BJP Manifesto 2019: बीजेपी ने अपने 2014 के मैनिफेस्टो में इन मुद्दों पर किए थे बड़े वादे

बीजेपी ने अपना चुनावी घोषणा पत्र 'संकल्प' जारी कर दिया है. 2014 आम चुनावों से पहले बीजेपी ने पहले चरण के चुनाव के दिन अपना घोषणा पत्र जारी किया था.

News18Hindi
Updated: April 8, 2019, 11:57 AM IST
BJP Manifesto 2019: बीजेपी ने अपने 2014 के मैनिफेस्टो में इन मुद्दों पर किए थे बड़े वादे
प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: April 8, 2019, 11:57 AM IST
बीजेपी ने अपना चुनावी घोषणा पत्र 'संकल्प पत्र' जारी कर दिया है. 2014 आम चुनावों से पहले बीजेपी ने पहले चरण के चुनाव के दिन अपना घोषणा पत्र जारी किया था. इस घोषणा पत्र में राम मंदिर और कश्मीर जैसे मुद्दे भी शामिल थे. इस मैनिफेस्टो को जारी करते हुए बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने कहा था कि इसे देश के करीब 1 लाख लोगों के सुझाव से तैयार किया गया है. घोषणा पत्र में महिला सुरक्षा पर खास गौर था. इसमें पुलिस रिफॉर्म की बात भी कही गई थी. इसके अलावा एससी-एसटी समुदाय को विशेष अधिकार दिए जाने का वादा किया गया था. ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के अंतर को कम करने की बात कही गई थी. काला बाजारी रोकने के लिए विशेष कोर्ट बनाने का दावा किया गया था.

घोषणा पत्र में शिक्षा के क्षेत्र में काम करने की बात की गई थी. नए कॉलेज और यूनिवर्सिटी खोलने का वादा किया गया था. कृषि क्षेत्र और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में भी विशेष पैकेज देने का वादा किया है. इसके साथ ही टैक्स सिस्टम को आसान बनाने और सरकारी बैंकों की हालत सुधारने की बात की गई है. इन मुख्य मुद्दों पर था बीजेपी का फोकस-



राम मंदिर
घोषणापत्र में कहा गया था कि बीजेपी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए संविधान के दायरे में रहकर सभी संभावनाओं को तलाशने की बात कही थी.

जम्मू-कश्मीर मुद्दा
बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में कश्मीरी पंडितों को सम्मान के साथ घाटी में वापस ले जाने की बात कही थी. कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा और जीवनयापन की सुविधाएं मुहैया कराना बी बीजेपी के घोषणापत्र में शामिल थे. बीजेपी कश्मीर के अनुच्छेद 370 पर अपने रुख पर कायम थी. घोषणापत्र में कहा गया था कि अनुच्छेद 370 पर बीजेपी सभी हितधारकों के साथ चर्चा करेगी और इसे हटाने के लिए पार्टी प्रतिबद्ध है.

काला धनबीजेपी ने अपने घोषणापत्र में विदेशी बैंकों में जमा काला धन वापस लाने के लिए टास्क फोर्स बनाने की बात कही थी. घोषणापत्र में कहा गया था कि ब्लैक मनी को रोकने के लिए दूसरे देशों की सरकार के साथ सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाएगा.

भ्रष्टाचार
घोषणा पत्र में कहा गया था कि भ्रष्टाचार को रोकने के लिए बीजेपी एक सिस्टम खड़ा करेगी ताकि भ्रष्टाचार की सभी गुंजाइशें समाप्त हो जाएं. इसके लिए जनता को जागरुक करने की बात कही गई थी. पार्टी जनता को जन जागरुकता, प्रौद्योगिकी आधारित ई-शासन आदि के बारे में सक्षम करेगी. जिससे भ्रष्टाचार को रोकने में मदद मिलेगी. भ्रष्टाचार रोकने के लिए बीजेपी टैक्स प्रणाली को सरल बनाएगी. जिससे लोग ईमानदारी से अपने टैक्स का भुगतान कर सकें. टैक्स प्रणाली को आसान बनाने से नागरिकों का संस्थानों और प्रतिष्ठानों में विश्वास मजबूत होगा.

बुलेट ट्रेनों का जाल बिछाएगी BJP
सत्ता में आने पर बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में तेज रफ्तार बुलेट ट्रेनों का जाल बिछाने के लिए एक महत्वाकांक्षी हीरक चतुर्भुज रेल परियोजना शुरू करने का ऐलान किया था. खुली सरकार और जवाबदेह शासन का वादा करते हुए घोषणापत्र में कहा गया कि प्रशासनिक सुधार बीजेपी के लिए प्राथमिकता होने की बात कही गई थी. कहा गया था कि सत्ता में आने पर बीजेपी सरकार इसका क्रियान्वयन प्रधानमंत्री कार्यालय के तहत एक उचित संस्था के जरिए करेगी.

अल्पसंख्यकों को समान अवसर की वकालत
बीजेपी ने कहा कि यूपीए-1 और यूपीए-2 के दौरान पैदा हुई अव्यवस्थाओं का प्राथमिकता से हल निकालने के लिए वह त्वरित और निर्णायक कदम उठाएगी, ऐसा कहा गया था. बीजेपी ने अल्पसंख्यकों के जीवन स्तर को उंचा उठाने और उद्योग के क्षेत्र में उनके लिए सुविधाएं उपलब्ध कराने का वादा किया था.

समान नागरिक संहिता का वादा
घोषणा पत्र में समान नागरिक सहिता का वादा किया गया था. इसमें कहा गया था कि संविधान की धारा 44 में समान नागरिक संहिता को राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांतों में जगह दी गई है. घोषणापत्र में कहा गया था कि जब तक भारत में समान नागरिक संहिता को अपनाया नहीं जाता, तब तक लैंगिक समानता कायम नहीं हो सकती. समान नागरिक संहिता सभी महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करती है.

बीजेपी के 2014 के घोषणापत्र के अन्य मुख्य बिंदु ये थे-

# एक भारत और श्रेष्ठ भारत का विजन
# राम मंदिर के निर्माण का जिक्र
# महंगाई, रोजगार, स्वरोजगार, भ्रष्टाचार, काला धन पर खास कानून
# ई-गवर्नेंस और सरकार के शासन प्रणाली में पारदर्शिता
# न्यायपालिका में सुधार पर जोरः मुकदमों का निपटारा जल्दी हो, कोर्ट के बाहर समझौता हो सके इसकी व्यवस्था हो, इसके लिए लोक अदालतों की बात कही गई थी.
# इसमें टीम इंडिया का विचार रखा गया था. कहा गया था सारे राज्य और उनके मुख्यमंत्रियों को इससे जोड़ा जाएगा. सेंटर स्टेट रिलेशन पर जोर दिया गया था.
# पुलिस व्यवस्था में सुधार. खासकर महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से
# एससी-एसटी सशक्तिकरणः SC-ST और अन्य दुर्बल लोगों को सामाजिक न्याय मिले और उनका सशक्तिकरण हो
# हर गांव में पाइप से पानी पहुंचाने का वादा
# शिथिल नीतियों से निपटने के प्रावधान
# हर राज्य में एम्स की स्थापना होगी
# उर्दू का विस्तार और मदरसों का आधुनिकीकरण करने पर जोर
# स्वर्णिम चतुर्भुज बुलेट ट्रेन शुरू करने की घोषणा
# बंदरगाहों का विकास करने पर जोर
# 50 नए टूरिस्ट सर्किट बनाने की बात
# हर गांव को इंटरनेट से जोड़ने की बात
# हिमालय की सुरक्षा के लिए रेजिमेंट बनाने की घोषणा
# मल्टीकंट्री स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम शुरू करने का वादा
# किसानों को लागत मूल्य से 50 फीसदी अधिक मिलने की बात
# मल्टी ब्रैंड रिटेल को छोड़ सभी में FDI जारी रहेगा
# शिक्षण संस्थाओं को विश्वस्तरीय बनाना होगा
# बीजेपी का देश भर में गैस ग्रिड बनाने का वादा
# हर व्यक्ति के पास एक पक्का घर हो
# अध्यापकों के वोकेशनल ट्रेनिंग पर जोर
# टैक्सेशन में सुधारः आज के कानून से लोगों को परेशानी है. कहा गया था कि आज टैक्स का आतंक है
# नेशनल ई-लाइब्रेरी का वादा
# मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में सुधार जरूरी. ब्रैंड इंडिया पर जोर

यह भी पढ़ें: वोटर कार्ड नहीं है तब भी डाल सकते हैं वोट
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार