लाइव टीवी

अमूल बेचेगा ऊंट का दूध, डायबिटीज को कर देता है कंट्रोल

News18Hindi
Updated: October 8, 2018, 3:48 PM IST
अमूल बेचेगा ऊंट का दूध, डायबिटीज को कर देता है कंट्रोल
ऊंट का दूध

ऊंट के दूध को नया सुपर फूड माना जा रहा है. डायबिटीज जैसी बीमारी में तो ये जबरदस्त कारगर है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2018, 3:48 PM IST
  • Share this:
देश का सबसे बड़ा मिल्क डेयरी ब्रांड अमूल दिसंबर से ऊंट का दूध पाउच और बोतलों में बेचना शुरू कर देगा. फिलहाल अमूल कच्छ के पास इसकी एक प्रोसेसिंग यूनिट लगा रहा है. ये पहला मौका होगा जब किसी प्रमुख ब्रांड का ऊंट का दूध बाजार में होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद ऊंट के दूध के प्रशंसक हैं. कई शोधों में सामने आया है कि गाय के दूध की तुलना में ऊंट का दूध कहीं ज्यादा फायदेमंद होता है. डायबिटीज समेत कई रोगों में इसका सेवन किसी चमत्कार की तरह होता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाल ही में गुजरात में अमूल के मुख्यालय गए थे. वहां उन्होंने ऊंट के दूध की पैरवी की. इसी बीच अमूल ने जाहिर कर दिया कि वो ऊंट के दूध का एक बड़ा सयंत्र लगा रहा है. नवंबर में इसके ट्रायल शुरू हो जाएंगे. फिर दिसंबर से इसकी कार्मशियल मार्केटिंग और डिस्ट्रीब्यूशन का काम.

बोतलों और पाउच में बिकेगा
अमूल इसकी शुरुआत अहमदाबाद में 500 मिलीलीटर की बॉटल्स की बिक्री से करेगा. बाद में इसके पाउच भी बाजार में आएंगे.



अभी अमूल हर महीने ऊंट के दूध से 700 टन चॉकलेट बनाता है. इसके लिए हर हफ्ते कच्छ से 10 हजार लीटर तक ऊंट का दूध खरीदता है. अब वो क्षमता बढ़ाएगा. वो गुजरात के कई जिलों से रोज 5000 से 6000 लीटर दूध रोज खरीदना शुरू करेगा ताकि रोज बड़े पैमाने पर इन्हें प्रोसेस किया जा सके.

ये भी पढ़ें - मिग-29 के अपग्रेड होने से क्यों उड़ गई हैं पाकिस्तान की नींद

हाल ही में फ़ूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (FSSAI) ने भी इस दूध को उन एनिमल प्रोडक्ट्स की सूची में डाल दिया है जिसे लोगों के पीने के लिए बाज़ार में बेचा जा सकता है.

ऊंट के दूध में इंसुलिन की तरह की प्रापर्टीज होती हैं


शोध क्या कहते हैं
ऊंट के दूध में विटामिन सी गाय के दूध की तुलना में तीन गुना ज्यादा और आयरन की मात्रा 10 गुना ज्यादा होती है. इसमें विटामिन ए, विटामिन बी2 और लैक्टज कम मात्रा में होता है लेकिन पोटेशियम, मैग्नीशियम, आयरन, तांबा, मैगनीज, सोडियम और जस्ता बड़ी मात्रा में होता है.

भारत में तो इस पर ज्यादा शोध नहीं हुए हैं लेकिन विदेशों में ऊंट के दूध पर कई प्रमाणिक शोध हो चुके हैं. जिसके बाद इसे सुपर फूड माना जाने लगा है.

ये भी पढ़ें - जानिए, दुनिया की चौथी सबसे बड़ी एयरफोर्स IAF की ताकत

यूनाइटेड अरब एमीरेट्स यूनिवर्सिटी में ऊंट के दूध पर हुआ शोध बताता है कि ये डायबिटीज से लेकर कैंसर जैसी बीमारियों को रोकने में बेहद कारगर है. उसमें जबरदस्त न्यूट्रीशियन और चिकित्सीय गुण पाए गए हैं.

बीकानेर के राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र ने हाल ही में एक स्टडी कराई जिसमें इस बात की पुष्टि की गई कि ऊंटनी का दूध मंद बुद्धि बच्चों के लिए अमृत के समान होता है. जिस कारण ऑटिज्म जैसी बीमारियां और मानसिक विकार ठीक हो जाते हैं. इस कारण राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र ने ऊंटनी के दूध से बने कई तरह के उत्पाद भी बाजार में उतार दिए हैं.

शोध ये कहते हैं कि ऊंट का दूध गाय के दूध की तुलना में कहीं ज्यादा लाभदायक होता है


गाय के दूध से क्यों है बेहतर
- ऊंट के दूध में फैट की मात्रा गाय के दूध की तुलना में लगभग आधी होती है
- कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी कम होती है जिस वजह से यह दिल के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद है
- ऊंट के दूध में लैक्टोज की मात्रा काफी कम होती है जिस वजह से ये काफी आसानी से पच जाता है.
- अगर आप लैक्टोज इनटोलरेंट हैं तो आप गाय के दूध की बजाय ऊंट का दूध पी सकते हैं.
- ऊंट के दूध में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा काफी ज्यादा होती है.अगर गाय के दूध से इसकी तुलना की जाये तो इसमें विटामिन सी की मात्रा लगभग तीन गुना ज्यादा होती है

 ये भी पढ़ें - किस तरह गांधीजी की अनिच्छा के बाद भी सबसे छोटे बेटे ने की लवमैरिज

- ऊंट के दूध का सेवन आपको कई तरह की बीमारियों और संक्रमण से बचाता है।
- ऊंट के दूध में गाय के दूध की तुलना में प्रोटीन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. इसलिए अगर आप खासतौर पर प्रोटीन का सेवन करना चाहते हैं तो इस लिहाज से ऊंट का दूध ज्यादा फायदेमंद है.
- ये आपके इम्युनिटी पॉवर को मजबूत करता है, आप कई बीमारियों और संक्रमण से बचे रहते हैं.
- ये कैंसर, स्किन से जुड़ी बीमारियां, एलर्जी और डायबिटीज जैसी बीमारियों से भी बचाता है

जिन देशों में लोग इसे पीते हैं, वहां डायबिटीज कम होता है
सऊदी अरब, अफ्रीका और खाड़ी के देशों में ऊंट का दूध काफी पीया जाता है. वहां डायबिटीज दुनियाभर में सबसे कम होता है. भारत में भी कई लोगों ने दावा किया है कि केवल महीने लगातार इस दूध का सेवन करने से शुगर कंट्रोल हो गया. एक लीटर ऊंटनी के दूध में 52 यूनिट इंसुलिन की मात्रा होती है, लिहाजा ये डायबिटीज को दूर करने में प्राकृतिक तौर पर काफी कारगर पाया गया.

ऊंट के दूध में कोलस्ट्रॉल की मात्रा बहुत कम होती है


कई और फायदे
1. हड्डियां बनाए मजबूत - ऊंटनी के दूध में कैल्शियम काफी मात्रा में होता है, ये हड्डियां मजबूत बनाने में सहायक है
2. खून साफ करे - यह खून से सारे टॉक्सिन्स दूर कर लिवर को साफ करता है
3. अन्य बीमारियां भी करे ठीक - इसके नियमित सेवन से ब्लड सुगर, इंफेक्शन, तपेदिक, आंत में जलन, गैस्ट्रिक कैंसर, हैपेटाइटिस सी, एड्स, अल्सर, हृदय रोग, गैंगरीन ,किडनी संबंधी बीमारियों से शरीर का बचाव करता है

ये भी पढ़ें - 90 फीसदी वेतन दान करने वाले 95 साल के धर्मपाल महाशय की दस खास बातें

4. त्वचा निखारे - बीमारियों के अलवा ऊंटनी का दूध त्वचा निखारने का भी काम करता है। इस दूध में अल्फा हाइड्रोक्सिल अम्ल पाया जाता है। जो कि त्वचा को निखारने का काम करता है। इसीलिए इसका इस्तेमाल सौंदर्य संबंधी पोडक्ट बनाने में भी किया जाता है।

नया सुपर फूड बना
ऊंटनी के दूध के फायदों को देखते हुए इसकी मांग यूरोप के बाज़ारों में काफी बढ़ गई है, जिसके कारण ये बाजार में सुपर फूड का रूप ले चुका है. खुद संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन चाहता है कि पश्चिमी देशों में मौरीतानिया से लेकर कज़ाकिस्तान के लोग ऊंटनी का दूध बेचना शुरु करें.

भारत में कहां होते हैं ज्यादा ऊंट
भारत में गुजरात, हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में ऊंट पाए जाते हैं. गुजरात में मेहसाणा, कच्छ, बनासकांठा में बड़ी संख्या में ऊंट पाले जाते हैं.

एक ऊंट कितना दूध देता है
भारत में ऊंट आमतौर पर दिन में दो बार दूध देते हैं. ये एक बार में 2.5 किलो से 06 किलो तक दूध देते हैं लेकिन कई ऊंट इससे ज्यादा भी दूध उत्पादन करते हैं. हालांकि उनके दूध की क्वालिटी इस पर निर्भर करती है कि वो क्या खाते हैं.

अमूल इसे कितने में बेचेगा
- शुरुआती रिपोर्ट्स का कहना है कि अमूल ऊंट के दूध को 50-55 रुपए लीटर बेच सकता है.

क्या इसका प्रोसेस भी गाय के दूध की तरह होगा
- हां, इसका प्रोसेस भी गाय के दूध की तरह ही होगा. बस इसकी प्रोसेसिंग यूनिट में एक नया उपकरण और जोड़ा जाएगा, जो गंध हटाने का काम करता है. इसका पाश्चुरीकरण गाय और भैंस के दूध की तरह होगा.

ये भी पढ़ें - जब सरदार पटेल के बड़े भाई ने नेताजी सुभाष बोस के नाम कर दी थी अपनी वसीयत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2018, 12:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर