लाइव टीवी

40 साल पहले भारत से कहीं ज्यादा गरीब था चीन, फिर कैसे बदल गई तस्वीर

News18Hindi
Updated: September 30, 2019, 3:09 PM IST
40 साल पहले भारत से कहीं ज्यादा गरीब था चीन, फिर कैसे बदल गई तस्वीर
70 के दशक में चीन

1978 में जब चीन ने आर्थिक सुधार की शुरुआत की तो वहां प्रति व्यक्ति आय 155 अमेरिकी डॉलर थी जबकि भारत की प्रति व्यक्ति आय तब 210 डॉलर. भारत में तब कहीं ज्यादा समृद्धि थी लेकिन आज तस्वीर एकदम बदल चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2019, 3:09 PM IST
  • Share this:
एक अक्टूबर को चीन में कम्युनिस्ट शासन के 70 साल (70 years of Communist Party rule in China) पूरे हो रहे हैं. इन 70 सालों में चीन (China) ने बहुत उतार-चढ़ाव देखे लेकिन हकीकत ये भी है कि 40 साल पहले का चीन, भारत (india) से कहीं ज्यादा गरीब था. उसकी आर्थिक हालत बहुत खस्ता थी. व्यवस्थाएं हिली हुई थीं. देश में गरीबी थी. बड़ी आबादी बुरे हाल में रहती थी. लग्जरी की बात तो वहां सोची ही नहीं जा सकती थी थी.

वर्ल्ड बैंक (world banik report) की रिपोर्ट कहती है कि तब चीन में भारत से 26 फीसदी ज्यादा गरीब थे. लेकिन 1978 के बाद चीन में तेजी से बदलाव आने लगा. अब वो दुनिया की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था (second big economy of the world)  बन चुका है. चीन के लोग भारत से पांच गुना से ज्यादा अमीर हो चुके हैं.
वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के अनुसार 1978 के बाद चीन ने एकसाथ कई क्षेत्रों में सुधार के कार्यक्रम शुरू किए, इसके तहत चीन ने अगर उत्पादन और उद्योग धंधों में विकास का तेज काम शुरू किया तो भूमि सुधार, शिक्षा व्यवस्था में विस्तार और जनसंख्या नियंत्रण के कदम उठाए.

ये भी पढ़ें - सितंबर महीने में क्यों हो रही है इतनी बारिश?

तब भारतीय थे कहीं ज्यादा समृद्ध
1978 में जब चीन ने आर्थिक सुधार की शुरुआत की तो वहां प्रति व्यक्ति आय 155 अमेरिकी डॉलर थी जबकि भारत की प्रति व्यक्ति आय तब 210 डॉलर थी. साफ है कि भारत में तब कहीं ज्यादा समृद्धि थी लेकिन आज तस्वीर एकदम बदल चुकी है.

चीन संपन्नता और वैभव के साथ हर क्षेत्र में बहुत आगे जा चुका है. बिना किसी शक के लोग उसे अमेरिका के बाद दुनिया की दूसरी बड़ी ताकत मानने लगे हैं. 1978 के रिफॉर्म ने भारत को चीन के मुकाबले बहुत पीछे धकेल दिया.चीन में प्रति व्यक्ति आय
भारत में आर्थिक सुधारों का सिलसिला 1991 में से शुरू हुआ. उस दौरान चीनियों की प्रति व्यक्ति आय 331 डॉलर हो गई जबकि प्रति भारतीय की आय 309 डॉलर थी. अब चीन की प्रति व्यक्ति आय भारत से पांच गुनी ज्यादा है

ये भी पढ़ें - #Gandhi@150: पटेल चाहते थे कि गांधी की प्रार्थनासभा में आने वालों की तलाशी हो लेकिन क्यों नहीं कर पाए ऐसा

साल 2015 के आंकड़ों के मुताबिक चीन की प्रति व्यक्ति आय जहां 7,925 डॉलर थी, वहीं भारत की प्रति व्यक्ति आय महज 1,582 डॉलर थी. 25 साल में चीन की प्रति व्यक्ति आय 24 गुना बढ़ी

70 के दशक तक चीन की सेना के पास साधारण वर्दियां और साजोसामान होते थे. वही सेना अब दुनिया की सबसे आधुनिक सेना में बदल चुकी है


अब चीनी हमसे कहीं ज्यादा अमीर
कभी हमारी तुलना में गरीब रहे चीनी आज हमसे करीब 5 गुना अमीर हो गए हैं क्योंकि 1991 के बाद से हमारी प्रति व्यक्ति आय सिर्फ 5 गुना बढ़ी तो इस दौरान चीन की प्रति व्यक्ति आय में 24 गुना का बड़ा इजाफा हुआ.

1978 से पहले चीन की इकोनॉमी दुनिया के लिए नहीं ओपन हुई थी. माओ के शासनकाल में दुनिया के लिए चीन ने अपने दरवाजे हर क्षेत्र में ही बंद किए हुए थे. माओ के उत्तराधिकारी देंग जियाओपियांग ने चीन की इकोनॉमी को खोला. फिर उसके बाद उसका विकास और शहरीकरण बहुत तेज रफ्तार से हुआ.

70 के दशक में चीन में लोगों के पास साइकिलें होती थीं.


केवल 20 फीसदी लोग शहरों में रहते थे 
1978 से पहले चीन की 90 फीसदी आबादी बहुत गरीबी में रहती थी. शहरों में महज 20 फीसदी लोग ही रहते थे. 1978 में चीन सियासी तौर पर चौराहे पर खड़ा था. उसे ये फैसला करना था कि वो सांस्कृतिक क्रांति और चेयरमैन माओ के निधन के बाद किधर जाए. हालांकि माओ की छाप वहां इतनी गहरी थी कि कोई भी बदलाव बहुत मुश्किल था. कम्युनिस्ट पार्टी में चीन के नए फैसले को लेकर लंबी बहस भी चली कि चीन अब किधर जाए.

