इस अमेरिकी महिला सैनिक को माना जा रहा कोरोना का पहला मरीज, मिल रही हत्या की धमकियां

क्या चीन नहीं, अमेरिकी की ये महिला सैनिक है कोरोना की पहली मरीज?
क्या चीन नहीं, अमेरिकी की ये महिला सैनिक है कोरोना की पहली मरीज?

चीन (China) ने एक अमेरिकी आर्मी अफसर (american army officer) पर आरोप लगाया है कि उसी की वजह से चीन में कोरोना (corona in China) फैला. Maatje Benassi नाम की ये महिला अफसर पिछले साल के अक्टूबर में वुहान (Wuhan) आई थीं. अब आर्मी अफसर और उनके परिवार को लगातार धमकियां मिल रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2020, 1:16 PM IST
  • Share this:
चीन के वुहान (Wuhan in China) से साल 2019 के दिसंबर में फैला कोरोना वायरस (coronavirus) अब तक दुनिया के 30 लाख 60 हजार से ज्यादा लोगों को संक्रमित कर चुका है, वहीं 2 लाख से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं. कोरोना वायरस की दवा या टीका तैयार करने के बीच लगातार देश एक-दूसरे पर आरोप भी लगा रहे हैं. जैसे दुनिया के कई देश इस वायरस के लिए चीन की लापरवाही को जिम्मेदार मानते हैं. वहीं चीन ने अमेरिका पर उलट वार करते हुए उसी के एक नागरिक को इसकी वजह बता दिया. इसके बाद से पेशेंट जीरो (patient zero) कहला रही इस महिला को दुनियाभर से धमकियां मिल रही हैं, जबकि अबतक वो बिल्कुल सेहतमंद है.

ऐसे मिली अफवाहों को हवा
पिछले साल अक्टूबर में वुहान में आयोजित Military World Games के दौरान सेना की तरफ से ये अफसर Maatje Benassi भी शामिल हुई थीं. वर्जिनिया में अमेरिकी सेना के Fort Belvoir में काम करने वाली माट्जे वहां पर बतौर सुरक्षा अधिकारी काम करती हैं. वहीं माट्जे के पति रिटायर्ड एयरफोर्स अफसर हैं. कंस्पिरेसी थ्योरी की शुरुआत माट्जे के चीन से अमेरिका लौटने के बाद हुई. चीनी मीडिया ने दावा किया कि वायरस यूएम का फैलाया जैविक हथियार है. यहां तक कि चीन की सरकार के एक अधिकारी Zhao Lijian ने सार्वजनिक तौर पर ये दावा कर दिया. विदेश मंत्रालय देख रहे इस अधिकारी ने एक वीडियो का हवाला देते हुए कहा कि खुद अमेरिकी रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केन्द्र (सीडीसी) के निदेशक रॉबर्ट रेडफिल्ड ने ये कोविड-19 से हुई मौतों की जानकारी दी.





इसके बाद से चीन इसी बात को हवा देने लगा कि अमेरिका में ही कोरोना वायरस का पेशेंट जीरो है, जिससे चीन और फिर बाकी देशों में बीमारी फैली. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा कि रॉबर्ट रेडफिल्ड ने यह माना है कि अमेरिका में फ्लू के कुछ मरीजों की पहचान में संभवत: गलती हुई है और वे कोरोना वायरस से ग्रस्त थे. हालांकि चीन के विदेश अधिकारी Lijian और वहां के अखबार, किसी ने भी अपने दावों की पुष्टि नहीं की.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता Zhao Lijian ने अमेरिका पर वायरस फैलाने का आरोप लगाया


यूट्यूबर का रहा है झूठ बोलने का इतिहास
इसी बीच चीन की नजर यूएम की सैन्य अधिकारी माट्जे पर गई, जो अक्टूबर में वुहान आ चुकी थीं. मिलिट्री वर्ल्ड गेम में शामिल होने आई माट्जे को प्रतियोगिता के दौरान पसलियों में चोट आई. दुर्घटना से परेशान माट्जे के कोरोना हथियार होने को सबसे पहले हवा दी अमेरिका के ही एक यूट्यूबर George Webb ने. 100,000 से ज्यादा फैन फॉलोइंग वाला जॉर्ज पहले भी अफवाहों उड़ाता रहा है. जैसे साल 2017 में उसने एक जहाज में बम होने की बात कह दी थी, जिसके बाद अफरातफरी मच गई. हालांकि बाद में ये बात झूठी साबित हुई. अब इसी यूट्यूबर जॉर्ज ने माट्जे के बारे में कहा कि वो कोरोना की मरीज थीं, जिसकी वजह से चीन में केस फैले. यूट्यूब पर अफवाह फैलने के बाद इसे ही Chinese Communist Party ने भी मान लिया और अमेरिका की इस नागरिक को दोष देने लगी.

माट्जे के घर अनाम चिट्ठियां आ रही हैं जिसमें कोरोना फैलाने का दोषी मानते हुए उन्हें धमकी मिल रही है


कोरोना के कोई लक्षण नहीं
बता दें कि अक्टूबर के बाद से अब तक माट्जे या उनके पति दोनों में ही न तो कोरोना के कोई लक्षण दिखे हैं और न ही कोई जांच हुई है जो पॉजिटिव आई हो. पूरी तरह से सेहतमंद जोड़े को लेकर लगातार यूट्यूब और हर सोशल मीडिया पर बातें हो रही हैं. उनकी फोटो और घर का पता भी सार्वजनिक हो चुका है. साथ ही चीन को दुनिया के निशाने पर लाने का आरोप लगाते हुए जान से माने की धमकियां भी मिल रही हैं. उन्हें लगातार मेल, फोन और यहां तक कि धमकीभरी चिट्ठियां भी मिल रही हैं.

सीएनएन से बातचीत में माट्जे ने कहा कि अब बात साफ भी हो जाए तो भी हमारी इमेज को नुकसान हो चुका है. जब भी लोग मेरे नाम को गूगल करेंगे, मैं कोरोना के मामले में पेशेंट जीरो ही दिखूंगी. ये भयानक सपने जैसा है.

धमकियों से बचने और अपनी इमेज बचाने के लिए इस अमेरिकी कपल ने अमेरिकी कानूनविदों से भी मदद मांगी लेकिन फिलहाल तक कोई ठोस मदद नहीं मिल सकी है.

माट्जे के पति मैट एयरफोर्स से रिटायर्ट अधिकारी हैं लेकिन वे भी फिलहाल साइबर बुलीइंग के शिकार हैं


चीन से लेकर दुनिया में फैल चुकी अफवाह 
इधर चीन में सारे ही लोकप्रिय सोशल प्लेटफॉर्म पर इस तरह की वीडियो आ रही है, जिसमें माट्जे को कोरोना का पहला मरीज बताया जा रहा है. इसमें WeChat, Weibo और Xigua Video जैसे प्लेटफॉर्म शामिल हैं. माट्जे और उनके पति मैट ने YouTube से भी इसकी शिकायत की लेकिन जब तक वहां से वीडियो हटा, तब तक ये दूसरी जगहों पर लिया जा चुका था.

Boston University School of Law के प्रोफेसर डेनियल साइट्रन के मुताबिक चूंकि अभी तक फेडरल लॉ के तहत ऐसी वीडियो बनाने वालों की कोई कानूनी जिम्मेदारी नहीं होती, इसलिए ऐसा किया जा रहा है. साइबर मॉब पर भी यूएस का कानून आमतौर पर कोई कदम नहीं लेता है.

ये भी देखें:

उत्तर कोरिया में किम जोंग के वो चाचा कौन हैं, जो सत्ता का नया केंद्र बनकर उभरे हैं

दुनिया की सबसे खतरनाक लैब, जहां जिंदा इंसानों के भीतर डाले गए जानलेवा वायरस

दुनियाभर के विमानों में अब कोरोना के बाद कौन सी सीट रखी जाएगी खाली

तानाशाह किम जोंग की एक ट्रेन रिजॉर्ट के पास दिखी, बाकी स्पेशल ट्रेनें कहां हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज