Home /News /knowledge /

Explained: क्यों ऑस्ट्रेलिया में एकाएक चूहों का आतंक फैल गया है?

Explained: क्यों ऑस्ट्रेलिया में एकाएक चूहों का आतंक फैल गया है?

ऑस्ट्रेलिया में आशंका जताई जा रही है कि चूहों के कारण प्लेग महामारी न फैल जाए- सांकेतिक फोटो (pixabay)

ऑस्ट्रेलिया में आशंका जताई जा रही है कि चूहों के कारण प्लेग महामारी न फैल जाए- सांकेतिक फोटो (pixabay)

ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स और क्वींसलैंड जैसे अत्याधुनिक शहरों में अचानक चारों ओर चूहे ही चूहे (rat plague in Australia) दिख रहे हैं. हालात ये हैं कि कई होटल, दुकानें और रेस्त्रां बंद हो चुके और कर्मचारी केवल चूहे पकड़ रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...
    ऑस्ट्रेलिया पर एक के बाद एक मुसीबतें आ रही हैं. कोरोना महामारी का असर तो यहां था ही, लेकिन इस बीच जंगल में लगी भीषण आग ने भी देश को बुरी तरह से हिलाकर रख दिया. अब एक और मुसीबत यहां चूहों के कारण पनपती दिख रही है. एकाएक वहां चूहों की संख्या इतनी बढ़ी है कि स्थानीय दुकानदार से लेकर आम लोग भी सारा दिन चूहे पकड़ रहे हैं. आशंका जताई जा रही है कि चूहों के कारण प्लेग जैसी कोई महामारी न फैल जाए.

    हर जगह दिख रहे हैं चूहे
    न्यू साउथ वेल्स और क्वींसलैंड जैसे शहरों में एकाएक लाखों की संख्या में हर तरफ चूहे दिख रहे हैं. वे खेतों या फिर खाली जगहों और कबाड़ तक ही सीमित नहीं, बल्कि घरों, खाने के सामान, अस्पतालों और यहां तक कि निजी और सार्वजनिक वाहनों तक में हड़कंप मचा रहे हैं. लोग खुद ही सोशल मीडिया पर वीडियो डाल रहे हैं कि उनके घर में कहां-कहां चूहे बस गए हैं. यहां तक कि घर के कई सदस्य लगातार चूहे पकड़ने का काम कर रहे हैं और इसकी वीडियो भी डाल रहे हैं.

    तब मचा था पहली बार आतंक 
    तो ये तो हैं ऑस्ट्रेलिया के ताजा हाल, लेकिन सोचने की बात है कि आखिर क्यों इस देश में चूहों का इतना आतंक मचा हुआ है. इसे समझने के लिए इतिहास में जाना होगा. ऑस्ट्रेलिया में पहले चूहे बिल्कुल नहीं थे. पहली बार ये साल 1787 में देखे गए. जांच करने पर पता चला कि ये चूहे ब्रिटेन से व्यापार के दौरान जहाज से होते हुए ऑस्ट्रेलिया पहुंच गए थे.

    mouse plague australia
    घर के कई सदस्य लगातार चूहे पकड़ने का काम कर रहे हैं- सांकेतिक फोटो (pixabay)


    चीन की देन माने जाते हैं चूहे
    दिलचस्प बात है कि दुनिया के लगभग सभी देशों में चूहे चीन से फैले माने जाते हैं. खासकर यूरोपियन देशों में चूहे चीन की ही देन हैं. इतिहासकारों के अनुसार लगभग 2 हजार साल पहले चीन की वजह से ही दूसरे देशों में प्लेग का एक खास प्रकार पहुंचने लगा. अक्सर व्यापार के आने-जाने वाले जहाजों के जरिए ये फैलता था. इसका प्रमाण साल 1347 में मिला था, जब इटली में चीन से आए 12 जहाजों के कारण चूहे भी आए थे और फिर पूरी इटली प्लेग की चपेट में आ गई. अगले पांच सालों में उन्हीं जहाजों से आए बीमार चूहों ने 20 मिलियन से भी ज्यादा जानें ले लीं. बाद में इन जहाजों को डेथ शिप कहा गया, हालांकि चीन से व्यापार तब भी नहीं रुका.

    ये भी पढ़ें: कौन हैं प्रताप भानु मेहता, अशोका यूनिवर्सिटी से जिनका इस्तीफा भूचाल ला रहा है?  

    अनाज का सबसे बड़ा नुकसान साल 1993 में दिखा 
    अब वापस लौटते हैं ऑस्ट्रेलिया में तो यहां 1787 ब्रिटेन के पोर्टमाउथ से आए जहाज जैसे ही बेड़े पर रुके, चूहे साथ आ गए. इसके बाद से यहां लगभग हर चार साल में चूहों का आतंक दिखता रहा है. खासतौर पर फसल पकने और उसके भंडारण के दौरान चूहे तेजी से बढ़ते हैं. वैसे तो ये हर सीजन में ही अनाज का भंडार खाते हैं लेकिन सबसे ज्यादा नुकसान साल 1993 में हुआ था, जब ऑस्ट्रेलिया के विभिन्न प्रांतों में 96 मिलियन ऑस्ट्रेलियन डॉलर का अनाज चूहों ने खराब कर दिया.

    mouse plague australia
    ताजा हालातों की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया में पिछले साल के मध्य से ही चूहे बढ़ने लगे थे- सांकेतिक फोटो (pixabay)


    पशुओं और कारखानों पर भी हमला 
    अन्न का नुकसान ही नहीं, बल्कि चूहे यहां मुर्गियों और गाय-भैंसों पर भी हमला कर देते हैं और उन्हें बीमार कर देते हैं. नतीजा ये होता है कि चूहों से कारण संक्रमण फैलने के डर से पशुओं को मारना पड़ जाता है. लेकिन साल 1993 में तो चूहों ने काफी कुछ तहस-नहस किया था. उनके झुंड के झुंड रबर और इलेक्ट्रिकल कारखानों और स्टोर तक पहुंच गए और काफी नुकसान किया. कारों और इमारतों को भी उस साल चूहों के कारण काफी नुकसान हुआ था. आज तक ऑस्ट्रेलियाई सरकार उस बार हुए हमले की न तो वजह समझ सकी और न ही नुकसान का पूरा आकलन कर सकी.

    ये भी पढ़ें: Explained: क्या है वैक्सीन का बूस्टर शॉट और क्यों जरूरी है?   

    साल 2020 से ही बढ़ने लगे थे 
    अगर ताजा हालातों की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया में पिछले साल के मध्य से ही चूहे बढ़ने लगे थे, जो वहां फसलों का समय था. हर बार की तरह उन्हें फंसाने और बाढ़ रोकने की कोशिश की गई लेकिन इस बार ये कोशिश नाकाम रही. चूहे साल 2020 से बढ़ने शुरू हुए तो अब तक उनकी तादाद बढ़ती ही जा रही है.

    mouse plague australia
    व्यापार के दौरान चीन से आए चूहों ने दुनिया में आतंक मचा दिया था- सांकेतिक फोटो


    महामारी फैलने की आशंका 
    लोगों को केवल अनाज और दूसरे सामानों के नुकसान का ही डर नहीं, बल्कि चूहों के कारण महामारी का डर भी सता रहा है. ये वो समय है जबकि दुनिया कोरोना महामारी से ही जूझ रही है, ऐसे में चूहों का बढ़ना प्लेग ला सकता है. बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के कई प्रांतों में पानी की टंकियों में चूहे मरे मिले, इसके बाद से ये आशंका और बढ़ गई है.

    ये भी पढ़ें: Explained: महिलाओं से जुड़ा वो समझौता, जिससे अलग हो तुर्की राष्ट्रपति घिर गए

    प्लेग को कहते थे ब्लैक डेथ
    प्लेग वैसे भी दुनिया की सबसे पुरानी महामारियों में से है, जिसे पेस्ट, ताऊन, ब्लैक डेथ जैसे कई नाम मिल चुके हैं. ये बीमारी आमतौर पर बीमार चूहों से फैलती है. बीमार चूहे अगर अन्न या किसी वस्तु के संपर्क में आते हैं या फिर सीधे इंसानों के संपर्क में आएं तो ये बीमारी फैल सकती है. पास्चुरेला पेस्टिस नामक जीवाणुजन्य ये बीमारी तेजी से फैलती है और जानलेवा हो सकती है. पुराने समय में प्लेग फैलने पर लाखों जाने चली जाती थीं और स्वस्थ लोग बचने के लिए स्थान छोड़कर चले जाया करते. अब इसका इलाज आ चुका है लेकिन तक भी प्लेग की भयंकरता बनी हुई है.undefined

    Tags: Australia, Mystry Disease, Research

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर