भारत में आज ही के दिन शुरू हुआ था बम्बई का स्टॉक एक्सचेंज

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) आज से 146 साल पहले शुरू हुआ था. (फाइल फोटो)

Bombay Stock Exchange: साल 1875 में यह भारत (India) का ही नहीं एशिया का पहला शेयर बाजार (Share Market) था आज यह दुनिया के पूंजी बाजार (Capital Market) को प्रभावित करता है.

  • Share this:
    आमतौर पर किसी देश में एक स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) होता है, लेकिन भारत में दो स्टॉक एक्सचेंज हैं. कई लोगों को हैरानी की बात लगती है कि भारत के नेशनल स्टॉक एक्चेंज से ज्यादा बंबई स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) का अधिक महत्व है. सौ साल से ज्यादा पुराना बंबई स्टॉक एक्सचेंज देश का ही नहीं, बल्कि एशिया का पहले शेयर बाजार है. हाल के कुछ सालों तक यह दलाल स्ट्रीट के नाम से जाना जाता था. बंबई स्टॉक एक्सचेंज ने भारत में पूंजी बाजार और शेयर आदि की खरीद-फरोख्त को लगभग शुरू से ही देखा है और 146 साल बाद आज एक बहुत बड़ा पूंजी बाजार के तौर पर विख्यात हो गया है.

    बरगद के पेड़ के नीचे होती थी खरीद फरोख्त
    इस बाजार स्थापना 9 जुलाई 1875 में एक एसोशियन के रूप में हुई थी. इस एसोसिएशन का नाम  नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर एसोसिएशन था. 1840 में शेयर दलाल एक बरगद के पेड़ के नीचे खड़े होकर शेयरों की खरीद-फरोख्त किया करते थे. वहीं से एसोसिएशन बनाने की रूपरेखा बनी और 1875 में इस बाजार की स्थापना हुई और आज दुनिया के बड़े स्टॉक एक्सचेंज में शुमार किया जाता है.

    पेड़ बदला और फिर बनी दलाल स्ट्रीट
    आज मुंबई के हार्निमन सर्कल में टाउनहॉल के पास 1850 में बरगद के पेड़ के नीचे दलाल जमा होकर शेयरों का सौदा करते थे. इसके बाद 1860 के दशक में ये मोडोज स्ट्रीय और महात्मा गांधी रोड के जंक्शन पर स्थित बरगद के पेड़ पर शेयरों की खरीद फरोख्त होने लगी, लेकिन 1874 में नईं जगह मिली और एक साल बाद यह जगह दलाल स्ट्रीट के रूप में जाना जाने लगा.

    किन वजहों से हुई स्थापना
    1860 के दशक में मंबई में करीब 250 शेयर दलाल हो चुके थे. लेकिन 1865 के अमेरिकी गृहयुद्ध के बाद भारत में आने वाले पूंजी के प्रवाह में कमी आई, दलालों का कामकाज पूरी तरह से ठप्प हो गया. शेयरों के भाव औंधे मुंह गिरे. इन वजहों से शेयर दलालों ने अपनी एसोसिएशन बनाना तय किया और 1868 से 1873 तक एक गैर औपचारिक एसोसिएशन की रचना की.  1874 में उन्हें एक निश्चित जगह भी नियत कर दी जिसे आज दलाल स्ट्रीट कहा गया.

    Economy, India, Bombay Stock Exchange, Share trading, Capital Market, Asia, International Finance Market,
    बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) ने दुनिया में हुए हर तरह के बदलाव के मुताबिक खुद को बखूबी ढाला है.


    फिर पीछे मुड़ कर नहीं देखा
    जुलाई 8175 में 318 लोगों ने एक रुपये प्रवेश शुल्क के साथ शेयर बाजार मुंबई की संस्था गठित की और द नेटिव एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन का औपचारिक जन्म हुआ. इसके बाद एसोसिएशन ने शेयर खरीद फरोख्त के लिए  एक इमारत  के निर्माण के साथ दलालों के हितों की रक्षा के लिए काम करना भी शुरू किया. 1887 में  इस दिशा में काम आगे बढ़ता दिखने लगा जो आज के बंबई स्टॉक एक्सचेंज की नींव बना.

    क्या है आयल बांड, तेल की बढ़ती कीमतों के बीच जिसे लेकर मचा है सियासी तूफान

    बाजार को सम्मान
    ब्रिटिश शासनकाल के दौरान  18 जनवरी 1899 के दिन ब्रिटिश उच्चाधिकारी जे. एम. मेक्लिन को मुंबई के इस शेयर बाजार को बेहतर बनाने के लिए याद किया जाता है. मेक्लिन ने मुंबई के नेटिव शेयर दलालों को वह सम्मान दिलाने का प्रयास किया जिसके वे हकदार थे. यह बाजार उस समय से भारत का सबसे बड़ा पूंजी बाजार था. और इसे आज के मुंबई के निर्माण में अहम भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है.

    Economy, India, Bombay Stock Exchange, Share trading, Capital Market, Asia, International Finance Market,
    बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) ने केवल 50 दिनों में इंटरनेट आधारित ट्रेडिंग सिस्टम शुरू कर दिया था.


    आजादी के बाद और फिर इंटरनेट
    आजादी के बाद 1956 में सिक्योरिटी कॉन्ट्रैक्ट रेग्युलेशन एक्ट के जरिए बीएसई भारत सरकार द्वारा अधीकृत पहले स्टॉक एक्सचेंज बना. बीएसई सेंसेक्स यानि सूचकांक का विकास 1986 में हुआ जो बीएसई के कामकाजद के प्रदर्शन का एक उपकरण माना गया. इसके बाद 1990 के दशक के में कम्प्यूटर और बड़े शेयर बाजार घोटालों को कारण इसने नियामन नियमों में बदालव के साथ स्टॉक एक्सचेंज का विस्तार हुआ

    Cytomegalovirus: जानिए क्या हैं इसके लक्षण और कोविड-19 से इसका संबंध

    1995 में बीएसई ने केवल 50 दिन में ही इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम अपनाया लिया  और बोल्ट BOLT यानि बीएसई ऑन लाइट ट्रेडिंग की शुरुआत हुई जिसमें 80 लाख लेन देन एक दिन में करने की क्षमता थी. बीएसई दुनिया का पहला ऐसा स्टॉक एक्सचेंज है जिसने केंद्रीयकृत इंटरनेट ट्रेडिंग सिस्टम शुरू किया  है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.