Birthday Homi J. Bhabha : क्या CIA ने रची थी भाभा के विमान हादसे में मौत की साजिश

भारत के प्रसिद्ध परमाणु वैज्ञानिक होमी भाभा का विमान हादसे में निधन आज भी एक पहेली ही है.
भारत के प्रसिद्ध परमाणु वैज्ञानिक होमी भाभा का विमान हादसे में निधन आज भी एक पहेली ही है.

भारत के जाने-माने परमाणु वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा ( Homi Jehangir Bhabha ) का आज जन्मदिन है. वो 30 अक्टूबर 1909 के दिन मुंबई (Mumbai) में पैदा हुए थे. जब वो भारत को परमाणु हथियार संपन्न देश बनाने की बढ़ा चुके थे, तभी एक विमान हादसे (Plane crash) में उनका निधन हो गया. आज भी माना जाता है कि उनका निधन सुनियोजित साजिश से हुआ

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 9:54 AM IST
  • Share this:
अगर होमी जहांगीर भाभा (Homi Jehangir Bhabha) की मौत एक विमान हादसे (plane crash) में न हुई होती तो शायद भारत न्यूक्लियर साइंस (Nuclear Science) के क्षेत्र में कहीं बड़ी उपलब्धि हासिल कर चुका होता. सिर्फ 56 साल की उम्र में भारत में न्यूक्लियर एनर्जी प्रोग्राम (Nuclear Energy Programme) के जनक होमी जहांगीर भाभा की मौत हो गई.

कहा जाता है कि होमी जहांगीर भाभा की मौत के पीछे साजिश थी. भारत के न्यूक्लियर एनर्जी प्रोग्राम को रोकने के लिए भाभा की मौत की साजिश रची गई थी. होमी जहांगीर भाभा जिंदा होते तो भारत न्यूक्लियर एनर्जी के क्षेत्र में महारत हासिल कर चुका होता.

न्यूक्लियर एनर्जी में रिसर्च की
होमी जहांगीर भाभा का जन्म 30 अक्टूबर 1909 को मुंबई के एक अमीर पारसी परिवार में हुआ था. 18 साल की उम्र में भाभा ने कैंब्रिज यूनवर्सिटी में मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू की. बाद में उनकी रुचि फिजिक्स की तरफ बढ़ी. अपने पिता की मर्जी पर 1930 में उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई तो कर ली लेकिन आगे फीजिक्स की पढ़ाई जारी रखी. 1934 में उन्होंने क़ॉस्मिक रे को लेकर अपना पहला रिसर्च पेपर सामने रखा. न्यूक्लियर एनर्जी के क्षेत्र में उन्होंने अपनी पढ़ाई और रिसर्च जारी रखी.
1939 में वो छुट्टियां मनाने भारत आए थे. लेकिन लौटकर वापस नहीं जा सके क्योंकि तब तक द्वितीय विश्वयुद्ध छिड़ चुका था. 1940 में नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ सी वी रमन ने उन्हें बेंगलुरु के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस जॉइन करने को कहा. वो फीजिक्स के रीडर के तौर पर कॉलेज में पढ़ाने लगे.



ये भी पढें- KBC सवाल : इंदिरा गांधी ने क्यों रोका था राजे-महाराजाओ को मिलने वाला मोटा धन

1945 में टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च की स्थापना हुई. होमी जहांगीर भाभा को वहां का डायरेक्टर बनाया गया. 1948 में वो ट्रॉम्बे एटोमिक एनर्जी एस्टैबलिशमेंट के डायरेक्टर बनाए गए. बाद में इंदिरा गांधी ने उनकी याद में संस्थान का नाम बदलकर भाभा एटोमिक रिसर्च सेंटर कर दिया.

homi jehangir bhabha death mystery was american conspiracy behind bhabhas plane crash
होमी जहांगीर भाभा


क्या वो विमान हादसा जानबूझकर कराया गया था?
होमी जहांगीर भाभा की मौत एक विमान हादसे में हुई. लेकिन कहा जाता है कि वो विमान हादसा जानबूझकर करवाया गया था. अमेरिका नहीं चाहता था कि भारत का न्यूक्लियर प्रोग्राम आगे बढ़े. इसलिए अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने होमी जहांगीर भाभा जिस प्लेन से जा रहे थे, उसका क्रैश करवा दिया. हालांकि इसे कभी साबित नहीं किया जा सका.

24 जनवरी 1966 को होमी जहांगीर भाभा एयर इंडिया के फ्लाइट नंबर 101 से सफर कर रहे थे. मुंबई से न्‍यूयॉर्क जा रहा एयर इंडिया का बोइंग 707 विमान माउंट ब्‍लैंक पहाड़ियों के पास हादसे का शिकार हो गया. इस हादसे में होमी जहांगीर भाभा समेत विमान में सवार सभी 117 यात्रियों की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें - लीचेस्टीन में जब दो भारतीय लड़कियों की मुकेश अंबानी से कैफे में हुई अचानक मुलाकात

उस समय से इस हादसे को लेकर कई बातें हुई. कई लोगों का मानना है कि इस विमान को साजिश के जरिए दुर्घटना का शिकार बनाया गया. कुछ लोगों का मानना है कि विमान में बम धमाका हुआ था जबकि कुछ का कहना है कि इसे मिसाइल या लड़ाकू विमान के जरिए गिराया गया था. इसके पीछे तर्क है कि सीआईए ने भारतीय परमाणु कार्यक्रम को रोकने के लिए भाभा की हत्या की साजिश रची थी. लेकिन इसे कभी साबित नहीं किया जा सका.

हादसे के बाद विमान का कुछ पता नहीं चला?
आधिकारिक तौर पर जो जानकारी निकलकर सामने आई उसके मुताबिक जेनेवा एयरपोर्ट और फ्लाइट के पायलट के बीच गलतफहमी हुई थी. माउंट ब्लैंक की पहाड़ियों के बीच फ्लाइट के लोकेशन को लेकर कंफ्यूजन हुई थी. जिसकी वजह से विमान हादसे का शिकार हुआ. इसके बाद विमान का कुछ पता नहीं चला.

2017 में उस विमान हादसे के कुछ सबूत हाथ लगे थे. फ्रांस में आल्प्स पहाड़ियों के बीच स्थित माउंट ब्‍लैंक पर एक खोजकर्ता को मानव अवशेष मिले थे. उस वक्त बताया गया कि ये अवशेष उन लोगों के हो सकते हैं, जो 1966 के एयर इंडिया फ्लाइट क्रैश में मारे गए थे. मानव अवशेष की खोज करने वाले डेनियल रोशे ने कहा था कि मैंने इससे पहले इन पहाड़ियों पर कभी भी मानव अवशेष जैसे साक्ष्‍य नहीं पाए. इस बार मुझे एक हाथ और एक पैर का ऊपरी हिस्‍सा मिला है.

homi jehangir bhabha death mystery was american conspiracy behind bhabhas plane crash
भाभा का प्लेन हादसे का शिकार हुआ था


हालांकि बाद में पता चला कि जो अवशेष मिले हैं वो किसी महिला के हैं. हो सकता है वो महिला की जान उसी विमान हादसे में गई हो. ये दावा इसलिए मजबूत था क्योंकि मानव अवशेष के साथ वहां एक विमान का जेट इंजन भी मिला था.

ये भी पढ़ें - जानें फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों के बारे में, जिनसे खफा हैं मुस्लिम देश, कभी चर्चित थी उनकी लव स्टोरी

सीआईए ने मानी थी मौत में साजिश की बात
होमी जहांगीर भाभा की रहस्यमय मौत की एक और थ्योरी 2008 में आई. 2008 में एक वेबसाइट ने एक पत्रकार ग्रेगरी डगलस और सीईआए अफसर रॉबर्ट क्राओली के बीच हुई एक बातचीत छापी. इस बातचीत में क्राओली कह रहे थे कि भारत ने 60 के दशक में परमाणु बम पर काम शुरू कर दिया था. जो हमारे लिए समस्या थी. रॉबर्ट के मुताबिक भारत ये सब रुस की मदद से कर रहा था.

इस बातचीत में रॉबर्ट क्राओली ने भाभा को खतरनाक बताया था. क्राओली के मुताबिक भाभा जिस वजह से वियना जा रहे थे, उसके बाद उनकी परेशानी और बढ़ती. कहा जाता है कि इसी वजह से विमान के कार्गो में बम विस्फोट के जरिए उसे उड़ा दिया गया.

किया था 18 महीनों में परमाणु बम बनाने का ऐलान
कहा जाता है कि अक्टूबर 1965 में भाभा ने ऑल इंडिया रेडियो से घोषणा की थी कि अगर उन्हें छूट मिले तो भारत 18 महीनों परमाणु बम बनाकर दिखा सकता है. भाभा चाहते थे कि उर्जा, कृषि और मेडिसीन के क्षेत्र में देश की प्रगति के लिए न्यूक्लियर एनर्जी प्रोग्राम बने.

भाभा ये भी चाहते थे कि देश की सुरक्षा के लिए परमाणु बम बने. कहा जाता है कि भारत की तरक्की को देखते हुए अमेरिका डर गया था. अमेरिका को लग रहा था कि अगर भारत ने परमाणु बम बना लिया तो ये पूरे दक्षिण एशिया के लिए खतरनाक होगा. इसलिए सीआईए ने भारत के न्यूक्लियर प्रोग्राम को रोकने के लिए भाभा की हत्या की साजिश रची.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज