• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • कारोबारी रिचर्ड ब्रैनसन ने कैसे गरीबी से तय किया खरबपति बनने तक का सफर

कारोबारी रिचर्ड ब्रैनसन ने कैसे गरीबी से तय किया खरबपति बनने तक का सफर

खरबपति रिचर्ड ब्रैनसन (Richard Branson) ने 71 की उम्र में अंतरिक्ष यात्रा की (Photo- flickr)

खरबपति रिचर्ड ब्रैनसन (Richard Branson) ने 71 की उम्र में अंतरिक्ष यात्रा की (Photo- flickr)

ब्रिटिश खरबपति रिचर्ड ब्रैनसन (Richard Branson) ने 71 की उम्र में अंतरिक्ष यात्रा की. वे कई महासागरों को पार करने का रिकॉर्ड भी बना चुके हैं. एडवेंचर को लेकर जुनूनी इस कारोबारी ने केवल 110 पाउंड से बिजनेस शुरू किया था.

  • Share this:
    दुनिया के सबसे कामयाब कारोबारियों में से एक ब्रिटिश खरबपति रिचर्ड ब्रैनसन (Richard Branson space travel) हाल में अंतरिक्ष यात्रा से लौट आए हैं. इसके बाद से उनका नाम चर्चा में है कि आखिर कारोबार की दुनिया में तहलका मचाते रिचर्ड ब्रैनसन ने क्यों स्पेस ट्रैवल किया. वैसे लगभग 71 साल के रिचर्ड के बारे में बहुत कुछ विश्वास से परे है. जैसे एडवेंचर पसंद करने के उनके स्वभाव के कारण वे कई बार मौत के मुंह में जाते-जाते बचे. कई बार गंभीर तौर पर घायल भी हुए लेकिन एडवेंचर को लेकर उनका जुनून कम नहीं हुआ.

    वर्जिन ग्रुप में एयरलाइंस से लेकर म्यूजिक, कपड़ों और फाइनेंस तक में अपनी धाक जमा चुके रिचर्ड ब्रैनसन के बारे में एक बार सुनने पर लगता है, जैसे वो विरासत में काफी दौलत पाए हुए हों और फिर कारोबार किया. लेकिन असलियत इसके उलट है. वे डिस्लैक्जिक थे यानी वो बच्चा, जिसे सीखने-पढ़ने में परेशानी आती है. ये एक तरह की मानसिक स्थिति है, जिसमें सहयोग न मिलने पर काफी सारे बच्चे पिछड़ते चले जाते हैं.

    रिचर्ड के साथ भी ऐसा ही हुआ. वे न पढ़ पाने के कारण क्लास में सबसे बेवकूफ माने जाते. वे पीछे बैठते और अक्सर गुमसुम रहते थे. उनका कोई साथी नहीं था. ऐसा चलते रहा और टीनएज में रिचर्ड ने स्कूल छोड़ दिया.

    richard branson space travel
    रिचर्ड पहले खरबपति हैं, जिन्होंने अंतरिक्ष यात्रा की (Photo- news18 English via Reuters)


    इसी दौरान घर के बेसमेंट में रिचर्ड को एक मैग्जीन मिली, जो स्कूल की थी. इसमें दी गई सामग्री में कुछ भी खास नहीं था और आसान भाषा में कहें तो वो उबाऊ मैग्जीन थी. रिचर्ड ने स्कूल मैग्जीन की तर्ज पर पत्रिका शुरू करने की ठानी लेकिन समस्या ये थी कि उनके पास पैसे नहीं थे.

    रिचर्ड अपने सपने को मन में दबाए कोशिश करते रहे कि इसी बीच उनकी मां को सड़क पर एक नेकलेस मिला. मां ने लावारिस नेकलेस को पुलिस थाने में सौंप दिया लेकिन पुलिस को भी उसका वारिस नहीं मिला और इस तरह से वो हार रिचर्ड की मां के पास वापस लौट आया. तब उसकी कीमत लगभग 100 पाउंड थी. रिचर्ड की मां ने हार बेचकर वो पैसे बेटे को दे दिए. यहां से नींव पड़ी स्टूडेंट मैग्जीन की. ये साल 1968 की बात थी.

    स्टूडेंट में उस दौर की बोरिंग स्कूली पत्रिकाओं से अलग कंटेंट था. उसमें तब के पॉप कल्चर को कवर किया गया था. वियतनाम युद्ध की बात थी. साथ ही फेमस लोगों के बारे में बात की गई थी. इस तरह से ये पत्रिका एकदम अलग बनकर आई. इसके बाद से रिचर्ड ने आगे बढ़ना शुरू किया तो आज उनके पास 400 से ज्यादा बिजनेस वेंचर हैं. यानी देखा जाए तो केवल 100 पाउंड से आज रिचर्ड ने खरबपति तक का सफर तय किया.

    richard branson space travel
    रिचर्ड ब्रैनसन ने तंगहाली के दिनों में एक स्कूली मैग्जीन शुरू की, और इस तरह वे बिजनेस में आ गए


    यही बात रिचर्ड लगातार बोलते हैं कि अगर किसी में काम का पैशन है तो उसे पैसों की तंगी का रोना नहीं रोना चाहिए, बल्कि मौके खोजने चाहिए. कम पैसों में भी शानदार बिजनेस खड़ा किया जा सकता है. वे नए व्यावसायियों को उनके आइडिया के लिए मदद भी करते हैं.

    रिचर्ड की खूबी उनका शून्य से इतने ऊपर पहुंच पाना ही नहीं, बल्कि वे अपने चुनौतीपूर्ण जीवन और रुचियों के लिए भी मशहूर हैं. वे लगातार एडवेंचर एक्टिविटी में हिस्सा लेते रहे. इस दौरान मौत से सामना भी उन्हें कमजोर नहीं कर सका.

    साल 1980 में एक बार अपने प्राइवेट टापू पर वह खाई में जाने से बचे थे. यहां बता दें कि रिचर्ड ने अपने लिए एक निजी टापू खरीद रखा है. नेकर आइलैंड नाम से ये द्वीप लगभग 30 हैक्टेयर में फैला है. शौक के लिए खरीदने के बाद रिचर्ड ने द्वीप को कारोबार के लिए भी किराए पर देना शुरू कर दिया, जहां भारी कीमत देकर कुछ दिनों के लिए रहा जा सकता है. इसी टापू पर एक बार रिचर्ड गहरी खाई में गिरते हुए बच गए थे.

    richard branson island
    रोमांच के लिए जुनून से भरे रिचर्ड ब्रैनसन के पास एक निजी द्वीप है (Photo- flickr)


    इसी तरह एक टीवी शो के लिए विक्टोरिया फॉल्स से बंजी जंपिंग करते हुए ये कारोबारी बुरी तरह से घायल होकर लंबे समय तक अस्पताल में रहा था. काफी लोग मानने लगे थे कि रिचर्ड कभी सामान्य जिंदगी नहीं जी सकेंगे लेकिन कुछ समय बाद वे लौटे और दोबारा एडवेंचर का मजा लेने लगे. हालांकि खतरों के बाद भी वे लौटते रहे और कई सारे रिकॉर्ड्स बना चुके हैं. जैसे 1987 में वह हॉट एयर बलून से अटलांटिक महासागर को पार करने वाली टीम का हिस्सा थे. इससे पहले वे अटलांटिक महासाहर को अपनी पावरबोट से पार कर चुके.

    अब रिचर्ड अंतरिक्ष का सफर करके लौटे हैं. बता दें कि कुछ महीनों पहले ही रिचर्ड ने स्पेस ट्रैवल की अपनी इच्छा ट्विटर पर साझा की थी, हालांकि ज्यादा उम्र के कारण कई खतरे थे लेकिन वे स्पेस जाकर सुरक्षित लौट भी आए. माना जा रहा है कि उनके इस कदम से अंतरिक्ष पर्यटन को बढ़ावा मिल सकेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज