खगोलविदों ने खोजा नेप्चूयन जैसा लेकिन बहुत ही गर्म ग्रह, जानिए कितना अहम है ये

यूं तो बाह्यग्रह (Exoplanet) बहुत असामान्य नहीं होते लेकिन नेप्च्यून (Neptune) जैसा यह ग्रह कई पहेलियों से भरा है. (तस्वीर: Pixabay)
यूं तो बाह्यग्रह (Exoplanet) बहुत असामान्य नहीं होते लेकिन नेप्च्यून (Neptune) जैसा यह ग्रह कई पहेलियों से भरा है. (तस्वीर: Pixabay)

नेप्चून (Neptune) जैसा बाह्यग्रह (Exoplanet) कई लिहाज से दिलचस्प है जिसकी वजह से यह शोधकर्ताओं के लिए अध्ययन का विषय है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 1:15 PM IST
  • Share this:
हमारे सौरमंडल (Solar System) के बाहर कई ग्रह (Planets) हैं जो अपने सूर्य का चक्कर लगाते हैं. वैज्ञानिकगण इन्हीं ग्रहों में जीवन की संभावना तलाशने की कोशिश करते हैं. हर ग्रह कई तरह की खासियतें लिए होता है. इस बारअंतरराष्ट्रीय खगोलविदों की एक टीम ने एक नया बाह्यग्रह (Exoplanet) खोजा है जो हमारे सौरमंडल के नेप्च्यून (Neptune) ग्रह जैसा है. लेकिन इस ग्रह में एक खास अंतर है यह हमारे नेप्च्यून की तरह ठंडा न होकर बहुत ही ज्यादा गर्म (Ultra Hot) है.

अपने सूर्य के बहुत पास है यह ग्रह
शोधकर्ताओं की इस टीम  कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता भी शामिल हैं. उनके द्वारा खोजा गया अति गर्म नेप्च्यून अपने पास के LTT 9779 नाम के तारे का चक्कर लगा रहा है. यह ग्रह वैसे तो आकार में नेप्च्यून की तरह है लेकिन अपने तारे के बहुत ही पास है. यह अपने तारे का एक चक्कर केवल 19 घंटे में ही लगा लेता है.

लोहे की भरपूर मात्रा
तारे के पास होने के कारण यह ग्रह अपने तारे की विकिरणों के कारण बहुत गर्म है और इसका तापमान 1700 डिग्री सेल्सियस से भी ऊपर होता है. इस तापमान पर लोहे जैसे तत्व भी आयनीकृत हो जाते हैं और वायुमंडल में अलग-अलग अणुओं के तौर पर मौजूद रहते हैं. इस तरह से यह हमारे सौरमंडल के बाहर के ग्रहों के रसायन विज्ञान के अध्ययन के लिए एक खास लैबोरेटरी साबित हो सकता है.



वजन की खासियत
इस ग्रह का वजन हमारे नेपच्यून से दो गुना ज्यादा है और आकार में उससे थोड़ा ही बड़ा है. लेकिन दोनों का घनत्व एक ही सा है. माना जा रहा है कि LTT 9779b का क्रोड़ का वजन 28 पृथ्वियों के बराबर हो सकता है. इसका वायुमंडल पूरे ग्रह के 9 प्रतिशत वजन की भागीदारी करता है.

Research, Exoplanet, Neptune, LTT 9779,
इस ग्रह (Planet) का आकार नेप्च्यून (Neptune) की तरह ही है, लेकिन यह नेप्च्यून के जैसा ठंडा नहीं है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


सबसे बड़ा सवाल
यह सिस्टम खुद दो अरब साल पुराना है और बहुत अधिक मात्रा में विकिरण उत्सर्जित करता है. इन हालातों में नेप्च्यून जैसा ग्रह अपना वायुमंडल कैसे कायम रख पा रहा है यह खगोलविदों के लिए एक बड़ी पहेली है.  इस शोध के नतीजे नेचर एस्ट्रोनॉमी जर्नल में प्रकाशित हुए हैं.

अंतरिक्ष से आई थी टाइटेनिक के डूबने की वजह, नए शोध ने की व्याख्या

कितनी दूर स्थित है ये
LTT 9779 हमारे सूर्य के जैसा तारा है जो हमसे 260 प्रकाश वर्ष दूर स्थित है. खगोलीय नजरिए से यह ज्यादा दूरी नहीं है. वहीं LTT 9779b के वायुमंडल में अपने सूर्य से दोगुना मात्रा में लोहा है. इससे यह संकेत मिलता है कि यह ग्रह मूल रूप से एक विशाल गैस का ग्रह रहा होगा क्योंकि इस तरह के पिंड तारों के पास ही बनते हैं जिनमें सर्वाधिक मात्रा में लोहा पाया जाता है.

Research, Exoplanet, Neptune, Density
इस ग्रह (Planet) का धनत्व (Density) बिलकुल नेप्चूयन (Neptune) की तरह ही है.
(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


टेस ने दी जानकारी
इस ग्रह की शुरुआती जानकारी ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (TESS) ने उपलब्ध कराई थी जिसका काम ही बाह्यग्रहों की खोज करना है. टेस तारों का चक्कर लगाकर उनके आगे आने वाले ग्रहों को पकड़ता है. जब ग्रह तारे के सामने आ जाता है तो उसकी चमक कम हो जाती है जिससे ग्रह के होने का पता चलता है. एक बार इनकी पुष्टि हो जाने के बाद खगोलविद इनके वायुमंडल का अध्ययन करते हैं जिससे उनके निर्माण और विकास की प्रक्रिया के बारे में पता चल सके.

धूमकेतू पर दिखा चमकीला पराबैंगनी Aurora, इसके बनने की वजह ने किया हैरान

LTT 9779b के बारे में नवंबर 2018 में उत्तरी चिली स्थिति ESO के ला सिला ऑबसर्वेटरी के अवलोकनों से पता चला.  वहीं हार्पस ने डॉप्लर वोबल पद्धति का उपयोग कर ग्रह की भार और उसकी कक्षा की विशेषताओं के बारे में  पता लगाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज