• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • KCR Birthday: वो नेता जिसने इतिहास, साहित्य, संगीत से पाया नया राज्य

KCR Birthday: वो नेता जिसने इतिहास, साहित्य, संगीत से पाया नया राज्य

तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव. (फाइल फोटो)

तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव. (फाइल फोटो)

तेलंगाना के आंदोलन (Telangana Movement) के साथ केसीआर (K Chandrashekhar Rao) का नाम हमेशा जुड़ा रहा और रहेगा. इन दिनों फिर एक बयान से केसीआर (KCR Speech) सुर्खियों में हैं, लेकिन क्या आप उनके हुनर, परिवार, लाइफस्टाइल और बड़ी संपत्ति के राज़ जानते हैं?

  • Share this:

    दो जून 2014 को आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) से अलग होकर तेलंगाना नया राज्य बना, तो इस राज्य के लिए लंबी लड़ाई लड़ने वाले ‘लंबे’ नेता केसीआर ही सीएम बने और अब तक हैं. हाल में केसीआर ने ये कहकर बहस छेड़ दी कि अगले 10 साल और वो सीएम (CM of Telangana) रहेंगे. बहरहाल, 17 फरवरी केसीआर का जन्मदिन है, तो इस अनोखे नेता के बारे में जानने का अच्छा मौका है. जानिए कैसे केसीआर ने इतिहास, साहित्य और संगीत के हुनर से नया राज्य (New State) खड़ा कर दिया. यह भी कि केसीआर कितने अमीर (KCR Wealth) हैं और क्यों.

    कांग्रेस के साथ राजनीति शुरू करने वाले केसीआर को संजय गांधी को दोस्त कहा गया, मेडक से चुनावी जीत का सफर शुरू किया, एनटीआर की तेदेपा से जुड़े, फिर अलग होकर उन्होंने खुद की पार्टी टीआरएस बनाई, कांग्रेस और भाजपा से भी जुड़ते, बिछड़ते रहे… खैर ये तो सियासी बातें हैं, लेकिन केसीआर के बारे में दिलचस्प बातें ये हैं कि कैसे उन्होंने अलग राज्य हासिल करने का सफर किया और उनकी जीवन शैली क्या है.

    ये भी पढ़ें:- भारत के लिए कितनी ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण है कैलाश रेंज?

    who is kcr, who is telangana cm, telangana capital, cm of telangana, केसीआर कौन हैं, तेलंगाना सीएम, तेलंगाना की राजधानी, तेलंगाना के मुख्यमंत्री

    केसीआर के बेटे केटीआर को उनका सियासी उत्तराधिकारी माना जाता है.

    भाषा, इतिहास और गाने से कैसे बना राज्य?
    20 साल पहले जब केसीआर ने आंध्र प्रदेश से अलग तेलंगाना राज्य का आंदोलन शुरू किया तो उन्हें पता था कि इतिहास की जानकारी के बगैर लोगों को जोड़ा नहीं जा सकता था. तेलुगू राज्य का इतिहास समझना और समझाना उनकी सबसे बड़ी ताकत बना. राज्य के कोने कोने तक घूमकर केसीआर इतिहास और समाज से जुड़ी बातें करके लोगों का समर्थन जुटाते थे.

    ये भी पढ़ें:- कौन हैं मीना हैरिस और क्यों लगातार खबरों में बनी हुई हैं?

    ‘तेलंगाना वाले जागो, आंध्र वाले भागो’ जैसे नारे केसीआर ने लिखे, जिन्होंने यह कहावत सिद्ध की कि ‘बदनाम हुए तो क्या नाम तो हुआ’. उस्मानिया यूनिवर्सिटी से साहित्य में डिग्री हासिल करने वाले केसीआर को पता था कि भाषा और साहित्य कितना बड़ा असर रखते हैं. तेलुगू के साथ उर्दू, हिंदी और इंग्लिश केसीआर उन लोगों को ध्यान में रखकर चतुराई से बोल सकते हैं, जिन्हें वो प्रभावित करना चाहते हैं.

    ये भी पढ़ें:- अगर आपकी गाड़ी 15 साल पुरानी हो गई है तो क्या करें?

