क्या करती हैं गांधी परिवार से संबंधित 3 संस्थाएं, जिनके खिलाफ हो रही है जांच

क्या करती हैं गांधी परिवार से संबंधित 3 संस्थाएं, जिनके खिलाफ हो रही है जांच
इन तीनों ट्रस्ट का संबंध गांधी परिवार से है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हाल ही में सरकार ने तीन ट्रस्ट (Trusts) संस्थाओं पर एक जांच कमेटी बिठाई है जिनका संबंध कांग्रेस के गांधी परिवार (Gandhi Family) से है.

  • Share this:
हाल ही में कांग्रेस पार्टी (Congress Party) की तीन संस्थाओं के खिलाफ सरकार ने जांच कमेटी बनाई है. बुधवार को भारत के गृह मंत्रालय ने एक मंत्री स्तर की कमेटी बनाई है जो कांग्रेस पार्टी के गांधी परिवार की तीन संस्थाओं की कथित उल्लंघनों की जांच करेगी. ये तीन संस्थाएं राजीव गांधी फाउंडेशन (RGF), राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट (RGCT) और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट (IGMT) हैं. कम लोग यह जानते हैं कि ये तीनों संस्थाएं क्या करती हैं.

किस तरह की जांच के दायरे आई हैं ये संस्थाएं
ये तीनों संस्थाएं मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट, इनकम टैक्स एक्ट और फॉरेन कॉन्ट्रिब्यूशन एक्ट  के तहत कानून के उल्लंघन के कारण जांच के दायरे में आई हैं. इस कमेटी की अध्यक्षता एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट के विशेष निदेशक करेंगे जबकि सीबीआई इसका हिस्सा होगी.

राजीव गांधी फाउंडेशन (RGF)
इस संस्था की स्थापना जून 1991 में की गई थी. इसका उद्देश्य देश के वंचित और कमसुविधा प्राप्त नागरिकों की मदद करना है. इसके लिए संस्था साक्षरता कार्यक्रम जैसे कई अभियान चला कर ऐसे लोगों के लिए अवसर बढ़ाने का काम करती है. इस संस्था की अध्यक्ष सोनिया गांधी, इस फाउंडेशन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राहलु गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ट्रस्टी हैं.  पिछले महीने ही इस पर  बीजेपी ने सवाल उठाते हुए आरोप लगाए थे कि यह संस्था चीन से पैसा लेती है. इस बात का कॉन्ग्रेसी नेताओं ने जोरदार खंडन किया था.



इस संस्था ने अगस्त 991 में एक राजीव गांधी इंस्टीट्यूट फॉर कंटेम्पररी स्टडीज (RGICS) विचार मंच की स्थापना भी थी जिसका काम शोधकरना और शासन और लोकनीति के मुद्दों पर श्वेत पत्र जारी करना था. इस विचार मंच का काम नियमित रूप से राजनीति, आर्थिक सुधार, और अंतरराष्टीय संबंधों पर सम्मेलन और व्याख्यान आयोजित करना है.

Sonia Gandhi
तीनों ट्र्स्ट में सोनिया गांधी की औपचारिक भूमिका है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)(फाइल फोटो)


इसके अलावा RGF छात्रों को दो तरह की छात्रवृतियां भी देता है. राजीव गांधी ट्रैवलिंग स्कॉलशिप प्रोग्राम में यूके की यूविवर्सिटी में पढ़ रहे 139 छात्रों को भारत यात्रा की छात्रवृति दी जाती है. कैम्ब्रिज स्कॉलरशिप में 60 भारतीय छात्रों को कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में बीए (आनर्स) डिग्री के लिए छात्रवृति दी जाती है.

राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट
यह एक गैरलाभकारी  (Not for Profit) संस्था है जिसकी स्थापना साल 2002 में हुई थी. इसकी अध्ययक्षता भी सोनिया गांधी करती हैं. राहुल गांधी इसके बोर्ड के सदस्य हैं.  विकास के क्षेत्र के विशेषज्ञ दीप जोशी जिन्होंने साल 2009 में रोमन मैग्सैसे अवार्ड और साल 2010 में पद्मश्री अवार्ड हासिल किया था,  इस ट्रस्ट के सीईओ हैं. यह ट्रस्ट दो प्रमुख कार्यों के लिए काम करता है, महिला सशक्तिकरण और वहन करने योग्य आंखों की देखभाल.

क्या है स्पाइस 2000 किट, जिसे चीन से निपटने के लिए इजराइल से खरीद रहा है भारत

इस ट्रस्ट ने महिलाओं के लिए महिला विकास परियोजना (RGMVP) चलाई है जिसमें युवा महिलाओं के स्वयंसेवी समूह  बनाकर उन्हें वित्तीय प्रबंधन और जीवन के अन्य गतिविधियों का प्रशिक्षण दिया जाता है. ट्रस्ट ने साल 2006 में इंदिरा गांधी आई हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर भी खोला है. इस समय देश में चार इस तरह के आंखों के अस्पताल हैं दो गुरुग्राम में, एक अमेठी में और एक लखनऊ में.

Rajiv Gandhi
इनमें से दो ट्रस्ट राजीव गांधी के नाम पर हैं.


इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट (IGMT)
यह ट्रस्ट साल 2001 में स्थापित किया गया था. यह खास तौर पर शिक्षा के क्षेत्र के लिए काम करता है. इसने पहले केरल के कोटामंगलम में इंदिरा गांधी कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस खोला और बीएड, डेंटल, और इंजीनियरिंग कॉलेज की भी स्थापना की. केरल के एक व्यवसायी और स्थानीय नेता केएम परीथ इस ट्रस्ट के अध्ययक्ष हैं.

1967 में अटल जी ने क्या किया था ऐसा कि पूरा चीन हो गया था आगबबूला

नई दिल्ली स्थिति इंदिरा गांधी मेमोरियल म्यूजियम जो पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जीवन और उनके प्रधानमंत्री कार्यकाल पर आधारित है, इसी ट्रस्ट का हिस्सा है. सोनिया गांधी इस ट्रस्ट का पूरा प्रबंधन देखती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading