कौन हैं हुवावे कंपनी की वो मालकिन जिसे कनाडा में गिरफ्तार किया गया है?

रेन ने कंपनी को ऐप्पल और सैमसंग के बाद ब्रांड बेचने वाला दुनिया का तीसरा शीर्ष स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी बनाया.

News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 1:21 PM IST
कौन हैं हुवावे कंपनी की वो मालकिन जिसे कनाडा में गिरफ्तार किया गया है?
रेन ने कंपनी को ऐप्पल और सैमसंग के बाद ब्रांड बेचने वाला दुनिया का तीसरा शीर्ष स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी बनाया.
News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 1:21 PM IST
चीनी स्मार्टफोन कंपनी हुवावे के संस्थापक रेन झेंग्फी की दो बेटियां हैं. दोनों इस वक्त जबरदस्त चर्चा में हैं. दोनों अलग कारणों से सुर्खियां बटोर रही हैं. बड़ी बेटी 46 वर्षीय मेंग वांगझू को कनाडा में गिरफ्तार कर लिया गया है. वो हुवावे में मुख्य वित्तीय अधिकारी हैं.

मेंग वांगझू को इस महीने कनाडाई अधिकारियों ने ईरान के खिलाफ प्रतिबंधों का उल्लंघन करने के लिए अमेरिका के अनुरोध पर गिरफ्तार कर लिया. छोटी बेटी 21 वर्षीय एनाबेल याओ हार्वर्ड में कंप्यूटर साइंस की छात्रा है. वो फैशन की दुनिया में धूम मचा रही हैं. जानते हैं हुवावे कंपनी के मालिक परिवार और इसके मुखिया रेन झेंग्फी के बारे में-

बेटियां नहींं करती पिता के नाम का इस्तेमाल

रेन झेंग्फी की दोनों ही बेटियां अपने पिता के नाम का इस्तेमाल नहीं करतीं. दक्षिण पश्चिम चीन के सबसे गरीब प्रांत गुइज़हौ में पैदा हुए रेन ने जीवन में तीन शादियां की, जिनसे उनके तीन बच्चे हुए. तीसरा बच्चा एक बेटा है जिसका नाम मेन्ग पिंग है. एनाबेल याओ उनकी दूसरी पत्नी की बेटी हैं. रेन की तीसरी पत्नी सु वेई है, चीनी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वह पहले उनकी सचिव थीं.



 

 
Loading...

 

 

 

 

 

 

 

कौन हैं मेंग वांगझू ?

मेंग वांगझू का जन्म 1972 में हुआ और उन्हें सबरीना मेंग भी कहा जाता है. अपने माता-पिता के तलाक के बाद किशोरी मेंग ने मां के उपनाम को अपनाया. मेंग हुवावे बोर्ड की डिप्टी चेयरवूमन और मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) हैं, जिसे उनके पिता रेन झेंग्फी ने स्थापित किया था. मेंग ने एक बैंक के लिए काम करने के लिए स्कूल छोड़ा. एक साल बाद 1993 में एक सचिव के रूप में पिता द्वारा स्थापित छोटी स्टार्टअप कंपनी हुवावे में शामिल हो गईं. बाद में उन्होंने ह्यूजोंग विश्वविद्यालय से विज्ञान और प्रौद्योगिकी से मास्टर की डिग्री अर्जित की.

उन्होंने हुवावो में कई शीर्ष पदों पर काम किया. फिलहाल वो हुवावे की डिप्टी चेयरमैन और सीएफओ हैं. 1.8 लाख कर्मचारियों के साथ हुवावे चीन की सबसे बड़ी निजी कंपनी है. 2017 में, फोर्ब्स ने चीन की टॉप बिजनेस वूमन की सूची में मेंग को आठवें नंबर पर रखा था.



 

 

 

 

 

 

 

 

रेन ने  कैसे की थी हुवावे की शुरुआत

रेन 1960 में चोंगकिंग विश्वविद्यालय से आईटी यूनिट में सैन्य तकनीशियन के रूप में काम सीखने के बाद पीपुल्स लिबरेशन आर्मी रिसर्च इंस्टीट्यूट में शामिल हो गए. अपने नवाचारों और उपलब्धियों के कारण, उन्हें विभिन्न स्तरों पर मान्यता मिली और उन्हें पीएलए प्रतिनिधि के रूप में 1978 में राष्ट्रीय विज्ञान सम्मेलन में भाग लेने के लिए चुना गया. वह 1983 में नौ साल बाद सेना से सेवानिवृत्त हुए जब चीनी सरकार ने पूरी इंजीनियरिंग इकाई को बंद कर दिया.

रिटायर होने के बाद, रेन शेन्ज़ेन साउथ सागर ऑयल कॉर्पोरेशन के साथ काम करने के लिए चले गए. लेकिन जल्द ही 1987 में नौकरी छोड़ दी क्योंकि यह उनकी प्रतिभा के अनुसार संतोषजनक काम नहीं था. शेन्ज़ेन छोड़ने तक, उसके पास लगभग 10 मिलियन की प्रापर्टी थी. रेन ने उसी साल हूवावे टेक्नोलॉजीज कंपनी लिमिटेड की स्थापना की जब वह शेन्ज़ेन छोड़ा. 21,000 युआन (लगभग $ 5000) के शुरुआती निवेश के साथ हुआवेई का पहला व्यवसाय हांगकांग से टेलीफोन एक्सचेंज उपकरण बेचना था. उन्होंने मुख्य कार्यकारी अधिकारी की सीट ली और कंपनी को ऐप्पल और सैमसंग के बाद ब्रांड बेचने वाला दुनिया का तीसरा शीर्ष स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी बनाया.

रेन अब निदेशक मंडल के डिप्टी चेयरमैन के रूप में काम करते हैं, लेकिन वह वर्तमान तीन बड़े सीईओ में से एक नहीं हैं. 2017 में कंपनी का 92.5 अरब अमेरिकी डॉलर का वार्षिक राजस्व था. अनुसंधान और विकास (आर एंड डी) में वार्षिक निवेश 2017 में $ 13.8 बिलियन तक पहुंच गया.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->