    यही नहीं, केसीआर को यह भी पता था कि स्वाधीनता आंदोलन रहा हो, या कोई भी बड़ी मुहिम, उसमें गीतों की अहमियत बहुत रही. साहित्य के अध्येता तो थे ही, तो केसीआर ने खुद गाने लिखे और लोगों के बीच तेलंगाना राज्य का आंदोलन पहुंचाने के लिए खुद वो गाने गाया करते थे. लोकप्रियता मिली तो केसीआर ने बाकायदा वो गाने संगीतकारों से कंपोज़ करवाकर लोगों के बीच पहुंचाए. लाखों को जोड़कर विशाल जन आंदोलन केसीआर ने इस तरह खड़ा किया.

    who is kcr, who is telangana cm, telangana capital, cm of telangana, केसीआर कौन हैं, तेलंगाना सीएम, तेलंगाना की राजधानी, तेलंगाना के मुख्यमंत्री

    सांसद रह चुकी हैं केसीआर की बेटी कविता.

    तेलंगाना को भारत का 29वां राज्य बनाने के इस संघर्ष में केसीआर की सियासी खटपट भी मशहूर रही. 13 साल के आंदोलन के दौरान केसीआर का कांग्रेस से रिश्ता बना, वो केंद्रीय मंत्री भी रहे लेकिन जब उन्होंने देखा कि कांग्रेस तेलंगाना के निर्माण में रुचि नहीं ले रही तो केसीआर ने अलग होने में भी देर नहीं की. इसी तरह, 2014 के बाद से भाजपा के सहयोगी दिखे केसीआर अब भाजपा के आलोचक दिखते हैं.

    क्या है केसीआर की बड़ी दौलत का राज़?
    खुद को किसान कहने वाले इस नेता की संपत्ति का राज़ कृषि ही बताया जाता है. हैरत की बात यह है कि करोड़ों की पूंजी रखने वाले और 50 करोड़ के नये बंगले को लेकर चर्चित रहे केसीआर और उनकी पत्नी के नाम कोई गाड़ी नहीं है. 2018 में चुनाव के दौरान केसीआर ने जो डेटा शेयर किया था, उसके मुताबिक उनके पास 23 करोड़ रुपये से ज़्यादा की कुल संपत्ति थी, जो 2014 के चुनाव के समय की तुलना में 55 फीसदी ज़्यादा थी.

    ये भी पढ़ें:- बसंत ऋतु को मन से सुनकर देखिए डिप्रेशन से कैसे मिलता है छुटकारा

    कई मौकों पर केसीआर खुद को कृषि प्रधान देश का एक किसान बता चुके हैं. और यह भी एक फैक्ट है कि 2018 में खेती से उन्हें 7 करोड़ रुपये से ज़्यादा की कमाई होना बताया गया था. कहा जाता है कि केसीआर वैज्ञानिक ढंग से खेती में रुचि लेते हैं और शिमला मिर्च व आलू की खेती उनकी पहली पसंद है. खुद केसीआर कहते पाए गए कि वो सालाना 10 करोड़ रुपये खेती से कमाते हैं. लेकिन एक किसान की महंगी और आलीशान लाइफस्टाइल तेलंगाना में चर्चा में रहती है.

    who is kcr, who is telangana cm, telangana capital, cm of telangana, केसीआर कौन हैं, तेलंगाना सीएम, तेलंगाना की राजधानी, तेलंगाना के मुख्यमंत्री

    अपनी बहनों के साथ रक्षाबंधन का त्योहार मनाते केसीआर.

    कैसा है केसीआर का परिवार?
    एक सामान्य परिवार में जन्मे कल्वाकुंतला चंद्रशेखर राव की पत्नी शोभा हैं और दोनों की दो संतानें हैं. उनके बेटे केटी रामाराव पहले करीमनगर के नाम से मशहूर रहे ज़िले से विधायक हैं और राज्य में आईटी व शहरी विकास विभाग के मंत्री भी हैं. वहीं, केसीआर की बेटी के कविता निज़ामाबाद सीट से लोकसभा सांसद रह चुकी हैं. केसीआर के भतीजे हरीश भी विधायक और तेलंगाना के कैबिनेट मंत्री हैं. यही नहीं केसीआर का परिवार काफी बड़ा है और उनकी 9 बहनें और एक बड़े भाई हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज