कौन हैं बस्तर के गांधी, जिन्होंने CRPF जवान को छुड़ाने में मदद की?

पद्मश्री धर्मपाल सैनी ने CRPF जवान को छुड़ाने में मदद की (Photo- Youtube)

पद्मश्री धर्मपाल सैनी ने CRPF जवान को छुड़ाने में मदद की (Photo- Youtube)

कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मिन्हास ( CRPF commando Rakeshwar Singh Minhas) की नक्सलियों की कैद से सुरक्षित वापसी हो सकी, जिसका श्रेय पद्मश्री धर्मपाल सैनी (Dharampal Saini) को दिया जा रहा है. 90 पार कर चुके इस बुजुर्ग ने नक्सलियों और सरकार के बीच मध्यस्थता की थी.

  • Share this:
बीजापुर में कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मिन्हास को नक्सलियों के कब्जे से रिहा कराने में 90 बरस के स्वतंत्रता सेनानी धर्मपाल सैनी की बड़ी भूमिका मानी जा रही है. विनोबा भावे के शिष्य रहे सैनी को लोकहित के कामों के कारण बस्तर का गांधी भी कहा जाता है. साथ ही प्यार से स्थानीय लोग उन्हें ताऊजी भी कहते हैं.

इस तरह से आए सुर्खियों में 
बीजापुर में 3 अप्रैल को नक्सलियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में सुरक्षा बल के 22 जवान शहीद हुए थे. इसके बाद से ही सीआरपीएफ के कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह लापता थे. अगले दो दिनों बाद पता चला कि जवान नक्सलियों के कब्जे में है. इसके बाद से उसकी रिहाई के लिए मशक्कत चल रही थी. कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी इसके लिए पहल की लेकिन उन्हें निराश लौटना पड़ा. इसी बीच धर्मपाल सैनी ने मध्यस्ता की और जवान अपने घर सुरक्षित लौट सका. इसके साथ ही सैनी लगातार चर्चा में हैं.

Rakeshwar singh minhas CRPF
कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मिन्हास सुरक्षित रिहा हो चुके हैं

खबर पढ़कर जुड़े बस्तर से 


धर्मपाल सैनी की कहानी बस्तर का गांधी बनने की शुरुआत साठ के दशक से शुरू होती है. उस दौरान उन्होंने बस्तर से जुड़ी एक खबर पढ़ी, जिसमें लड़कियों ने छेड़छाड़ करने वालों का जमकर मुकाबला किया था. खबर युवा सैनी के मन में घर कर गई. तब वे विनोबा भावे के शिष्य हुआ करते थे. सैनी के मन में लगातार आ रहा था कि बस्तर के युवा बेहद बहादुर हैं और उनकी ऊर्जा को सही दिशा देने की जरूरत है. इसी बात को सोचते हुए उन्होंने अपने गुरु से बस्तर जाने की इजाजत मांगी.

ये भी पढ़ें: क्या तिरुपति समेत दूसरे मंदिरों में चढ़े बाल तस्करी के जरिए China जा रहे हैं?   

गुरु ने इस शर्त पर दी इजाजत 
कहा जाता है कि विनोबा भावे ने उन्हें इस शर्त पर अनुमति दी थी कि वे अगले 10 सालों तक बस्तर से कहीं नहीं हिलेंगे. तब तक 10 साल बीत चुके थे. बता दें कि बस्तर में सुविधाओं का अभाव कई लोगों को उसे छोड़ने पर मजबूर करता रहा है. हालांकि सैनी के साथ इससे एकदम अलग हुआ. वे न केवल बस्तर में रहे, बल्कि वहीं के होकर रह गए.

vinoba bhave
पद्मश्री धर्मपाल सैनी भूदान आंदोलन के जनक विनोबा भावे के शिष्य रह चुके हैं


खेलने की देने लगे ट्रेनिंग 
मध्यप्रदेश के धार जिले के धर्मपाल सैनी ने आगरा यूनिवर्सिटी से कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया था और शानदार एथलीट हुआ करते थे. शारीरिक वर्जिश में उन्हें खूब दिलचस्पी थी. बस्तर आने पर उन्होंने पाया कि यहां छोटे बच्चे भी कई किलोमीटर तक बगैर थके चलते हैं. बस्तर के युवा लगातार काम करने के बाद भी कभी शिकायत नहीं करते. ये सारी खूबियां देखते हुए धर्मपाल सैनी का एथलीट मस्तिष्क उन्हें बस्तर के लोगों की एनर्जी को दिशा देने की ओर ले गया. वे बच्चों को खेलने के लिए ट्रेनिंग देने लगे.

ये भी पढ़ें: Explained: लगातार कार्रवाई के बाद भी बस्तर क्यों नक्सलियों का गढ़ बना हुआ है?  

लगातार जीत रही हैं इनाम 
साल 1985 में पहली बार उनके आश्रम की बच्चियां स्पोर्ट्स कंपीटिशन में औपचारिक तौर पर आईं. इसके बाद तो कतार ही लग गई. सालाना 100 स्टूडेंट्स अलग-अलग इवेंट में हिस्सा लेती और जीतती हैं. इसी से कोई हैरानी नहीं कि बच्चे एक के बाद एक लगातार खेल से जुड़ी ट्रॉफियां जीतने लगे. धर्मपाल सैनी के जगदलपुर स्थित डिमरापाल आश्रम में हजारों मैडल्स और ट्रॉफियां बच्चों समेत उनके गुरु की मेहनत का नतीजा हैं. 90 बरस की उम्र पार कर लेने के बाद भी धर्मपाल सैनी बेहद एक्टिव हैं और खुद ही स्पोर्ट्स में हिस्सा लेने वाली छात्राओं की ट्रेनिंग और डाइट का ख्याल रखते हैं.

dharampal saini bastar
बस्तर में शिक्षा की अलख जगाने के पीछे धर्मपाल सैनी की प्रेरणा काम करती है- सांकेतिक फोटो (flickr)


इस वजह से मिला पद्मश्री सम्मान 
सैनी के आने से पहले तक बस्तर में साक्षरता का ग्राफ 10 प्रतिशत भी नहीं था. जनवरी 2018 में ये बढ़कर 53 प्रतिशत हो गया, जबकि आसपास के आदिवासी इलाकों का साक्षरता ग्राफ अब भी काफी पीछे है. बस्तर में शिक्षा की अलख जगाने के पीछे भी धर्मपाल सैनी की प्रेरणा काम करती है. उन के बस्तर आने से पहले तक आदिवासी लड़कियां स्कूल नहीं जाती थीं, वहीं आज बहुत सी पूर्व छात्राएं अहम प्रशासनिक पदों पर काम कर रही हैं. बालिका शिक्षा में इसी योगदान के लिए धर्मपाल सैनी को साल 1992 में पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया.

पद्मश्री के अलावा कई सम्मान उनके खाते में लगातार आते रहे. साल 2012 में द वीक मैगजीन ने सैनी को मैन ऑफ द इयर चुना था. अब कोबरा कमांडो की इतने विपरीत हालातों में सुरक्षित रिहाई करवा पाना भी बताता है कि धर्मपाल सैनी की पैठ और मान्यता केवल बस्तर के घरों में नहीं, बल्कि नक्सली भी उन्हें सम्मान देते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज