लाइव टीवी

जन्मदिन विशेष: यूं ही चाणक्य नहीं कहलाते अमित शाह, 1990 में ही कर दी थी मोदी के पीएम बनने की भविष्यवाणी

News18Hindi
Updated: October 22, 2019, 10:33 AM IST
जन्मदिन विशेष: यूं ही चाणक्य नहीं कहलाते अमित शाह, 1990 में ही कर दी थी मोदी के पीएम बनने की भविष्यवाणी
गृहमंत्री अमित शाह

देश के गृहमंत्री और बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह (Amit Shah) का जन्मदिन है. उनका राजनीतिक करियर काफी दिलचस्प रहा है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 10:33 AM IST
  • Share this:
केंद्रीय गृहमंत्री (Home Minister) और बीजेपी अध्यक्ष (BJP President) अमित शाह (Amit Shah) का आज जन्मदिन है. आज वह 55 साल के हो गए. अमित शाह का जन्म 22 अक्टूबर 1964 को मुंबई (Mumbai) के एक गुजराती परिवार में हुआ था. उनके पिता का नाम अनिलचंद्र शाह और मां का नाम कुसुमबेन है. एक कारोबारी घराने से ताल्लुक रखने वाले अमित शाह का राजनीति में आने और बुलंदियों को छूने की कहानी दिलचस्प है.

अमित शाह की शुरुआती पढ़ाई लिखाई गुजरात के उनके गांव मान्सा में हुई. यहां से उनका परिवार अहमदाबाद शिफ्ट हो गया. आगे की पढ़ाई उन्होंने अहमदाबाद से ही की. अमित शाह ने बायो केमिस्ट्री में ग्रैजुएशन की डिग्री ली है. इसके बाद उन्होंने पीवीसी पाइप बनाने का अपना पारिवारिक कारोबार संभाला. यहां से उन्होंने शेयर बाजार में कदम रखा और शेयर ब्रोकर के तौर पर काम किया. इसके बाद जब उन्होंने राजनीति में कदम रखा तो फिर आगे ही बढ़ते गए. प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह की जोड़ी राजनीति की सबसे दमदार जोड़ी के तौर पर मशहूर हुई.

आसान नहीं रहा राजनीति में आना
राजनीति की सीढ़ियां अमित शाह के लिए आसान नहीं रही. एक कारोबारी फैमिली से आकर राजनीति में पहचान बनाने में अमित शाह को बहुत मेहनत करनी पड़ी. अस्सी के दशक में अमित शाह राष्ट्रीय स्वयंसेवक से जुड़े. वो अखिल भारतीय विधार्थी परिषद के कार्यकर्ता बने. 1982 में उन्हें एबीवीपी के गुजरात इकाई का संयुक्त सचिव बनाया गया.

कहा जाता है कि इसी दौर में प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह एकसाथ आए. अहमदाबाद में आरएसएस के एक कार्यक्रम में नरेंद्र मोदी और अमित शाह की मुलाकात हुई. उस वक्त मोदी आरएसएस प्रचारक के तौर पर काम कर रहे थे. वो अहमदाबाद में युवाओं के इंचार्ज से थे. यहीं पर हुई दोनों के बीच मुलाकात दोस्ती में बदल गई और यहीं से राजनीति की सबसे दमदार जोड़ी ने काम करना शुरू किया.

amit shah birthday special from share broker to union home minister bjp president political journey
गृहमंत्री अमित शाह


1987 में अमित शाह भारतीय जनता युवा मोर्चा में शामिल हुए. यहीं से उनकी सक्रीय राजनीति की शुरुआत हुई. उन्हें 1997 में भारतीय जनता युवा मोर्चा का कोषाध्यक्ष नियुक्त किया गया. 1989 में वो बीजेपी अहमदाबाद शहर के सचिव बने.
Loading...

जब अमित शाह ने नरेंद्र मोदी से कहा था- पीएम बनने के लिए तैयार रहिए
इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट
के मुताबिक, अमित शाह ने नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी 90 के दशक में ही कर दी थी. 1990 में एक चुनाव के दौरान अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास के एक रेस्त्रां में नरेंद्र मोदी और अमित शाह बैठे थे. अमित शाह बोले- नरेंद्र भाई आप प्रधानमंत्री बनने के लिए तैयार रहिए. तब तक नरेंद्र मोदी गुजरात के सीएम भी नहीं बने थे.

1991 में पहली बार अमित शाह ने लालकृष्ण आडवाणी के चुनाव की जिम्मेदारी संभाली. 1991 और 1996 में वो आडवाणी के चुनाव प्रचार संयोजक रहे. यहीं से उन्हें जबरदस्त चुनावी रणनीतिकार माना जाने लगा. उन्हें बेहतरीन इलेक्शन मैनेजर और रणनीतिकार माना गया. कार्यकर्ताओं के बीच उनकी गजब की पैठ थी. बीजेपी का हर कार्यकर्ता उनके संपर्क में रहा करता था.

अमित शाह एक भी चुनाव नहीं हारे
अमित शाह आज तक एक भी चुनाव नहीं हारे. इसकी सबसे बड़ी वजह जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के साथ लगातार संपर्क बनाए रखना ही है. उन्होंने सरखेज विधानसभा सीट से लगातार 1997, 1998, 2002 और 2007 में चुनाव लड़े और जीते. 2012 विधानसभा चुनाव में वो नारनपुरा से जीत कर आए.

amit shah birthday special from share broker to union home minister bjp president political journey
गृहमंत्री अमित शाह


2019 के लोकसभा चुनाव में वो पहली बार उतरे और गांधीनगर सीट से जबरदस्त जीत हासिल की. उन्हें तकरीबन 70 फीसदी वोट मिले. अमित शाह की सबसे बड़ी बात है पार्टी कार्यकर्ताओं का उनतक आसान पहुंच. उनके निर्वाचन क्षेत्र के हर कार्यकर्ता के पास उनका मोबाइल नंबर होता है.

अमित शाह खुद को चिपकू कहते हैं. अपने लक्ष्य से चिपक जाने की उनकी आदत ने ही उन्हें राजनीतिक सफलता दिलाई. 2014 के चुनावों से पहले उन्हें बीजेपी का महासचिव बनाकर यूपी की कमान दी गई. बीजेपी ने यूपी की 80 में से 71 सीटों पर जीत हासिल की. जुलाई 2014 में उन्हें बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया. 24 जनवरी 2016 को उन्हें दोबारा राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर चुना गया. 2019 के चुनाव के बाद उन्हें देश के गृहमंत्री की जिम्मेदारी दी गई.

ये भी पढ़ें: चीन और अमेरिका से ज्यादा अवसादग्रस्त भारत में क्यों बढ़ रहे हैं

इस गांव के लिए Google मैप बना खतरा, पुलिस ने लोगों को यूज़ न करने की दी सलाह

तब लोग बर्तनों में भर-भर के ले जाते थे रूह अफज़ा, केवल यहां मिलता था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 10:01 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...