ये भी पढ़ें - जब अयोध्या में विवादित परिसर को 3 हिस्सों में बांटा गया था...

उस दिन नए चीन का जन्म हुआ 
आखिरकार 18 दिसंबर 1978 में चीन के प्रमुख नेता देंग जियाओपेंग ने जवाब दिया. बीजिंग में उस दिन कम्युनिस्ट पार्टी की मीटिंग में उनके विकासशील प्रोग्राम और आर्थिक सुधारों को लागू करने का फैसला लिया गया. इस तरह उस दिन एक चीन का जन्म हुआ. ये चीन की दूसरी क्रांति थी. देंग खुद को लो प्रोफ़ाइल में रखते थे लेकिन उनका पूरा ध्यान चीनी अर्थव्यवस्था को तेज़ी पर लाने पर था.

1981 तक भी चीन की सड़कों पर साइकिलें ही नजर आती थीं. बदलाव शुरू हो गया था लेकिन उसका असर अभी नजर नहीं आ रहा था


उस दिन पूरे चीन में जश्न मनाया गया. लोग खुशी मनाते हुए सड़कों पर आ गए. परिवारों ने डिनर टेबल पर शराब की बोतलें खोलीं और एक दूसरे को बधाई दी. इसके 40 साल बाद चीन में सबकुछ बदल चुका है. जब ये शुरुआत हुई तो चीन का दुनिया की अर्थव्यवस्था में हिस्सा महज 1.8 फ़ीसदी था जो 2017 में 18.2 फ़ीसदी हो गया.

दरअसल चीन ने उदारीकरण के लिए पूरा खाका तैयार किया था. चीन के नेताओं ने केंद्रीय नियंत्रण वाले नेतृत्व पर ज़ोर दिया, लेकिन स्थानीय सरकार, निजी कंपनियां और विदेशी निवेशकों के बीच बढिया तालमेल बनाया.

ये भी पढ़ें - चार बेटों में कौन था महात्मा गांधी का सबसे काबिल बेटा, किसने दी मुखाग्नि

अब कारें ही कारें
पहले चीन की सड़कों पर साइकिलें दिखती थीं. कारें शायद ही नजर आती थीं. अब सड़कें कारों से खचाखच भरी हुई हैं. देशभर 3000 लाख रजिस्टर्ड कारें हैं.- अब वहां बाइक और साइकिलें सड़कों पर बहुत कम दिखती हैं. वहां लगातार ट्रैफिक जाम रहता है.

80 के दशक के आखिर तक सड़कों पर साइकिलें तो थीं लेकिन वाहन भी नजर आने लगे थे


कुलांचे भरती जीडीपी
चीन के बाजार सामानों से पटे नजर आते हैं. चीन की जीडीपी कुलांचे भर रही है. चीन के बाजारों में दुनिया के सबसे बेहतरीन लग्जरी गुड्स बेचे जाते हैं. आज की तारीख़ में चीन दुनिया का वो देश है,जिसके पास सबसे ज़्यादा विदेशी मुद्रा भंडार (3.12 ख़रब डॉलर) है. जीडीपी के आकार के मामले में ये दूसरा सबसे बड़ा देश है. जबकि विदेशी निवेश को आकर्षित करने में दुनिया में तीसरे नंबर पर. कहा जाने लगा है कि चीन मौजूदा समय में मैन्युफैक्चरिंग सुपरपॉवर बनने की ओर बढ़ रहा है.

मैन्युफैक्चरिंग सुपरपॉवर
शी जिनपिंग चीन की अर्थव्यवस्था को और प्रभावी बनाने के लिए मैन्युफ़ैक्चरिंग के मामले में सुपरपावर बनाना चाहते हैं. इसके लिए शी जिनपिंग डांग श्याओपिंग की नीतियों को ही आगे बढ़ा रहे हैं, जिनमें अर्थव्यवस्था को खोलना और आर्थिक सुधार जैसे क़दम शामिल हैं.

इसके लिए उसने विशेष आर्थिक क्षेत्र का निर्माण किया. विशेष आर्थिक क्षेत्र के लिए चीन ने दक्षिणी तटीय प्रांतों को चुना. चीन का विदेशी व्यापार 17,500 फ़ीसदी बढ़ चुका है. 2015 तक वो विदेशी व्यापार में दुनिया में अगुवा बन गया. 1978 में चीन ने पूरे साल जितने व्यापार किया था अब वो उतना महज दो दिनों में करता है.

अब चीन में ये हालत है. साइकल के ट्रैक में इक्का दुक्का साइकिलें दिखती हैं लेकिन कारों से सड़कें पटी रहती हैं


भारत और चीन की अर्थव्यवस्था
वर्ष 2015 के आंकडों के अनुसार भारत की जीडीपी 1.5 ट्रिलियन के करीब है जबकि चीन की जीडीपी की स्थिति सात ट्रिलियन है. चीन की अर्थव्यवस्था हमसे कम से कम चार गुना ज्यादा बड़ी है.

चीन की मैन्युफैक्चरिंग भारत से 1.6 गुना ज्यादा
चीन भारत की तुलना में कहीं ज्यादा सामान का उत्पादन करता है. चीन के श्रमिक भारत की तुलना में 1.6 गुना ज्यादा उत्पादन करते हैं. इसका मतलब ये भी एक देश के तौर पर चीन की उत्पादकता भारत की तुलना में 60 फीसदी ज्यादा है.

 

ये भी पढ़ें - अघोरी साधुओं के ऐसे डार्क सीक्रेट्स, जो कानूनन जुर्म या अवैध हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 30, 2019, 1:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर