लाइव टीवी

कौन है वो वकील, जिसने राम जन्मभूमि का नक्शा फाड़ दिया

News18Hindi
Updated: October 17, 2019, 5:00 PM IST
कौन है वो वकील, जिसने राम जन्मभूमि का नक्शा फाड़ दिया
राम जन्मभूमि नक्शे को सुप्रीम कोर्ट में ही मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने फाड़ दिया

अयोध्या मामले (Ayodhya Case) पर हिंदू महासभा के वकील की तरफ से पेश किए गए राम जन्मभूमि नक्शे को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में ही मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ दिया. बुधवार की इस घटना के बाद से मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव (Rajiv Dhavan) धवन चर्चा में हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2019, 5:00 PM IST
  • Share this:
राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद (Ram Mandir-Babri Masjid) सुनवाई पर आखिरकार 16 अक्टूबर को विराम लगा. पिछले 40 दिनों से लगातार सुनवाई चल रही थी. सुनवाई के दौरान रोजाना तीखी बहसें होती रहीं. आखिरी रोज यानी बुधवार को हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) के वकील विकास सिंह ने जन्मभूमि का नक्शा पेश किया जिसे तुरंत ही अगले पक्ष के वकील राजीव धवन (Rajiv Dhawan) ने फाड़ दिया.

इसके बाद कोर्टरूम में सीजेआई रंजन गोगोई  (CJI Ranjan Gogoi) का गुस्सा भड़क उठा. नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा कि कोर्ट में ऐसा हो तो हम यहां से चले जाएंगे. दरअसल सारा मामला कुछ ऐसा है कि वकील विकास सिंह के नक्शा दिए जाने पर आपत्ति जताते हुए मुस्लिम पक्षकार धवन ने बेंच से पूछा कि इसका क्या करना चाहिए. बेंच ने जवाब में कहा कि आप चाहें तो इसके टुकड़े कर सकते हैं. इसे चीफ जस्टिस की हामी मानते हुए धवन ने नक्शा फाड़ दिया, जिससे मामले ने तूल पकड़ लिया.

ये पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी दिल्ली-केन्द्र विवाद मामले में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के साथ कोर्ट रूम में हुई तकरार को लेकर धवन ने वकालत छोड़ने की घोषणा कर दी थी. 74 साल (तब) के धवन ने 11 दिसंबर 2017 को प्रधान न्यायाधीश को एक पत्र लिखकर सूचित किया था कि उन्होंने अदालत में वकालत नहीं करने का निर्णय किया है.

सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से लड़ रहे धवन को तेज मिजाज वकील के तौर पर जाना जाता है


मुस्लिम संगठनों की कोशिश के बाद धवन ने हाईकोर्ट में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर मुस्लिम संगठन की पैरवी से दोबारा शुरुआत की.

धारदार तर्कों और हाजिरजवाबी की वजह से पहले भी चर्चा में रह चुके धवन का जन्म 4 अगस्त 1946 में अविभाजित भारत में हुआ. शुरुआती पढ़ाई इलाहाबाद से हुई. आगे की पढ़ाई के लिए वो नैनीताल और फिर कैंब्रिज विश्वविद्यालय और लंदन विश्वविद्यालय गए, जहां उच्चशिक्षा हासिल की.

वकालत में अपने पैनेपन के लिए ख्यात धवन कॉलेज के वक्त में खासे कलाप्रेमी रहे. वो नाटकों के काफी शौकीन थे और बताया जाता है कि कानून की पढ़ाई के दौरान धवन ने कई नाटक डायरेक्ट किए. शेक्सपियर उन्हें खासतौर पर प्रिय रहे. फॉरेन डिग्री हासिल करने के दौरान धवन अनेकों वाद-विवाद प्रतियोगिताओं के विजेता रहे. यहां तक कि कैंब्रिज में पढ़ाई के दौरान वे स्टूडेंट यूनियन के प्रेसिडेंट भी रहे और छात्र राजनीति में हाथ आजमाया.
Loading...

राम जन्मभूमि नक्शे को सुप्रीम कोर्ट में ही मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ दिया


साल 1992 में राजीव धवन ने जानेमाने वकील कपिल सिब्बल के अंडर में वकालत की प्रैक्टिस शुरू की. तुरंत ही उन्हें मंडल (1992) और बाबरी मस्जिद (1994) में पैनी दलीलों के लिए जाना जाने लगा. इसके बाद वह सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के तौर पर जाने जाने लगे और फिर तो कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ते ही गए. राजीव धवन के पिता शांति स्वरूप धवन भी पेशे से वकील ही थे. बाद में जज बने शांति स्वरूप धवन ब्रिटेन में भारत के राजदूत, पश्चिम बंगाल के गवर्नर और लॉ कमीशन के सदस्य रह चुके हैं. इन्हीं की सोहबत और घर में वकालत और राजनैतिक माहौल की वजह से धवन की भी वकालत के पेशे में रुचि की शुरुआत हुई.

अयोध्या मामले में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से लड़ रहे धवन को तेज मिजाज वकील के तौर पर जाना जाता है. अपनी स्पष्ट और अकाट्य दलीलों के साथ वे भड़क उठने की अपनी आदत की वजह से भी वकीलों में जाने जाते हैं. साल 2013 में 2G मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस जी. एस. सिंघवी से उनकी बहस काफी चर्चा में रही थी. इसके बाद भी अनेकों बार धवन का उलझना चर्चा में रहा.

ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट और इंटरनेशनल कमीशन ऑफ ज्यूरिस्ट के कमिश्नर राजीव धवन की अपनी एक वेबसाइट है, जिसमें उनकी लिखी किताबों का जिक्र मिलता है. वेबसाइट के अनुसार वह अब तक 25 से ज्यादा किताबें लिख चुके हैं, साथ ही टीवी प्रोग्राम में होस्ट भी रहते रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

सारे बड़े अर्थशास्त्री बंगाल से ही क्यों आते हैं?
भारतीय सैनिकों ने इस तरह जान देकर की थी इज़रायल की हिफ़ाज़त 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 3:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...