• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • जानिए, कितना भव्य और खास है अस्पताल का वो सुइट, जहां डोनाल्ड ट्रंप का हो रहा इलाज

जानिए, कितना भव्य और खास है अस्पताल का वो सुइट, जहां डोनाल्ड ट्रंप का हो रहा इलाज

डोनाल्ड ट्रंप के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद से उनका सैन्य अस्पताल में इलाज चल रहा है

डोनाल्ड ट्रंप के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद से उनका सैन्य अस्पताल में इलाज चल रहा है

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) कोरोना के इलाज के लिए वॉल्टर रीड अस्पताल (Walter Reed National Military Medical Center) के प्रेसिडेंशियल सुइट में हैं. ये इतना आलीशान है कि स्टार-होटलों के कमरे भी फीके लगें.

  • Share this:
    डोनाल्ड ट्रंप के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद से उनका सैन्य अस्पताल में इलाज चल रहा है. इस अस्पताल में अत्याधुनिक सुविधाओं और हजारों बेस्ट डॉक्टरों की टीम ट्रंप का इलाज कर रही है. ज्यादातर अमेरिकी राष्ट्रपतियों और टॉप अधिकारियों के इलाज के लिए आरक्षित इस अस्पताल को प्रेसिडेंट्स हॉस्पिटल (President’s Hospital) के नाम से भी जाना जाता है. वैसे इसका असल नाम वॉल्टर रीड राष्ट्रीय चिकित्सा केंद्र ( Walter Reed National Military Medical Center) है. जानिए, कैसा है वो अस्पताल जहां चुनाव से ठीक पहले बीमार पड़े ट्रंप इलाज ले रहे हैं.

    ट्रंप किस अस्पताल में हैं
    ट्रंप वॉल्टर रीड अस्पताल के 71 नंबर वार्ड में हैं. यहां वे प्रेसिडेंशियल सुइट में रह रहे हैं और यहीं से इलाज के अलावा वाइट हाउस का काम-काज भी देख रहे हैं. इस शानदार सुइट से ट्रंप ने एक छोटा सा वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने अस्पताल को दुनिया का सबसे बढ़िया अस्पताल बताते हुए वहां के स्टाफ को शुक्रिया कहा था.

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप वॉल्टर रीड अस्पताल के प्रेसिडेंशियल सुइट में हैं


    क्या है अस्पताल का इतिहास
    वॉशिंगटन से कुछ बाहर मेरीलैंड में स्थित इस अस्पताल का इतिहास काफी पुराना है. सैन्य अस्पताल के तौर पर ये साल 1909 से ही काम कर रहा है. मूल तौर पर ये वॉशिंगटन का अस्पताल है, जहां विश्व युद्ध के दौरान हजारों घायल सैनिकों की जान बचाई गई. इसके अलावा कोरिया से युद्ध, वियतनाम युद्ध और हाल तक चल रहे अफगानिस्तान और ईरान से लड़ाई के दौरान वहां तैनात घायल सैनिकों को वॉल्टर रीड लाकर बढ़िया से बढ़िया इलाज दिया जाता रहा.

    ये भी पढ़ें: वो अमेरिकी राष्ट्रपति, जो White House में जानलेवा बीमारियां लेकर आए   

    एक सैन्य डॉक्टर के नाम पर पड़ा नाम
    अस्पताल का नाम वॉल्टर रीड- उस आर्मी डॉक्टर के नाम पर दिया गया, जिसने सबसे पहले यलो फीवर के बारे में शोध किया था और अहम जानकारियां दी थीं. बता दें कि यलो फीवर वायरस से होने वाला एक हैमरेजिक रोग है, जो संक्रमित मच्छर के काटने से होता है. बुखार, सिरदर्द, उल्टियों के अलावा इसका सबसे गंभीर लक्षण है शरीर के अंदरुनी अंगों से रक्तस्त्राव होना. करीब 50 प्रतिशत लोग इसके संक्रमण से बच नहीं पाते हैं. हालांकि वैक्सिनेशन से बचाव संभव है.

    अस्पताल का नाम वॉल्टर रीड एक आर्मी डॉक्टर के नाम पर दिया गया


    यलो फीवर के बारे में पता लगाने वाले सैन्य डॉक्टर के नाम पर बना ये अस्पताल आज से नौ साल पहले यानी साल 2011 में नेशनल नेवल मेडिकल सेंटर से जोड़ दिया गया. इसके बाद से ये ट्राय-सर्विस मिलिट्री मेडिकल सेंटर बन चुका है और मुख्य वॉशिंगटन से मेरीलैंड के बेथेस्दा में शिफ्ट हो गया. ये जगह वॉशिंगटन से ठीक बाहर स्थित है.

    ये भी पढ़ें: क्यों भारत को ताकतवर चीन की बजाए कमजोर इस्लामाबाद से है खतरा?    

    कितना बड़ा है ये हॉस्पिटल
    अस्पताल लगभग 243 एकड़ में फैला हुआ है. इसकी भव्यता का अंदाजा इस बात से लग सकता है कि यहां 100 क्लिनिक और अलग-अलग तरह की विशेषज्ञता वाली इमारतें हैं, जिनमें लगभग 7000 मेडिकल स्टाफ काम करता है. इसमें डॉक्टर, पैरामेडिक और नर्सें भी शामिल हैं. सैनिकों और सैन्य अधिकारियों के अलावा यहां सरकारी अधिकारियों का भी इलाज होता है, जिसमें राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति शामिल हैं.

    अब जानते हैं उस सुइट के बारे में, जहां ट्रंप भर्ती हैं. इसे वार्ड 71 के नाम से जाना जाता है. ये सुइट अस्पताल का कोई आम कमरा नहीं, बल्कि इसकी भव्यता के आगे सेवन-स्टार होटलों का बेस्ट कमरा भी फीका पड़ जाए.

    फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप अस्पताल स्टाफ के साथ- (Photo-flickr)


    कैसा है ट्रंप का खास कमरा
    छह कमरों के इस सुइट में अलग से एक ICU भी है, साथ में लिविंग रूम, डाइनिंग कमरा, कई बेडरूम, और यहां तक कि एक कॉन्फ्रेंस हॉल भी है. ये खास प्रेसिडेंट का कमरा है, जिसे ट्रंप के लिए और भी ज्यादा बढ़िया तरीके से तैयार किया गया. वाइट हाउस में उनके लिए काम करने वाले स्टाफ के लिए अलग कमरे हैं, यहां तक कि ट्रंप के निजी डॉक्टर भी यहीं एक कमरे में रह रहे हैं.

    ये भी पढ़ें: उदार यूरोपीय देश France अब मुस्लिमों को लेकर कौन सी सख्ती करने जा रहा है?    

    ये राष्ट्रपति रह चुके हैं भर्ती
    पिछले 39 सालों में ये पहला मौका है जब कोई राष्ट्रपति अपने राष्ट्रपति-काल के दौरान यहां भर्ती हुआ है. इंडियन एक्सप्रेस ने अमेरिकी पत्रकार रिचर्ड सदर्न के हवाले से ये बताया. आखिरी प्रेसिडेंट जो अपने कार्यकाल के दौरान यहां भर्ती हुए थे, वो रोनाल्ड रीगन थे. रीगन को मार्च 1981 में सीने में गोली मारकर हत्या की कोशिश की गई थी, जिसके बाद गंभीर रूप से घायल रीगन इस अस्पताल में लाए गए. रीगन के अलावा पूर्व उप-राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन का भी यहां इलाज हुआ था. उनके बाद राष्ट्रपति Dwight D Eisenhower दिल की बीमारी को लेकर यहां भर्ती हुए थे और अस्पताल में ही उनकी मौत हुई थी.

    राष्ट्रपतियों और दूसरे अधिकारियों के अलावा उनके परिवार भी इलाज के लिए इस अस्पताल में आते रहे हैं. जैसे फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप दो साल पहले की किडनी की किसी समस्या के साथ यहां आई थीं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज