क्या है भंवरी हत्याकांड जिसने राजस्‍थान में कांग्रेस की चूलें हिला दीं थीं

राजस्थान में कांग्रेस ने भंवरी हत्याकांड के दो आरोपियों मदेरणा और मलखान विश्नोई के परिवार के लोगों को टिकट दिया है

News18Hindi
Updated: November 16, 2018, 6:39 PM IST
क्या है भंवरी हत्याकांड जिसने राजस्‍थान में कांग्रेस की चूलें हिला दीं थीं
भंवरी देवी (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: November 16, 2018, 6:39 PM IST
कांग्रेस ने राजस्थान विधानसभा चुनावों के लिए लूणी से पूर्व विधायक और भंवरी देवी हत्याकांड में जेल में बंद मलखान सिंह विश्नोई के पुत्र महेंद्र विश्नोई को कांग्रेस ने प्रत्याशी बनाया है. साथ ही इसी हत्याकांड में जेल में बंद महिपाल मदेरणा की बेटी दिव्या मदेरणा को भी कांग्रेस ने ओसियांं से टिकट दिया है. सात साल पहले वर्ष 2011 में इस हत्याकांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.  अब इन दोनों को टिकट मिलने इस हत्याकांड का जिन्न फिर बोतल से बाहर आ गया है. इस मामले के चलते कांग्रेस को मारवाड़(पश्चिमी राजस्‍थान) में खासा नुकसान उठाना पड़ा था. जोधपुर, बाड़मेर और जैसलमेर जिलों में कांग्रेस को 19 में से केवल दो सीट मिली थी.

क्या था भंवरी देवी हत्याकांड
वर्ष 2011 में राजस्थान की नर्स और लोकगायिका भंवरी देवी गायब हो गई. बाद में पता लगा कि उसकी हत्या कर दी गई है. इस मामले में राजस्थान के पूर्व कैबिनेट मंत्री महिपाल मदेरणा और कांग्रेस विधायक मलखान सिंह विश्नोई पर हत्या का आरोप लगा. बाद में इस मामले ने इतना तूल पकड़ा कि जांच का काम सीबीआई को दिया गया.

 ये भी पढ़ें - भंवरी देवी हत्याकांड के आरोपी मदेरणा-मलखान के बच्चों को टिकट

सीबीआई को करनी पड़ी थी हत्याकांड की जांच
जोधपुर में सीबीआई की विशेष अदालत में जांच एजेंसी ने महिपाल मदेरणा और मलखान समेत 17 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर की. आरोप पत्र में इन अभियुक्तों पर हत्या समेत कई धाराएं जोड़ी गईं. करीब सौ पेज का आरोप पत्र तैयार करने में सीबीआई ने 300 से ज्यादा गवाहों के बयान लिए.

भंवरीदेवी हत्याकांड के आरोपी पूर्व मंत्री मदेरणा (फाइल फोटो)

Loading...

इस मामले ने तब तूल पकड़ा जब स्वास्थ्य विभाग में एएनएम भंवरी के पति अमरचंद ने 20 सितंबर को रिपोर्ट लिखाई कि उसकी बीवी 20 दिनों से लापता है. उसने मदेरणा के खिलाफ नामजद रिपोर्ट लिखाई. पुलिस ने 2 दिसंबर को मदेरणा और फिर मलखान को गिरफ्तार कर लिया गया. तब से ही दोनों जेल में हैं.

सीडी ने मचाया था तहलका
भंवरी के गायब होने के कुछ दिनों बाद एक सीडी भी सामने आई जिसमें मदेरणा और भंवरी देवी की कुछ तस्वीरें थीं. भंवरी के रिश्ते मदेरणा से थे. ये आरोप लगे कि इन तस्वीरों के जरिए भंवरी राजस्थान के मंत्री मदेरणा को ब्लैकमेल करती थी.

 ये भी पढ़ें - क्या वाकई दिन में इस एक घंटे के दौरान सबसे ज्यादा मौतें होती हैं?

भंवरी के रिश्ते मलखान से भी बताए गए. मलखान से भंवरी को एक बेटी भी पैदा हुई ​थी, जिसका वह लगातार हक मांगा करती थी. इस सीडी ने राजस्थान की सियासत को हिला कर रख दिया था.

महिपाल मदेरणा और भंवरी देवी


मलखान की बहन का एंगल
इस सीडी को बनवाने का आइडिया मलखान की बहन इंद्रा ने भंवरी को दिया था. इंद्रा महिला और बाल विकास में सुपरवाइज़र के पद और तैनात थी और भंवरी देवी की सबसे करीबी दोस्तों में से एक थी. इंद्रा इस सीडी के सहारे म​देरणा को ब्लैकमेल करके पद से हटवाते हुए अपने भाई मलखान को मंत्री बनवाना चाहती थी.

 ये भी पढ़ें - आखिर क्या हुआ कि अब केवल महिलाओं के नाम पर नहीं होते तूफानों के नाम?

अपहरण के बाद हत्या और लाश जला दी गई
इसी के चलते उसने साजिश के तहत सीडी हथियाने के लिए विश्नाराम गैंग की मदद से भंवरी का अपहरण कराया. गैंग ने भंवरी से सीडी पाने के लिए उसे टॉर्चर करना शुरू किया.

इसी बीच भंवरी को ये गैंग दूसरे स्थान पर ले जाने लगा तो भंवरी ने हल्ला मचाया. जिसके बाद गला दबाने से उसकी मौत हो गई. भंवरी की लाश को पूरी तरह से जला दिया गया. राख को सड़क पर फेंक दिया गया.

भंवरी देवी हत्याकांड के दूसरे आरोप पूर्व विधायक मलखान सिंह विश्नोई


 ये भी पढ़ें - चीन ने बनाया आर्टिफिशियल सूरज, असली से तीन गुना ज्यादा गर्म

भंवरी कर रही मदेरणा को ब्लैकमेल
बताया जाता है कि इस सीडी के जरिए पहले भंवरी ने मदेरणा को ब्लैकमेल करते हुए 10 लाख रुपये में सौदा किया था लेकिन इंद्रा ने ये सौदा 50 लाख रुपये में करने का दबाव बनाया था. फिलहाल मदेरणा 6 साल से जेल में हैं. मलखान भी जेल में है. मारवाड़ में मदेरणा परिवार और राम सिंंह विश्‍नोई परिवार का काफी प्रभाव है. दोनों राजनीतिक घराने से हैं. मदेरणा के पिता परसराम राजस्‍थान विधानसभा के स्‍पीकर रहे थे. वहीं मलखान के पिता राम सिंह मंत्री रहे थे.

गहलोत पर भी पड़े थे छींटे
जिस समय ये कांड हुआ तब प्रदेश में अशोक गहलोत मुख्यमंत्री थे. उस मामले के छींटे उन पर भी पड़े थे. कहा जाता है कि अशोक गहलोत इस सीडी के बारे में सब जानते थे. भंवरी देवी ने गहलोत से भी मुलाकात की थी. जिसके बाद गहलोत ने मदेरणा को सुलह की सलाह दी थी.

 ये भी पढ़ें - जानें कौन हैं तृप्ति देसाई, जो सबरीमाला मंदिर में करना चाहती हैं प्रवेश
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर