दो चरणों में तैयार हुआ था हमारा शुरुआती सौरमंडल- शोध ने बताया कैसे

सौरमंडल (Solar System) के निर्माण के इस अध्ययन ने बहुत सारे सवालों के जवाब दिए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

हमारे सौरमंडल (Solar System) के निर्माण (Formation) के बारे में हुए शोध पर खगोलविदों (Astronomers) ने पता लगाया है कि उसके ग्रहों (Planets) का निर्माण दो चरणों में हुआ था.

  • Share this:
    Solar System, Formation of solar system, Planets, Accretion Disk, Asteroids, Meteorites,
    हमारे सौर मंडल (Solar System) के पहले चार ग्रह बाकी ग्रहों (Planet) से बहुत ही अलग हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


    हमारे सौरमंडल (Solar System) का निर्माण (Formation) कैसे हुआ इस पर वैज्ञानिकों ने कई तरह के मत दिए हैं. हमारे खगोलविदों ने आज के स्वरूपों को देखते हुए अपने मतों का परीक्षण करते हैं लेकिन अभी तक कोई ऐसा मत सामने नहीं आया है जो सौरमंडल की वर्तमान सभी स्थितियों की व्याख्या कर सकें.  ताज शोध ने सौरमंडल के निर्माण और स्वरूप का ऐसा सैद्धांतिक सिस्टम दिया है जो हमारे ग्रहों (Planets) की स्थितियों, के साथ ही क्षुद्रग्रहों(Asteroids)  और उल्काओं (Meteors) की भी व्याख्या करने में सक्षम है.

    जानिए मिल्की वे की डिस्क में मिले सुपरअर्थ की किस बात से वैज्ञानिक हुए हैरान

     इन घटनाओं की भी व्याख्या
    यह अध्ययन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, एलएमयू म्यूनिख, ईटीएच ज्यूरिख, बीजीआई बेरूत और ज्यूरिख यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने किया है. टीम ने हमारे सौरमंडल के शुरुआती दौर की दो चरणों की निर्माण प्रक्रिया की खोज की है. यह प्रक्रिया सौरमंडल की घटनाओं के क्रम के साथ उसकी आंतरिक और बाहरी घटनाओं की भी व्याख्या करने में सक्षम है.

    ये अध्ययन भी शामिल
    यह कार्य खगोलविज्ञान में हो रही प्रगति से भी से जुड़ा है जिसमें उल्काओं  में पानी, सौरमंडल में लोहे और आइसोटोप का अध्ययन भी शामिल है. इस अध्ययन में सूर्य और सौरमंडल के निर्माण के शुरुआती दौर के खगोलभौतिकी और भू-भौतिकीय प्रक्रियाओं का मिश्रण है.

    Earth, Solar System, Formation of solar system, Planets, Accretion Disk, Asteroids, Meteorites
    सौरमंडल (Solar System) के बाहर के ग्रह (Planet) पर ज्यादा मात्रा में पानी से भरे हैं. (तस्वीर: NASA JPL)


    इन खास सवालों के मिले जवाब
    ये प्रक्रियाएं इस बात की भी व्याख्याएं करती हैं कि सौरमंडल के अंदर के ग्रह छोटे और कम पानी के साथ सूखे और बाहर के ग्रह बड़े और बहुत सारे पानी के साथ क्यों हैं. अंदर के ग्रह पहले सूर्य के चक्कर लगाने लगे थे और अंदर से बहुत तीव्र रेडियोधर्मी विघटन से गर्म होते रहे. इससे वे जल्दी ही सूखने लगे जिससे उनकी आंतरिक परत की तुलना में बाह्य परत सूखी और गीली रह गई.

    दो अलग युगों में हुआ निर्माण
    इस तरह की व्याख्या दूसरे बाह्यग्रहों के सिस्मट की निर्माण अवस्थाओं और वितरण में भी काम आ सकती है. वैज्ञानिकों के बहुत सारे प्रयोगों ने बताया कि आंतरिक सौरमंडल की आंतरिक शुरुआती अवस्थाओं और उसकी अनुवृद्धि (Accretion) की विस्तृत पूर्ती एक युग में पूरी हुई जबकि इसके बाद दूसरे युग में ज्यादा तेजी से बाहरी सौरमंडल के ग्रहों का निर्माण हुआ.

    तीन तारों के सिस्टम के बाह्यग्रह की खोज की हुई पुष्टि, 10 साल का लगा समय

    धूल के कणों से हुई शुरुआत
    ग्रहों के निर्माण करने वाली डिस्क के हालिया अवलोकनों से पता चलता है कि डिस्क के तल जहां पर ग्रहों का निर्माण होता है वहां तुलनात्मक रूप से विक्षोभ (turbulence) स्तर कम होते हैं. ऐसे हालातों में डिस्क की गैस और पानी में मौजूद धूल के कण ग्रहों के निर्माण की शुरुआत करते हैं. ऐसा डिस्क कक्षा में उस जगह पर होता है जहां ये कण गैस से बर्फ की अवस्था में बदल रहे होते हैं.

    ग्रहों के आंतरिक विकास में भी दो चरण
    ग्रहों के निर्माण की दो अलग संस्करणों से उनकी दो अलग अलग भू-भौतिकी चरण भी शुरू हुए. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के एट्मॉस्फियरिक, ओसियानिक एंड प्लैनेटरी फिजिक्स विभाग के विशेषज्ञ और इस अध्ययन के प्रमुख लेखक डॉ टिम लिचेनबर्ग ने बताया कि ग्रहों के निर्माण के समय के अंतराल अलग-अलग थे क्योंकि उनके रेडियोधर्म विघटन वाले आंतरिक ऊष्मा इंजनों में काफी अंतर था.

    जानिए मिल्की वे की डिस्क में मिले सुपरअर्थ की किस बात से वैज्ञानिक हुए हैरान

    पहले सौरमंडल के अंदर के ग्रहों का निर्माण हुआ और फिर बाद में बाहरी हिस्से का निर्माण हुआ जहां गीले ग्रह बने. इस तरह सौरमंडल के निर्माण की शुरुआत से ही दो अलग अलग तरह से ग्रहों के विकास हुए.  इस अध्ययन से खगलोविदों को पृथ्वी के शुरुआत वायुमंडल के निर्माण को समझने में भी मदद मिल सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.