमरा खोला जाता है तो नजर आता है कि हिटलर ने खुद को गोली मार ली है. ईवा ब्राउन ने साइनाइड खाकर जान दे दी है.

मर गया हिटलर

01 मई को जर्मनी और दुनिया में ये खबर प्रसारित होती है कि हिटलर मर चुका है.इसी के साथ दुनिया में आतंक और अमानवीयता के साथ कलंक का एक अध्याय भी खत्म हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज