रात को भी ऊर्जा पैदा कर सकेंगी ‘Anti Solar Cells’, ये होगा फायदा

रात को भी ऊर्जा पैदा कर सकेंगी ‘Anti Solar Cells’, ये होगा फायदा
यह खास एंटी सोलर पैनल रात को भी ऊर्जा दे सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सौर ऊर्जा (Solar Energy) की पारंपरिक समस्याओं को दूर करते हुए में एक खास किस्म की सोलर सेल्स (Solar Cells) बनाई जा रही हैं जो रात को भी काम कर सकती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 8:34 AM IST
  • Share this:
पूरी दुनिया में ऊर्जा (Energy) के लिए बहुत संघर्ष है. दिन ब दिन ऊर्जा की मांग (Demand) बढ़ती ही जा रही है और ऊर्जा के सीमित साधन खत्म होते जा रहे हैं. ऐसे में सौर ऊर्जा (Solar Energy) से काफी उम्मीदें हैं, लेकिन उसकी भी कुछ सीमाएं और सीमितताएं हैं. यूं तो सौर ऊर्जा को एक अक्षय ऊर्जा (Inexhaustible) का स्रोत (Source) माना जाता है, लेकिन यह पृथ्वी (Earth) पर हमेशा और हर जगह उपलब्ध नहीं होती है. ऐसे अमेरिका (US) के वैज्ञानिक एंटी सौर सेल्स (Anti Solar Cells) बनाने पर काम रहे हैं जो रात में भी ऊर्जा (Power) दे सकती है.

ये बड़ी समस्या है परंपरागत सौर सेल्स के साथ
सोलर पैनल के बारे में एक परेशानी ये है कि रात और बारिश के मौसम में ये काम नहीं पाती क्योंकि इन्हें सूरज की रोशनी नहीं मिलती इसी लिए शोधकर्ताओं ने इस तकनीक पर काम किया है. डाविस की कैलीफोर्निया यूनिवर्सिटी के एक इंजीनियरिंग प्रोफेसर एक एंटी सोलर सेल का प्रोटोटाइप बनाने पर काम कर रहे हैं. वे ऐसी सेल को विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं जो दुनिया के सौर पैनल कर रहे हैं.

रात को भी ऊर्जा
इन नए सोलर सेल की खास बात यह होगी कि ये रात को ऊर्जा दे सकेंगे जैसे कि सौर पैनल दिन में सूरज की रोशनी में देते हैं. इस एंटी सेल प्रोटोटाइप को बनाने का काम डाविस की कैलीफोर्निया यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जर्मी मुंडे कर रहे हैं. ये सेल सौलर सेल की तरह नहीं होगे. ये आसपास की हवा से ज्यादा गर्म होंगे और इंफ्रारेड प्रकाश निकालेंगे.



sun
परंपरागत सौर सेल्स के दिन के समय ही काम कर पाते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


कैसे काम होता है इसमें
प्रोफेसर जर्मी ने एक इंटरव्यू में कहा कि आम सौर पैनल सूर्य के प्रकाश को अवशोषित करने के बाद ऊर्जा बनाते हैं. जिससे उपकरण में वोल्टेज बनता है और विद्युत का प्रवाह पैदा होता है. उन्होंने बताया कि जिन उपकरणों पर वे काम कर रहे हैं, उनसे प्रकाश निकलता है और विद्युत और वोल्टेज विपरीत दिशा में जाता है, लेकिन फिर भी इससे ऊर्जा पैदा हो जाती है. बात केवल इतनी है कि हमें पदार्थ अलग तरह के उपयोग में लाने में भौतिक विज्ञान तो दोनों ही मामलों में एक ही काम करता है.

बर्फबारी से बिजली पैदा करेगा यह उपकरण, कई और खूबियों से भरा है ये

दिन और रात दोनों ही समय में काम
इन सेल्स की खास बात यह है कि ये रात के साथ दिन में भी आम सोलर सेल्स की तरह काम करेंगी. मुंडे का कहना है कि यह उपकरण रात के अंधेरे के साथ दिन के तेज उजाले में भी काम करेगा, यानि यह 24X7 यानि रात दिन काम कर सकेगी और आम सौर सेल्स की खामियों को दूर कर देगी.



Solar Cells
ये सोलर सेल्स रात में दिन के मुकाबले एक चौथाई ऊर्जा पैदा कर सकते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


प्रोफेसर मुंडे इन नई तरह की सोलर सेल्स पर इस उम्मीद से काम कर रहे हैं कि वे सौर ऊर्जा पैदा करने में बेहतर और ज्यादा करगार साबित हो सकेंगी. कुछ महीने पहले ही इस तकनीक पर शोध हो चुका है जिस अब प्रोटोटाइप बनाने का काम चल रहा है.

कितनी बार भी Recycle कर लीजिए, कमी नहीं आएगी इस प्लास्टिक के गुणों में

इस तकनीक में प्रोफेसर मुंडे ने ऐसी फोटोवोल्टिक सेल का डिजाइन किया था जो रात के आदर्श समय में 50 वाट प्रति मीटर की ऊर्जा पैदा कर सकती है. यह मात्रा परंपरागत सौर सेल्स के दिन के आदर्श समय में पैदा की गई ऊर्जा का एक चौथाई हिस्सा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज